रात के अंधेरे में प्रेमिका से मिलने गए लड़के की बंधक बनाकर पिटाई

रात के अंधेरे में प्रेमिका से मिलने गए लड़के की बंधक बनाकर पिटाई

यूपी (Uttar Pradesh) के आजमगढ़ (Azamgarh) जिले में युवक की मर्डर (Murder) का मुद्दा सामने आया है। रात के अंधेरे में प्रेमिका से मिलने पहुंचे प्रेमी को परिजनों ने हाथ पैर बांधकर लाठी डंडे से पिटाई कर दी, जिससे वह अधमरा हो गया। सूचना पर मौके पर जब तक पुलिस पहुंचती आरोपी घर छोड़कर फरार हो चुके थे। जिसके बाद पुलिस ने प्रेमी को रस्सी को काटकर अस्पताल में पहुंचाया जहां चिकित्सको ने उसे मृत घोषित कर दिया। गांव में तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

आजमगढ़ जिले के कप्तानगंज थाना क्षेत्र के चेंवता गांव के दलित बस्ती निवासी युवक मनीष राम 25 साल पुत्र रामलखन का अपने ही बस्ती की एक युवती से प्रेम हो गया। दोनों के बीच फोन पर वार्ता होने के साथ ही मिलने-जुलने का सिलसिला प्रारम्भ हो गया। यह जानकारी जब दोनों के परिजनों को हुई तो एक दूसरे को दूर करने के लिए प्रेमी युवक को परिजनों ने रोजगार के लिए मुम्बई भेज दिया, जिसके बाद दोनों के बीच दूरी तो बनी, लेकिन वार्ता का सिलसिला जारी रहा। इसी बीच युवक मुंबई से वापस गांव लौट आया। इसके बाद फिर से चोरी छिपे प्रेमिका से मिलने लगा।

इस तरह दिया वारदात को अंजाम
यह जानकारी जब प्रेमिका के परिजनों को लगी तो वे इससे छुटकारा पाने के लिए प्रेमी को रास्ते से हटाने की साजिश रचे। बताया जा रहा है कि प्रेमिका ने परिजनों के दबाव बीते मंगलवार की देर रात लड़के को फोन कर मिलने के लिए अपने घर बुलाया।   जैसे ही प्रेमी प्रेमिका से मिलने के घर में पहुंचा तभी परिजनों ने उसे बंधक बना लिया। परिजनों ने प्रेमी के हाथ पैर बांधने के साथ ही मुह में कपड़े भरकर जमकर पिटाई किया। जिससे वह अधमरा हो गया। इसी बीच प्रेमी के परिजनों को जब जानकारी लगी तो उन्होने पुलिस को सूचना दी। जब तक पुलिस मौके पर पहुंचती आरोपी फरार हो गये थे।
आरोपियों की तलाश जारी
पुलिस ने मृत शरीर को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वही गांव में तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि प्रेमिका से मिलने गये प्रेमी की मर्डर कर दी गयी है। इस घटना में प्रेमिका सहित पांच लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। साक्ष्यों के आधार पर आगे गिरफ्तारी की कार्रवाई की जाएगी।