'10-10 हजार सदस्य बनाने का टारगेट', चुनाव से पहले कांग्रेस के इस फैसले ने बढ़ाई टिकट दावेदारों की टेंशन

'10-10 हजार सदस्य बनाने का टारगेट', चुनाव से पहले कांग्रेस के इस फैसले ने बढ़ाई टिकट दावेदारों की टेंशन

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के एक फैसले ने टिकट दावेदारों की टेंशन बढ़ा दी है. कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि सभी दावेदारों को करीब 10 हजार नए सदस्य बनाने होंगे. इन सदस्यों से सदस्यता शुल्क के तौर पर 5-5 रुपये भी लेने के लिए कहा गया है.

कांग्रेस सूत्रों की मानें तो पार्टी यूपी में करीब 1 करोड़ नए सदस्य बनाने की तैयारी में जुटी हुई है. पार्टी ने सदस्यता की जिम्मेदारी कांग्रेस में टिकट दावेदारों के जिम्मे दे दी है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान के इस फैसले से टिकट दावेदारों की मुश्किलें बढ़ा दी है.

चुनाव के ऐन वक्त पहले किसी भी विधानसभा में 10 हजार सदस्य बनाना पार्टी कैंडिडेट के लिए एक चुनौती भरा काम है. हालांकि कुछ कैंडिडेट दबी जुबान से हाईकमान के इस फैसले को लेकर सवाल उठा रहे हैं. बता दें कि पिछले दिनों छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने सदस्यता अभियान की शुरुआत की थी.

कांग्रेस ने दावेदारों से मांगे हैं आवेदन- बता दें कि यूपी में टिकट वितरण से पहले कांग्रेस पार्टी ने दावेदारों से आवेदन मांगे हैं. पार्टी ने इस संबंध में फॉर्म भी जारी किया था. सीट पर उम्मीदवारों को जानकारी के साथ ही कुछ शुल्क भी जमा करना था. वहीं पार्टी इस चुनाव में 403 सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ऐलान करते हुए कहा था कि पार्टी इस बार 40 फीसदी सीटों पर महिलाओं को उम्मीदवार बनाएगी. बता दें कि लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस यूपी की सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारी थी, लेकिन रायबरेली छोड़ कहीं भी जीत नहीं मिली.


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।