बोकारो में महिला का कटा सिर मिला, धड़ तलाश करने में जुटी पुलिस

बोकारो में महिला का कटा सिर मिला, धड़ तलाश करने में जुटी पुलिस

बोकारो। झारखंड में बोकारो के सेक्टर-12 थाना क्षेत्र के बड़याडीह गांव के पास बुधवार को थैले में युवती का कटा सिर बरामद हुआ है। सिर लगभग 18 वर्षीया युवती का जान पड़ता है। पुलिसयुवती का धड़ तलाश करने में जुटी हुई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभी भी युवती के धड़ का बरामद नहीं किया जा सका है। उन्होंने बताया कि पुलिस युवती का धड़ बरामद करने के लिए जंगलों में खोजबीन कर रही है।

बोकारो सेक्टर-12 थाना के प्रभारी जयगोविंद गुप्ता ने आज बताया कि सातनपुर के ग्रामीणों ने सूचना दी कि एक गर्दन से अलग सिर फेंका हुआ है जिसके बाद पुलिस ने वहां पहुंचकर सिर को अपने कब्जे में किया। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। पुलिस युवती की शिनाख्त का प्रयास कर रही है। पुलिस इसे घरेलू हिंसा एवं किसी के द्वारा हत्या कर फेंके जाने सहित कई बिन्दुओ से देख रही है। थाना प्रभारी ने बताया कि प्रथम दृष्टया युवती 18 से 20 वर्ष की प्रतीत होती है। पुलिस ने बताया कि घटनास्थल के निरीक्षण से ऐसा प्रतीत होता है कि युवती की हत्या कहीं और करके शव यहां फेंका गया है।


ठेले पर बैठकर स्ट्रीट लाइट में पढ़ने वाला यह छात्र बनेगा इंजीनियर, बीटेक में मिला एडमिशन

ठेले पर बैठकर स्ट्रीट लाइट में पढ़ने वाला यह छात्र बनेगा इंजीनियर, बीटेक में मिला एडमिशन

यूपी के प्रयागराज में अल्लापुर के रहने वाले करन सोनकर उन छात्रों के लिए मिसाल हैं, जो पढ़ाई के नाम पर सुविधाओं की कमी गिनाते हैं। चुनौतियों से हार मानकर मंजिल की राह से पीछे हट जाते हैं। करन ने अपने हौसलों के बल पर बड़ी कामयाबी हासिल की है। गरीबी उसकी सफलता में बाधा नहीं बन पाई। झोपड़ी टूटी तो करन ने सब्जी के ठेले पर बैठकर स्ट्रीट लाइट की रोशनी में पढ़ाई की। इस वर्ष 12वीं प्रथम श्रेणी में पास कर बीटेक में प्रवेश ले लिया है।

परीक्षा के दो माह पहले तोड़ दी गई झोपड़ी : करन अपने माता-पिता के साथ अलोपीबाग में झोपड़ी में रहता था। पिता रामू सोनकर ठेले पर सब्जी बेचते थे। लेकिन नशे की लत से उन्हें बीमारी ने घेर लिया। करन ने बताया कि 2019 में सड़क चौड़ीकरण के दौरान 10वीं की परीक्षा के दो माह पहले झोपड़ी तोड़ दी गई थी। बेघर होने के कारण रात में ठेले पर बैठकर स्ट्रीट लाइट के सहारे परीक्षा की तैयारी की।

मां का छूट गया काम: करन की मां रीता देवी जगत तारन स्कूल में संविदा पर सफाई का काम करती थीं। लेकिन कोरोना में उनका भी काम छूट गया। घर में करन से छोटा एक भाई और एक बहन है।