सीएम योगी ने दिए निर्देश, कहा- गांव हो या शहर, रात में नहीं कटेगी बिजली

सीएम योगी ने दिए निर्देश, कहा- गांव हो या शहर, रात में नहीं कटेगी बिजली

लखनऊ यूपी में कोयले (Coals) की कमी से पैदा हुआ बिजली संकट (Electricity Crisis) बढ़ता ही जा रहा है इसी कड़ी में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में कोयले की किल्लत की आशंकाओं के बीच बिजली विभाग की मीटिंग की है मुख्यमंत्री योगी ने ऑफिसरों को आदेश देते हुए बोला है कि गांव हो या शहर प्रदेश में रात में बिजली नहीं कटेगी उन्होंने बोला कि यदि आवश्यकता है बिजली विभाग अलावा बिजली खरीदें मुख्यमंत्री ने ओवरबिलिंग, फेक बिलिंग पर भी कठोर रुख अपनाया है उन्होंने बोला कि ऐसा करने वाले एजेंसियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की जानी चाहिए

सीएम योगी ने विजिलेंस की टीम को भी आदेश दिया है कि विजिलेंस ऑफिसर अनावश्यक रूप से किसी भी उपभोगता को परेशान न करें बिजली मीटर की समस्या पर बोलते हुए आदेश दिया है कि वैसे मीटर जिससे गलत रीडिंग आ रही है, ऐसे मीटर बनाने वाली एजेंसी को करें ब्लैक लिस्ट किया जाए बता दें कि यूपी राज्‍य विद्युत निगम की सबसे बड़ी अनपरा परियोजना में कोयले का स्‍टॉक रोजाना 10 हजार टन कम हो रहा है कोयले की आपूर्ति जल्द ही सामान्य न हुई तो पूरा प्रदेश बिजली संकट की चपेट में आ सकता है स्थिति को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय कोयला मंत्री को पत्र भेजकर उत्तर प्रदेश को अलावा बिजली मौजूद कराने और कोयले की आपूर्ति सामान्य कराने का निवेदन किया है

ग्रामीण इलाकों से लेकर शहरों तक में जबरदस्त बिजली कटौती हो रही है, जिसके कारण कंज़्यूमर प्रदर्शन कर रहे है हरदुआगंज और पारीछा में कोयले का स्टॉक लगभग खत्म हो गया है जबकि अनपरा में दो और ओबरा में ढाई दिन का कोयला शेष बचा है

कोयले का स्टॉक और प्रतिदिन की जरूरत
बिजली घर स्टॉक जरूरत
हरदुआगंज 4022 8000
पारीछा 9682 15000
अनपरा 86426 40000
ओबरा 42433 16000
(आंकड़े मीट्रिक टन में, अनपरा से मिली जानकारी के अनुसार, इकाइयों को कम क्षमता पर चलाने की वजह से परिचालन में कोयले और ईंधन की खपत बढ़ गई है इससे परियोजनाओं पर दोहरी मार पड़ रही है )


गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पर लगभग अंकुश लगा चुके सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटाने के बाद अब एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। खुले मैदान में अब किसी तरह के आयोजन की कोई पाबंदी नहीं है। कार्तिक मास में दीपावली के बाद गढ़मुक्तेश्वर में करीब 15 दिन तक मेला लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले एक बड़े मेले के आयोजन को अनुमति प्रदान कर दी है। उन्होंने हापुड़ में लगने वाले गढ़मुक्तेश्वर मेले के आयोजन को अनुमति दी है। इसके साथ ही निर्देश भी दिया है कि वहां पर सभी स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल के साथ भव्य रूप से मेले का आयोजन हो।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कार्तिक मास में बीते दो वर्ष से प्रदेश के हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर के खादर में लगने वाला कार्तिक मेला स्थगित था। इस बार मुख्यमंत्री योगी ने ऐतिहासिक मेले के आयोजन के लिए निर्णय लिया है। मेले के आयोजन को लेकर अब शासनादेश जारी हो गया है। ऐसे में इस बाद दिवगंत परिजनों के दीपदान के लिए लोग खादर में पहुंच सकते हैं।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ बनाए रखे जाने व कोविड नियमों के तहत सभी पर्व एवं त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए हैं।


हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले मेले में कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। यहां लोग अपने पुरखों की आत्मा की शांति के लिए दीपदान करते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 के साथ बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद प्रदेश के सभी जिलों में कन्टेंमेंट जोन के बाहर रात का कर्फ्यू समाप्त करने का आदेश दिया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन की शर्त के अनुसार रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू करने के आदेश थे।