यूपी सरकार देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा, बड़े शहरों में दस और छोटे शहरों में पांच स्थान होंगे चिन्हित

यूपी सरकार देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा, बड़े शहरों में दस और छोटे शहरों में पांच स्थान होंगे चिन्हित

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार शहरों में मुफ्त इंटरनेट की सुविधा देने की योजना बना रही है। इस योजना के तहत बड़े शहरों में 10 और छोटे शहरों में पांच स्थानों पर वाईफाई सुविधा प्रदान करेगी। पहले बड़े शहरों में पांच और छोटे शहरों में दो स्थानों पर यह सुविधा देने का फैसला हुआ था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अक्तूबर के पहले हफ्ते में इस योजना का शुभारंभ करेंगे।

अपर मुख्य सचिव नगर विकास डा. रजनीश दुबे ने नगर आयुक्त व अधिशासी अधिकारियों को इस दिशा में काम शुरू कराने के निर्देश दिए हैं। शासनादेश में कहा गया है कि सरकार आमजन तक तीव्र व सुलभ सूचना और संचार की पहुंच देने के लिए बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन के समीप, तहसील, कचहरी, ब्लाक, रजिस्ट्रार कार्यालय, मुख्य बाजार, अस्पताल आदि स्थानों पर यह सुविधा दी जाएगी।

राज्य सरकार के मिशन युवा के तहत मुफ्त वाईफाई की सुविधा उपलब्ध कराना एक महत्वपूर्ण काम है। इसलिए 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में कम से कम 10 और 10 लाख से कम आबादी वाले शहरों में पांच स्थानों पर यह सुविधा दी जाएगी। स्मार्ट सिटी योजना में मुफ्त वाईफाई की सुविधा दे पाना संभव न होने पर निकाय स्वयं के स्रोतों यानी निकाय निधि से यह सुविधा उपलब्ध कराएंगे।


उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ, कानपुर, आगरा, अलीगढ़, वाराणसी, प्रयागराज, झांसी, बरेली, सहारनपुर, मुरादाबाद, गोरखपुर, अयोध्या, मेरठ, शाहजहांपुर, गाजियाबाद, मथुरा-वृंदावन और फीरोजाबाद नगर निगम वाले शहरों के अलावा नगर पालिका परिषद वाले छोटे शहरों में भी मुफ्त वाईफाई की सुविधा प्रदान करेगी। फ्री वाईफाई की सुविधा खासकर बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, तहसील, कचहरी, ब्लाक और रजिस्ट्रार कार्यालय के आसपास दी जाएगी। इसके लिए स्थान चिह्नित करने के लिए कहा गया है।


अपर मुख्य सचिव नगर विकास डा. रजनीश दुबे ने नगर आयुक्तों व अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिया है कि स्मार्ट सिटी परियोजना या फिर नगरीय निकाय अपने स्रोत से इसका खर्च उठाएंगे। निकायों से कहा गया है कि सुविधा देने की जानकारी अनिवार्य रूप से उपलब्ध करानी होगी।

नगरीय निकाय मुफ्त वाईफाई सुविधा देने के लिए इंटरनेट कंपनियों से कांटैक्ट करेंगे। वाईफाई में इंटरनेट की स्पीड पर विशेष ध्यान रखा जाएगा। कंपनियों के साथ करार में नेटवर्क ठीक से काम करे यह शर्त होगी। यह सुविधा केवल दिखावे के लिए नहीं होना चाहिए। इसके लिए रिपोर्ट भी तैयार की जाएगी कि नेटवर्क की स्पीड कितनी है। सरकार का मानना है कि इस सुविधा से लोग अपनी जरूरतों के आधार पर किसी भी स्थान पर बैठकर अपना काम कर सकेंगे। मौजूदा समय लोगों को इंटरनेट सुविधा की काफी जरूरत पड़ती है।


गोरखपुर में बोले CM योगी, कोरोना काल में दुनिया ने देखा सरकार का मानवीय चेहरा

गोरखपुर में बोले CM योगी, कोरोना काल में दुनिया ने देखा सरकार का मानवीय चेहरा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने 1 950 के दशक में समाज के अंतिम व्यक्ति के विकास का जो सपना देखा था, सात दशक बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसे पूरा कर रहे हैं। बीते सात वर्ष से उन्होंने गरीबों के उत्थान के लिए निरंतर प्रयास किया है जबकि पिछली सरकारों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। मुख्यमंत्री शनिवार को पं. दीनदयाल की जयंती पर दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन परिसर में पं. दीनदयाल की प्रतिमा पर पुष्पांजलि करने के बाद मौजूद शिक्षकों और कर्मचारियों को संबोधित कर रहे थे।

गोविवि के प्रशासनिक भवन में मुख्यमंत्री ने पं. दीनदयाल की प्रतिमा पर की पुष्पांजलि

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री की अगुवाई में गरीबों के कल्याण के लिए बीते सात वर्ष में जो भी योजनाएं लागू हुई हैं, अंत:करण से उसकी प्रेरणा पं. दीनदयाल के अंत्योदय और एकात्म मानववाद से मिली। पं. दीनदयाल का स्पष्ट मत था कि हमारी योजनाओं का आधार समाज का संपन्न नहीं बल्कि अंतिम व्यक्ति होना चाहिए। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में आज हर गरीब को आवास, शौचालय, एलपीजी गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया जा रहा है। आयुष्मान योजना के तहत पांच लाख रुपये तक का स्वास्थ्य सुरक्षा कवच दिया जा रहा है। इन योजनाओं का लाभ किसी का चेहरा, जाति, मजहब, क्षेत्र देखकर नहीं दिया जा रहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल के दौरान कई ऐसे कार्यक्रम शुरू हुए, जिससे लोककल्याणकारी सरकार का मानवीय चेहरा दुनिया के सामने आया। इसे पूरी दुनिया ने देखा।


दो साल में 15 महीने गरीबों को मुफ्त राशन दिया

आमतौर पर महामारी के समय बीमारी से तो मौतें हाेती ही हैं, भूख भी इसकी वजह बनती है पर सरकार ने ऐसा नहीं होने दिया। पिछले दो साल में 15 महीने गरीबों को मुफ्त राशन दिया गया। देश में 80 और प्रदेश में 15 करोड़ लोग इससे लाभान्वित हुए। निश्चित रूप से यह कल्याणकारी योजनाएं एक भारत श्रेष्ठ भारत की संकल्पना को आगे बढ़ाने की माध्यम बनेंगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि पं. दीनदयाल की जयंती पर हर ब्लाक मेंं गरीब कल्याण मेला आयोजित किया जा रहा है। हर नागरिक काे सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले, यह मेला इसे सुनिश्चित करेगा। इस दौरान कुलपति प्रो. राजेश सिंह, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. अजय सिंह, अधिष्ठाता विज्ञान संकाय प्रो. शांतनु रस्तोगी, प्रो. नंदिता सिंह, भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष डा. धर्मेंद्र सिंह, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राहुल श्रीवास्तव, महानगर अध्यक्ष राजेश गुप्ता, डा. सत्येंद्र सिन्हा आदि मौजूद रहे।