दुखद ! इस कर्मवीर को अपना फ़र्ज़ अदा करना पड़ा भारी, उपद्रवियों ने किया ऐसा खौफनाक काम

दुखद ! इस कर्मवीर को अपना फ़र्ज़ अदा करना पड़ा भारी, उपद्रवियों ने किया ऐसा खौफनाक काम

 कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच भी 'कर्मवीर' अपना फ़र्ज़ अदा कर रहे हैं. डॉक्टर्स मरीजों का इलाज कर रहे हैं, सफाईकर्मी साफ-सफाई में लगे हैं, पुलिसकर्मी सुरक्षा कर रही हैं व सेनेटाइजेशन की जिम्मेदारी भी पूरी ईमानदारी के साथ निभाई जा रही है. 

दरअसल, कोशिश यह है कि किसी तरह से इस भयानक महामारी पर नियंत्रण पा लिया जाए. इसके बाद भी इन कर्मवीरों की उपेक्षा हो रही है. कुछ जगहों पर इनके साथ हाथापाई की गई तो कहीं, बदसलूकी की गई. ताजा मुद्दा है यूपी के रामपुर जिले से सामने आया है, जहां सेनेटाइजेशन करने गए एक युवक को सेनेटाइजर पिलाकर मृत्यु के घाट उतार दिया गया.

रामपुर के भीतर आने वाले मोतीपुरा गांव में कोरोना के खतरे के बीच सेनेटाइजेशन करने गए युवक का लोकल लोगों से झगड़ा हो गई थी, जिसके बाद कुछ दबंग युवकों ने उसे जबरदस्ती सेनेटाइजर पिला दिया. लोकल लोगों का बोलना है कि 14 अप्रैल को गांव का कुंवरपाल अपने साथी के साथ पेमपुर गांव में सेनेटाइजेशन का कार्य कर रहा था. इसी बीच वह गांव के इंद्रपाल कुंवरपाल के पास पहुंच गया. छिड़काव के दौरान इंद्रपाल पर सेनेटाइजर की कुछ बूंदें गिर गईं. इंद्रपाल को इस बात पर गुस्सा आ गया व वह कुंवरपाल से मारपीट करने लगा. कुंवरपाल का पहले मुंह दबाया गया, फिर सेनेटाइजर पिला दिया गया.

इस मुद्दे में पांच लोगों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है. एएसपी अरुण कुमार कहते हैं, 'मृतक के भाई ने हमें घटना के सम्बन्ध में सूचना दी. उसने आरोप लगाया है कि जब मृतक 14 अप्रैल को मोतीपुरा गांव में सेनेटाइजेशन करने गया था, तो कुछ असामाजिक तत्वों ने उसे पीटा था. लोकल लोगों ने युवक को रामपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां से चिकित्सकों ने रिफर कर दिया. फिर उसे मुरादाबाद जिले के टीएमयू अस्पताल में एडमिट कराया गया. 17 अप्रैल को उसकी मौत हो गई.'