आप के सीएम उम्मीदवार कोठियाल के कार्यक्रम में मोदी समर्थक युवती का हंगामा, कहा...

आप के सीएम उम्मीदवार कोठियाल के कार्यक्रम में मोदी समर्थक युवती का हंगामा, कहा...

शहर में आयोजित आम आदमी पार्टी की जनसभा में उस समय बवाल हो गया जब एक युवती आप के कार्यक्रम में मंच पर आ गई। युवती ने मोदी को निष्ठा से काम करते हुए बताते हुए हंगामा किया। साथ ही आप के कार्यक्रम पर सवाल उठाने लगी। कार्यकर्ताओं ने उसके हाथ से माइक छीन लिया तो रोने लगी। उसने कहा कि मैं कर्नल कोठियाल से कुछ सवाल करना चाहती हूं। इसी बीच पुलिस ने बमुश्किल युवती पर काबू पाकर उसे आयोजन स्थल से दूर किया।

शनिवार को आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा रैली और जनसभा का आयोजन किया गया। दोपहर करीब दो बजे पार्टी के सीएम उम्मीदवार कर्नल अजय कोठियाल मल्लीताल श्रीराम सेवक सभा में लोगों को संबोधित कर रहे थे। इसी बीच एक युवती मंच पर चढ़ गई, जो कर्नल कोठियाल से कुछ सवाल करने की बातें कह रही थी। पर कार्यकर्ताओं ने युवती की बात को अनसुना कर दिया। करीब 15 मिनट बाद जब कोठियाल का संबोधन समाप्त हुआ तो युवती माइक छीनने पर उतारू हो गई। और भरे मंच से कर्नल कोठियाल से सवाल किए जाने की बात करने लगी। इसके बाद आप कार्यकर्ताओं ने युवती से माइक जीना तो वह भड़क गई। और रोते हुए उसमें भरे मंच में हंगामा खड़ा कर दिया। इसी बीच कोतवाल प्रीतम सिंह अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मंच पर पहुंच गए। बमुश्किल युवती पर काबू पाया और उसे आयोजन स्थल से दूर ले गए। युवती ने पत्रकारों से रूबरू होकर कहा कि प्रधानमंत्री देश हित के लिए कार्य कर रहे है। उनके खिलाफ बोलना न्यायोचित नहीं है। इस तरह के राजनैतिक आयोजनों में प्रदेश हित की बात तो नहीं होती, पार्टियां महज एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप ही करती है।

राजनीतिक आयोजन में  किसी अन्य पार्टी समर्थक द्वारा हंगामा किए जाने से आप कार्यकर्ताओं ने भी पुलिस सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए। साथ ही आप नेताओं ने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह जानबूझकर इस तरह का विरोध खड़ा करवा रहे हैं। पूछताछ में है युवती ने बताया कि वह मोदी की समर्थक है। मंच से देश के प्रधानमंत्री को लेकर गलत बयान करना न्यायोचित नहीं है। कहा कि वह इतने वर्षों से देखते हुए आ रही हैं कि कोई भी सरकार प्रदेश का विकास तो नहीं कर पाई। मगर चुनाव के ठीक पहले जनसभा, रैली जैसे आयोजन करके दूसरी पार्टी पर आरोप प्रत्यारोप कर बस जनता को बरगलाने का काम किया जाता है।


उत्‍तराखंड में प्राथमिक शिक्षकों के 451 पदों पर भर्ती के आदेश

उत्‍तराखंड में प्राथमिक शिक्षकों के 451 पदों पर भर्ती के आदेश

प्राथमिक शिक्षकों के रिक्त 451 पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया प्रारंभ करने का रास्ता साफ हो गया। अब दिव्यांगजनों के बैकलाग के पद भी भरे जाएंगे। शिक्षा सचिव डा बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने गुरुवार को इस संबंध में प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को आदेश जारी किए।

हाईकोर्ट ने बीती 22 सितंबर को आदेश जारी कर प्राथमिक शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने के लिए नई नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करने को कहा था। इससे पहले हाईकोर्ट ने बीती नौ सितंबर को अवमानना वाद में जिलों में प्राथमिक शिक्षक भर्ती में दिव्यांगजनों के बैकलाग की पूर्ति करने के आदेश दिए थे।


दरअसल प्रदेश में प्राथमिक शिक्षकों के 2648 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। हाईकोर्ट के आदेश के मद्देनजर विभाग ने 451 रिक्त पदों पर भर्ती का प्रस्ताव शिक्षा मंत्री को भेजा था। शिक्षा मंत्री से मंजूरी मिलने के बाद शासन ने भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के आदेश जारी कर दिए।

विधानसभा में हुआ योगाभ्यास

विधानसभा में प्रतिमाह होने वाले योग शिविर के अंतर्गत गुरुवार को विधानसभा कर्मचारियों ने योगाभ्यास किया। इस दौरान उन्होंने विभिन्न प्रकार के योगासन व प्राणायाम की क्रियाएं की। विधानसभा परिसर में आयोजित हुए कार्यक्रम में योगाचार्य सविता उपाध्याय ने कहा कि योग व्यक्ति के भीतर स्फूर्ति का संचार करता है। नियमित योग करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि होती है।

 
उत्कृष्ट कोविड सेवा के लिए होंगे पुरस्कृत

उत्तराखंड राज्य के 21वें स्थापना दिवस पर उत्कृष्ट कोविड-19 सेवा के लिए सरकारी कार्मिक, गैर सरकारी संगठन व अन्य नागरिक पुरस्कृत किए जाएंगे। मुख्य सचिव डा एसएस संधु ने इस संबंध में संबंधित विभागों को निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव डा संधु ने गुरुवार को सचिवालय में सभागार में राज्य स्थापना दिवस नौ नवंबर को होने वाले कार्यक्रमों के संबंध में समीक्षा बैठक की। उन्होंने मुख्य कार्यक्रम के साथ ही प्रत्येक जिले में होने वाले कार्यक्रमों में कोविड-19 की गाइडलाइन का अनिवार्य रूप से पालन करने के निर्देश दिए। उन्होंने विभिन्न विभागों से उनसे संबंधित आयोजन की तैयारी को पूरा करने को कहा है।

मुख्य सचिव ने कहा कि आपदा प्रबंधन में निभाए गए अनुकरणीय दायित्व व अन्य महत्वपूर्ण प्रयासों के लिए पात्र व्यक्तियों को भी राज्य स्थापना दिवस पर सम्मानित किया जाना चाहिए। इस संबंध में विभिन्न विभागों को आपसी समन्वय से कार्यक्रम की संपूर्ण रूपरेखा बनाने की हिदायत दी गई। बैठक में प्रमुख सचिव आरके सुधांशु, एल फैनई, सचिव रंजीत सिन्हा, पंकज पांडेय, बीवीआरसी पुरुषोत्तम, हरबंस सिंह चुघ, पुलिस महानिरीक्षक एपी अंशुमन, प्रभारी सचिव विनोद कुमार सुमन मौजूद थे।