असम :  भाजपा विधायक शिलादित्य देव को पुलिस ने किया अरैस्ट, जाने मुद्दा

असम :  भाजपा विधायक शिलादित्य देव को पुलिस ने किया अरैस्ट, जाने मुद्दा

देश के पूर्वोत्तर प्रदेश असम ( Assam ) से बीजेपी ( बीजेपी ) को लेकर बड़ी समाचार सामने आई है. यहां भाजपा विधायक शिलादित्य देव ( Shiladitya Dev ) को अरैस्ट ( बीजेपी MLA Arrest ) कर

लिया गया है. भाजपा विधायक को विवादित टिप्पणी ( Controversial Statement ) मुद्दे में पुलिस ( Assam Police ) ने कई संगठनों की ओर से शिकायत के बाद हिरासत में लिया है.

दरअसल भाजपा एमएलए शिलादित्य देव के विरूद्ध सम्मानित विद्वान पद्मश्री सैयद अब्दुल मलिक पर की गई विवादित टिप्प्णी की वजह से कांग्रेस पार्टी समेत कई संगठनों ने शिकायत दर्ज कर गिरफ्तारी की मांग की थी.

असम में भाजपा के विधायक को पुलिस ने अरैस्ट कर लिया. उन पर विवादित टिप्पणी करने का आरोप लगने व शिकायत दर्ज करने के बाद पुलिस ने कार्रवाई की है.

देव के बयान को लेकर गुवाहाटी के जालुकबारी थाने में सदौ असम गरिया युवा विद्यार्थी परिषद ने रविवार को एक प्राथमिकी दर्ज कराया है. विधायक की टिप्पणी को शांति खत्म करने वाला बताया गया है.

कांग्रेस ने भी की थी गिरफ्तारी की मांग
वहीं कांग्रेस पार्टी के अल्पसंख्यक विभाग ने देव के विरूद्ध गुवाहाटी में ही हांटीगांव पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज कराई है. इसके साथ ही होजाई निर्वाचन क्षेत्र के इस विधायक की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की थी.

कांग्रेस ने भी शिलादित्य देव को लेकर कड़ी रिएक्शन दी. कांग्रेस पार्टी ने बोला कि देव लगातार विवादित व सांप्रदायिक बयानबाजी करते हैं उनकी मानसिक स्थिति अच्छा नहीं है. उन्हें उपचार की आवश्यकता है. उन्हें पागलखाने भेज दिया जाना चाहिए.

असम में भाजपा के बड़े नेता व प्रदेश के अल्पसंख्यक विकास बोर्ड के प्रमुख मुमिनुल ओवाल ने भी शिलादित्य देव की विवादित टिप्पणी को लेकर इसकी कड़ी निंदा की थी. इसके साथ ही उन्होंने ये भी बोला था कि देव को सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए.

ये कहे विधायक

विधायक देव ने बयान जारी करते हुए बोला कि साहित्यकार की कविताओं में जिस तरह की बातें हैं, उसको लेकर ही उन्होंने अपना विचार रखा था. उन्होंने बोला कि उनके बयान से सरकार या बीजेपी का कोई लेनादेना नहीं है.

ये बोला था शिलादित्य देव ने
बीजेपी विधायक शिलादित्य देव ने विशिष्ट साहित्यिक पद्मश्री, पद्मविभूषण व सैयद अब्दुल मलिक को 'वैचारिक जेहादी; करार दिया था.