कोरोना संक्रमण: मथुरा में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आई, तीन कोरोना संक्रमित विदेश हुए रवाना

कोरोना संक्रमण: मथुरा में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आई, तीन कोरोना संक्रमित विदेश हुए रवाना

मथुरा में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। वृंदावन के शीतल छाया में मिले 10 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से तीन विदेश रवाना हो गए। मंगलवार को आई रिपोर्ट में एक रसियन युवती कोरोना पॉजिटिव मिली है। फिलहाल सात मरीज वृंदावन में होम आइसोलेट हैं। 

जिला कोविड कंट्रोल प्रभारी डॉ. भूदेव सिंह ने बताया कि विदेश गए तीन मरीजों ने शनिवार को एक निजी लैब से टेस्ट कराया, इसकी रिपोर्ट सोमवार को स्वास्थ्य विभाग को मिली। स्वास्थ्य विभाग ने जब मरीजों की जानकारी की तो पता चला वह अपने देश रविवार को ही चले गए। अपने देश जाने वालों में दो रूस और एक स्विट्जरलैंड का नागरिक है। तीनों संक्रमितों के स्वदेश लौटने के बाद स्वास्थ्य विभाग में चिंता बढ़ गई है। विदेशियों ने कंटेनमेंट जोन के नियमों का भी पालन नहीं किया।

स्वास्थ्य विभाग ने मांगी एयरपोर्ट से रिपोर्ट 
वृंदावन में निकले तीन संक्रमितों के अपने देश लौटने के बाद स्वास्थ्य विभाग में खलबली है। स्वास्थ्य विभाग ने एयरपोर्ट प्रबंधन से रिपोर्ट मांगी है। स्वास्थ्य विभाग यह पता करने में जुटा है कि आखिर यह लोग बिना रिपोर्ट के स्वदेश कैसे चले गए। सीएमओ डॉ. रचना गुप्ता ने बताया कि 10 संक्रमितों में से तीन अपने देश लौट गए। पांच होम आइसोलेट हैं, एक यूएस का सिटीजन है, उसकी कांटेक्ट ट्रेसिंग कर रहे हैं। हमारे यहां कोरोना की संभावना न के बराबर है, इसलिए यह संभावना कम है कि वे यहां संक्रमित हुए। संभावना है कि विदेशी नागरिक या तो किसी विदेशी के संपर्क में आए या फिर अपने देश से ही संक्रमित आए। 

वृंदावन के पर्यटन को बढ़ा झटका
पिछले लगभग डेढ़ वर्ष से मंदी की मार झेल रहा पर्यटन का कारोबार जैसे तैसे पटरी पर लौटा कि पिछले कई दिन से वृंदावन में संक्रमित निकल रहे विदेशी मेहमानों के कारण वृंदावन के पर्यटन को नुकसान होने लगा है। लगातार विदेशी भक्तों की आवक कम होती जा रही है। कोरोना के बढ़ते केसों को देखते हुए इस्कॉन ने भी अपने यहां गाइडलाइन जारी कर दी है। यहां हर दिन लोगों के सैंपल लेकर जांच कराई जा रही है। मंगलवार को सौ लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। इसके साथ प्रेम मंदिर ने भी अपने कर्मचारियों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे हैं। इधर बाजार में भी विदेशी भक्तों का आवागमन कम हो गया है। उधर, सीएमओ ने सभी होटल व गेस्टहाउस मालिकों से कहा कि जो भी आपके यहां विदेशी रुके, उसका कोरोना टेस्ट जरूर कराएं।


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।