गंदगी फैलाने पर हुआ दो हजार रुपये का जुर्माना

गंदगी फैलाने पर हुआ दो हजार रुपये का जुर्माना

लोगों की कम्पलेन सुनती नगरायुक्त गजल भारद्वाज

सहारनपुर नगर निगम में मंगलवार को नवनियुक्त नगरायुक्त गजल भारद्वाज ने पहली जन सुनवाई में लोगों की कम्पलेन सुनी. जनसुनवाई में 28 लोग कम्पलेन लेकर पहुंचे. जिनमें से14 शिकायतों का त्वरित निस्तारण किया गया. उनमें स्वास्थ्य विभाग से संबंधित साफ-सफाई की सभी शिकायतें शामिल हैं. सभी शिकायतकर्ता को कार्रवाई से अवगत कराया गया. नवनियुक्त नगरायुक्त गजल भारद्वाज ने पहली बार जिले में लोगों की कम्पलेन सुनी.

प्लाट में से गंदगी का निस्तारण कराया

प्रवर्तन दल प्रभारी से जानकारी लेती नगरायुक्त

जनसुनवाई कार्यक्रम के दौरान कुल 28 शिकायतों की सुनवाई हुई. इन शिकायतों में 4 सफाई, 13 निर्माण, 3 अतिक्रमण, 2 संपत्ति तथा बाकी अन्य विभागों से संबंधित रही. पंत एंक्लेव निवासी केतन सेठी ने खाली प्लाट पर गंदगी फैलाने की कम्पलेन की तो तुरंत सफाई निरीक्षक अमित तोमर ने प्रवर्तन दल के साथ वहां पहुंचकर गंदगी फैलाने वाले ज्ञानचंद पर दो हजार रुपये का जुर्माना लगाया. इसके अतिरिक्त पूर्व सभासद मोहर्रम अली पप्पू तथा अमन गुप्ता और देशपाल शर्मा ने कूड़ा उठान और सफाई न होने की शिकायतें की जिनका तुरंत कर्मचारी भेजकर निस्तारण कराया गया.

गोविंद नगर निवासी नरेन्द्र खोटियान ने भी पार्क के डस्टबीन से कूड़ा उठान न होने तथा पार्क के पेड़ों की छटाई कराने के लिए प्रार्थना पत्र दिया. नगरायुक्त ने तुरंत निस्तारण के साथ मुख्य सफाई निरीक्षक को निर्देश दिए कि अस्पतालों, विद्यालयों और पार्को के आस पास के कूड़ाघरों से कूड़ा उठान की हर रोज रिपोर्ट मंगवाएं. नगरायुक्त गजल भारद्वाज ने प्लाटों में कूड़ा कचरा डालने वालों पर जुर्माना लगाने के निर्देश दिए.

तालाबों पर गैर कानूनी निर्माण से नालों का निर्माण अटका
पार्षद प्रतिनिधि ललित कटारिया ने पिंजौरा गांव के ग्रामीणों की ओर से कम्पलेन की कि तालाब पर किये गए गैर कानूनी निर्माण के कारण नाले का निर्माण नहीं हो पा रहा है. नगरायुक्त ने अपर नगरायुक्त और प्रवर्तन दल प्रभारी को स्थलीय निरीक्षण कर तुरंत कार्रवाई के निर्देश दिए. नालों और सड़कों की शिकायतों के संबंध में नगरायुक्त ने निर्माण विभाग के ऑफिसरों को स्थलीय निरीक्षण कर एस्टीमेट बनाने के निर्देश दिए. उन्होंने उन निर्माण कार्यो का ब्यौरा मांगा, जिनके टेंडर हो चुके हैं और कार्य शुरु नहीं हो सका है. कुछ लोगों की कम्पलेन थी कि उनकी गलियों की स्थिति बहुत खराब है, बरसात में जलभराव से स्थिति और बदत्तर हो जाती है. नगरायुक्त ने ऑफिसरों से शहर के उन सब स्थानों का ब्यौरा मांगा जहां जलभराव की स्थिति रहती है, तथा उन स्थानों से बरसात में पानी भरने पर उसकी निकासी की क्या प्रबंध निगम की ओर से की गई है. इसका विवरण देने के भी निर्देश दिए.

पेंशन न मिलने की शिकायत
सेवानिवृत्त पंप ऑपरेटर राजीव ने अभी तक अपनी पेंशन न मिलने की कम्पलेन की. नगरायुक्त ने निर्देश दिए कि इस संबंध में निदेशालय से संपर्क किया जाए. उन्होंने यह भी जानकारी मांगी कि कितने कर्मचारियों की पेंशन अभी नहीं बनी है. एक शिकायतकर्ता की कम्पलेन थी कि जैन कॉलेज रोड पर एक स्वीट्स दुकानदार ने नाले के ऊपर कई मंजिला दुकान बना ली है, जिसके कारण अब निर्माणाधीन नाले को मोड़ने का कोशिश किया जा रहा है. नगरायुक्त ने निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि स्वीट्स दुकानदार को नोटिस दें कि या तो वह अपना निर्माण स्वयं तोड़ ले वरना निगम को तोड़ना पडे़गा. इसके अतिरिक्त पार्षद मोहरसिंह, हाजी नूर आलम, नौशाद और प्रदीप उपाध्याय आदि ने भी अपने अपने वार्डों की समस्याओं के निवारण के लिए प्रार्थना पत्र दिए. जनसुनवाई के दौरान अपर नगरायुक्त राजेश यादव और जीएम जलकल मनोज आर्य सहित सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे.