SSP ने कहा-गोरखपुर के थाने में नहीं हो रही सुनवाई तो कंट्रोल रूम में करें शिकायत

SSP ने कहा-गोरखपुर के थाने में नहीं हो रही सुनवाई तो कंट्रोल रूम में करें शिकायत

थाना पुलिस यदि आपकी समस्या की सुनवाई नहीं कर रही है तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। समस्याओं के आनलाइन निस्तारण के लिए एसएसपी के कैंप कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। यहां पुलिस कर्मी आनलाइन अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। अभी समस्याएं एसएसपी की सीयूजी 9454400273 के माध्यम से अटेंड की जाएगी। आने वाले दिनों में इंटरनेट मीडिया के माध्यम से भी लोगों की समस्याएं सुनी जाएंगी।

एसएसपी दिनेश कुमार पी खुद इसकी मानिटरिंग करेंगे। समस्या वास्तविक होने पर थाने से पुलिस टीम भेजकर उसका निराकरण कराया जाएगा। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा कि आये दिन अधिकारियों के पास व जनता दरबार में लगने वाली भीड़ से यह संदेश जा रहा है कि थानों पर पुलिस सुन नहीं रही है। ऐसे में फरियादियों को अधिकारियों के कार्यालय का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा, बल्कि वह आनलाइन शिकायत कर सकते हैं। शिकायत सही मिलने पर संबंधित पुलिस कर्मी के विरुद्ध कार्रवाई भी होगी। शिकायत को गोपनीय रखा जाएगा।

एफआइआर दर्ज कराने के लिए दिया ज्ञापन

तारामंडल के सिद्धार्थपुरम कालोनी में डा. आरके पांडेय के घर हुई चोरी के मामले में एफआइआर दर्ज कराने की मांग को लेकर कांग्रेसियों ने एसएसपी को ज्ञापन दिया। बताया कि तारामंडल क्षेत्र में चोरों की सक्रियता बढ़ गई है। इस दौरान महानगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आशुतोष तिवारी, दिनेश चंद्र श्रीवास्तव, राकेश राम त्रिपाठी, श्यामशरण श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

दो आरोपित गिरफ्तार

गोरखनाथ थाना पुलिस ने चोरी की दो बाइक के साथ दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपितों में शामिल अजय ङ्क्षसह गोरखनाथ थाने के हड़हवा फाटक का रहने वाला है, जबकि दूसरा आरोपित अमित गुप्ता आजमगढ़ जिले के कप्तानगंज थाने का निवासी है। उसने कुशीनगर के कप्तानगंज थाना क्षेत्र बाइक चोरी की थी। जबकि अजय ने गोरखनाथ थाना क्षेत्र से बाइक चोरी की थी। प्रभारी निरीक्षक गोरखनाथ रामआज्ञा सिंह ने बताया कि दोनों आरोपितों को सुबह जगेश्वर पासी मंदिर के पास से गिरफ्तार किया गया है। दोनों भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में सक्रिय रहते हैं। वाहन चोरी के बाद यह दूसरे जिले में उसे छिपा देते हैं। बाद में उसे मौका देखकर बेच देते हैं।


पूर्व CM कल्याण सिंह की हालत नाजुक, हाल जानने PGI पहुंचीं उमा भारती

पूर्व CM कल्याण सिंह की हालत नाजुक, हाल जानने PGI पहुंचीं उमा भारती

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के स्‍वास्‍थ्‍य की स्थिति बेहद नाजुक बनी हुई है। लखनऊ के संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआइ) से मिली जानकारी के अनुसार क्रिटिकल केयर मेडिसिन के गहन चिकित्सा कक्ष (आइसीयू) में विशेषज्ञ चिकित्सकों की देखरेख में उनका उपचार चल रहा है। उनके गुर्दे तीन दिन से ठीक तरह से काम नहीं कर रहे हैं। डॉक्टरों ने डायलिसिस शुरू कर दी है। बुधवार को मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती ने अस्पताल पहुंचकर कल्याण सिंह का हालचाल लिया। उमा भारती ने डॉक्टरों और परिवारीजन से उनके स्वास्थ्य के बारे में बातचीत भी की।

लखनऊ संजय गांधी पीजीआइ में भर्ती चल रहे पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को देखने के लिए बुधवार को भाजपा नेता उमा भारती भी पहुंचीं। वहां पहुंचकर उन्होंने डॉक्टरों से कल्याण सिंह की सेहत का हालचाल जाना। हालांकि इस दौरान कल्याण सिंह अचेत अवस्था में रहे। उमा भारती ने एसजीपीजीआइ के डॉक्टरों और पूर्व सीएम के परिवारजन से मुलाकात कर उनकी तबीयत के बारे में अपडेट लिया। डॉक्टरों के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री की हालत लगातार चिंताजनक और नाजुक बनी हुई है। इससे पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल्याण सिंह का हाल लिया। उनके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में जानकारी ली।


पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की किडनी की कार्य शक्ति काफी कम हो गई है। इस कारण उनकी लगातार डायलिसिस की जा रही है। स्वास्थ्य स्थिति अभी भी नाजुक बनी हुई है। वह लाइफ सेविंग सपोर्ट सिस्टम पर हैं। वह लगातार डायलिसिस पर हैं। विशेषज्ञ सलाहकारों द्वारा उनके नैदानिक मापदंडों की बारीकी से निगरानी की जा रही है। सीसीएम कार्डियोलॉजी, नेफ्रोलाजी, न्यूरोलॉजी और एंडोक्रिनोलॉजी उनके स्वास्थ्य से जुड़े तमाम पहलुओं पर कड़ी नजर रखे हुए हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को तीन जुलाई के देर रात लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया था, जहां से हालत गंभीर होने के बाद चार जुलाई की शाम संजय गांधी पीजीआइ में शिफ्ट किया गया। उनको पीजीआइ के सीसीएम (क्रिटिकल केयर मेडिसिन) डिपार्टमेंट के आइसीयू (इंटेंसिव केयर यूनिट) में भर्ती किया गया है। कल्याण सिंह का हालचाल लेने के लिए लगातार पार्टी के वरिष्ठ नेता पहुंच रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके इलाज की लगातार निगरानी कर रहे हैं।