यूपी में 'आप' का सपा से हो सकता है गठबंधन, केजरीवाल ने भी दिए संकेत

यूपी में 'आप' का सपा से हो सकता है गठबंधन, केजरीवाल ने भी दिए संकेत

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन हो सकता है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और 'आप' सांसद संजय सिंह के बीच मुलाकात के बाद अटकलें लग रही हैं। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी संकेत दिया है। उन्होंने माना है कि दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात यूपी की राजनीति को लेकर ही थी।

अखिलेश यादव और संजय सिंह के बीच मुलाकात को लेकर एएनआई से बात करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के संयोजक ने कहा कि यह बैठक उत्तर प्रदेश की राजनीति को लेकर ही थी। कुछ ही महीने बाद यूपी में होने जा रहे चुनाव से पहले जहां समाजवादी पार्टी को नए साथियों की तलाश है तो 'आप' को भी यहां जमीन तलाशने के लिए सहारे की जरूरत है।

बुधवार को अखिलेश यादव और आप के यूपी प्रभारी संजय सिंह के बीच मुलाकात हुई थी। बताया गया कि भारतीय जनता पार्टी को बाहर करने के लिए दोनों पार्टियां साथ काम करना चाहती हैं। 'आप'  नेता की मुलाकात से एक दिन पहले ही सपा ने राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन का ऐलान किया था। संजय सिंह और अखिलेश के बीच मुलाकात के बाद सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा था, ''हां, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और आप नेता संजय सिंह ने बुधवार को मुलाकात की। दोनों ही दल 2022 विधानसभा चुनाव में सपा को बाहर करने के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमत हैं।''


'10-10 हजार सदस्य बनाने का टारगेट', चुनाव से पहले कांग्रेस के इस फैसले ने बढ़ाई टिकट दावेदारों की टेंशन

'10-10 हजार सदस्य बनाने का टारगेट', चुनाव से पहले कांग्रेस के इस फैसले ने बढ़ाई टिकट दावेदारों की टेंशन

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के एक फैसले ने टिकट दावेदारों की टेंशन बढ़ा दी है. कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि सभी दावेदारों को करीब 10 हजार नए सदस्य बनाने होंगे. इन सदस्यों से सदस्यता शुल्क के तौर पर 5-5 रुपये भी लेने के लिए कहा गया है.

कांग्रेस सूत्रों की मानें तो पार्टी यूपी में करीब 1 करोड़ नए सदस्य बनाने की तैयारी में जुटी हुई है. पार्टी ने सदस्यता की जिम्मेदारी कांग्रेस में टिकट दावेदारों के जिम्मे दे दी है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान के इस फैसले से टिकट दावेदारों की मुश्किलें बढ़ा दी है.

चुनाव के ऐन वक्त पहले किसी भी विधानसभा में 10 हजार सदस्य बनाना पार्टी कैंडिडेट के लिए एक चुनौती भरा काम है. हालांकि कुछ कैंडिडेट दबी जुबान से हाईकमान के इस फैसले को लेकर सवाल उठा रहे हैं. बता दें कि पिछले दिनों छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने सदस्यता अभियान की शुरुआत की थी.

कांग्रेस ने दावेदारों से मांगे हैं आवेदन- बता दें कि यूपी में टिकट वितरण से पहले कांग्रेस पार्टी ने दावेदारों से आवेदन मांगे हैं. पार्टी ने इस संबंध में फॉर्म भी जारी किया था. सीट पर उम्मीदवारों को जानकारी के साथ ही कुछ शुल्क भी जमा करना था. वहीं पार्टी इस चुनाव में 403 सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ऐलान करते हुए कहा था कि पार्टी इस बार 40 फीसदी सीटों पर महिलाओं को उम्मीदवार बनाएगी. बता दें कि लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस यूपी की सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारी थी, लेकिन रायबरेली छोड़ कहीं भी जीत नहीं मिली.