CM योगी ने बताया भाजपा शासन में आखिर किस तरह बदले यूपी के हालात

CM योगी ने बताया भाजपा शासन में आखिर किस तरह बदले यूपी के हालात

दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा शहर में जागरण विमर्श के तहत 'यूपी-एनसीआर: आशाएं और चुनौतियां' विषय पर अपने संबोधन में योगी आदित्यनाथ ने पिछली सरकारों को घेरते हुए भाजपा सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धियों का भी जिक्र किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पहले यह कहा जाता था कि जहां से गड्ढे शुरू हुए वहीं से यूपी की सीमा शुरू हुई, लेकिन अब हालात बदले हैं। अब उत्तर प्रदेश की पहचान बदल चुकी है। उत्तर प्रदेश की सीमाओं में प्रवेश करते ही अब अंधेरे नहीं उजाले से स्वागत होता है। इसके साथ ही कमरतोड़ गड्ढे वाले उत्तर प्रदेश की पहचान बदल चुकी है।

जल्द शुरू होगा फिल्म सिटी का निर्माण

सीएम योगी ने प्रदेश सरकार के विकास कार्यों को लेकर कहा कि हम यहां (ग्रेटर नोएडा) नई फिल्म सिटी बनाने जा रहे हैं, जिसकी औपचारिकता लगभग पूरी हो चुकी हैं। जल्द ही इसका निर्माण शुरू हो जाएगा। 


कानपुर में जल्द दौड़ेगी मेट्रो

सीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश के कुल 4 शहरों में मेट्रो का संचालन शुरू हो चुका है और आने वाले दिनों में कानपुर में मेट्रो का संचालन भी शुरू हो जाएगा। इसके अलावा, उत्तर प्रदेश में 5 नए एक्सप्रेस-वे बनाए जा रहे हैं।

प्रदूषण पर लगाम के लिए होगी इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद

अपने संबोधन में योगी आदित्यनाथ ने प्रदूषण को कम करने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद और बिक्री जोर देने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए प्रदेश सरकार की तरफ से बेहतर जाएगा। इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री ने कहा कि सिटी बस की सेवा को इलेक्ट्रिक बस सेवा के रूप में बदला जाएगा।


ईज आफ डूइंग में दूसरे स्थान पर आया सूबा

योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में विकास कार्य और कारोबार-व्यवसाय के माहौल होने की बात कही। इसके  साथ उन्होंने कहा कि ईज आफ डूइंग बिजनेस के मामले में उत्तर प्रदेश 15 स्थान से दूसरे स्थान पर आ गया है और छठी अर्थव्यवस्था से आगे बढ़कर देश की दूसरी अर्थव्यवस्था बन गया है। भविष्य में उत्तर प्रदेश को देश की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाएंगे।


उमंग के साथ लोग बढ़ना चाहते हैं आगे

प्रदेश का प्रत्येक जनपद प्रत्येक प्राधिकरण अलग-अलग क्षेत्र में कार्य करने वाली सभी संस्थाएं पूरी प्रतिबद्धता के साथ पूरी ईमानदारी के साथ आमजन के लिए संवेदनशील बनते हुए लक्ष्यों को प्राप्त करने में आगे बढ़ रहे हैं। अगले 5 वर्ष उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था के लिए बहुत महत्वपूर्ण होंगे। 

भय मुक्त भ्रष्टाचार मुक्त यूपी


उन्होंने कहा कि सूबे में हर स्तर पर समस्याओं का समाधान करने के लिए कार्य किया जा रहा है। ये समस्याएं हैं जो बरसों से लंबित थी और कभी इनको संज्ञान नहीं लिया गया। कभी सूबे में अराजकता सिर चढ़कर बोलती थी, लेकिन अब हर व्यक्ति उमंग और उत्साह के साथ उत्तर प्रदेश में बढ़ना चाहता है।उत्तर प्रदेश बनाने में भारतीय जनता पार्टी ने भय मुक्त और भ्रष्टाचार मुक्त सरकार बनाने में सफलता पाई है।

कोरोना काल में भी बेहतर काम किया

देश की सबसे बड़ी आबादी के राज्य यूपी का चेहरा है गौतमबुद्धनगर और इस चेहरे ने बीते साढ़े 4 वर्ष में पूरे देश को संदेश दिया है। सुरक्षा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट गरीबों से जुड़ी योजनाएं सभी को आगे बढ़ाने के लिए शासन के प्रति बताएं किसी से छुपी नहीं हैं। यही कारण है जब पूरी दुनिया सदी की सबसे बड़ी महामारी से पस्त थी, तब भी हमने काम किया।


नोएडा आकर तोड़ा रूढ़ि को

योगी ने कहा कि एनसीआर का क्षेत्र अलग-अलग कारणों से जाना जाता है। खास तौर पर गौतम बुद्धनगर जनपद को पूर्व के मुख्यमंत्रियों द्वारा अभिशप्त माना जाता था। हमने इस रूढ़ि को तोड़ा है। सुरक्षा, सुशासन और विकास के सरकार के एजेंडे का लाभ एनसीआर को भी मिल रहा है।

बिना भेदभाव सबके लिए किया काम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उपस्थित अतिथियों के सवालों का दौर के क्रम में एक सवाल के जवाब में कहा कि पिछली सरकारों ने किसानों के साथ अन्याय किया है। 1451 ऐसे मामले हैं, जिनका निस्तारण शासन स्तर से किए जाने पर विचार विमर्श की स्थिति बन चुकी है। कुछ मामलों में प्रशासन से जानकारी मांगी गई है और कुछ मामलों में अभी एसआइटी जांच की जरूरत है। नियम के दायरे में रहकर बिना किसी भेदभाव के सरकार पूरी संवेदनशीलता से इन सभी मामलों का समाधान करना चाहती हैं। एसआइटी की रिपोर्ट को सरकार प्रतिबद्धता से लागू करेंगे।


कोरोना काल में किया बेहतर काम

एक अन्य सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना वायरस के दौर में बहुत सारे लोगों ने बिना अपनी जान की परवाह किए लोगों की मदद की। वहीं, काफी लोगों ने अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ने का प्रयास किया। कुछ अस्पतालों ने तो बीमारी की अपनी कमाई का जरिया बना लिया था। ऐसे लोगों का सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए। योगी ने यह भी कहा कि अधिकांश लोगों ने बेहतर कार्य किया और वह सम्मान के पात्र हैं।


रानीगंज में मिसाइल मैन कलाम के सपनों को नहीं पूरा किया जा सका आज तक

रानीगंज में मिसाइल मैन कलाम के सपनों को नहीं पूरा किया जा सका आज तक

मिसाइल मैन कहलाने वाले देश के 11 वें राष्ट्रपति भारत रत्न डा. एपीजे अब्दुल कलाम के सपनों को रानीगंज में पंख नहीं लग सके। और शायद इसकी  वजह का जवाब किसी के पास नहीं है। अमृत फल आंवला की खेती करने वाले किसान मोइनुद्दीन के घर आंवले की गुणवत्ता व शोहरत ने डा. एपीजे अब्दुल कलाम को प्रतापगढ़ के रानीगंज तहसील क्षेत्र के भूसलपुर गांव आने को मजबूर कर दिया था। इसके बावजूद हालात नहीं बदल सके। लोग बदलाव के लिए सरकार से पहल करने की मांग कर रहे हैं ।

2007 में भूसलपुर गांव आए थे एपीजे कलाम

रानीगंज क्षेत्र के शहीद स्थल कहला की धरती जहां के लोगों ने देश को आजादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं देश के तत्कालीन राष्ट्रपति रहे वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम रानीगंज भूसलपुर गांव में आंवला किसान मोइनुद्दीन खान के आंवले की बाग में आंवला फल देखने दो मई 2007 को बाएफ द्वारा आमंत्रण पत्र पर आए थे। वह आंवले का फल देखकर श खुथे। किसान मोइनुद्दीन की पीठ थपथपा कर आंवला उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया था। किसान मोइनुद्दीन के परिवार से भी राष्ट्रपति मिले थे। हालांकि राष्ट्रपति के यहां आने के 14 साल बीतने के बावजूद भी प्रतापगढ़ में आंवला उत्पादन व किसानों की समस्याओं को दूर करने को लेकर सरकार द्वारा कुछ ऐसा नहीं किया गया है, जिससे कि प्रतापगढ़ जिले की खास पहचान आंवला के क्षेत्र में बन सके।

किसान मोइनुद्दीन के घर तक सड़क भी नहीं बन सकी

रानीगंज में भी कुछ ऐसा नहीं हो सका, जहां पर राष्ट्रपति के सपनों को साकार करने के लिए कुछ किया गया हो । सरकारें आती और जाती रही । कार्य भी अलग-अलग क्षेत्रों में होते रहे। हां, अगर कुछ नहीं हुआ तो वह है मिसाइल मैन के सपनों का पूरा करने का काम, जिससे कि वह प्रतापगढ़ की धरती पर आकर एक किसान के कार्यक्रम में वादा करके गए थे। डा. कलाम ने यहां पर प्रदर्शनी देखी थी, जिसे देखकर वह बेहद प्रसन्न हुए थे। बच्चों को आटोग्राफ दिए थे। किसान मोइनुद्दीन के घर तक सड़क भी नहीं बन सकी है। मोइनुद्दीन का कहना है कि डॉ. कलाम का कुछ भी वादा सरकारों ने नहीं पूरा किया। आज 15 अक्टूबर को देश के 11 वें राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की जन्मतिथि है। जब से वह रानीगंज आए हैं तब से उनका जन्मदिन आने पर हर साल लोगों को याद आते हैं।