वृद्धावस्था पेंशन देने में जमकर मनमानी ,इसका खुलासा आधार सत्यापन के दौरान

वृद्धावस्था पेंशन देने में जमकर मनमानी ,इसका खुलासा आधार सत्यापन के दौरान

यूपी के मैनपुरी जिले में वृद्धावस्था पेंशन देने में जमकर मनमानी की गई है. इसका खुलासा आधार सत्यापन के दौरान हो रहा है. 25 जून तक आधार सत्यापन का काम पूरा किया जाना है. 97 हजार से अधिक लोगों को वृद्धावस्था पेंशन दी जा रही है. आश्चर्य की बात यह है कि सत्यापन के दौरान 4400 से अधिक लोग अब तक मृतक मिले हैं, यानि ये लोग मर चुके थे लेकिन पेंशन ले रहे थे. एक दिन पहले ही इस मुद्दे में समाज कल्याण अधिकारी को हटाया गया है.

वृद्धावस्था पेंशन में मुर्दों को पेंशन देने की कहानी विकास भवन में चर्चा का विषय बनी हुई है. खास बात यह है कि पेंशनधारकों का सत्यापन हर वर्ष कराया जाता है जिसमें अपात्रों के नाम हटा दिए जाते हैं. मृतकों के खाते में पेंशन भेजनी बंद की जाती है लेकिन हाल ही में आधार सत्यापन प्रारम्भ कराया गया तो मामला चौंकाने वाला सामने आया.

97 हजार में से 50 फीसदी सत्यापन का काम पूरा हो गया है, मृतकों की संख्या बढ़ती जा रही है. सीडीओ विनोद कुमार का बोलना है कि जो लोग मृतक निकल रहे हैं, उनके खातों में पेंशन भेजने का काम बंद करा दिया गया है. मुर्दों को पेंशन दिए जाने के मुद्दे में जो कमेटी बनाई गई है उसकी जांच रिपोर्ट का इन्तजार है, इसके बाद रिकवरी कराई जाएगी.

ब्लॉक          लाभार्थी          मृतक
सुल्तानगंज     10245           472
बरनाहल        8020            423
कुरावली        10074           510
जागीर            6062            404
बेवर              14957           516
घिरोर             6677            395
किशनी           8557            510
करहल           10522           479
मैनपुरी            14752          493
कुल                89336          4216
नौ निकाय        8037            227
कुल                97923          4443


17 साल की उम्र में इतने खिताब जीत चुके हैं शहान

17 साल की उम्र में इतने खिताब जीत चुके हैं शहान

आगरा के अंतर्राष्ट्रीय कार रेसर शहान अली मोहसिन की उम्र महज 17 वर्ष है. लेकिन, जब ड्राइविंग सीट पर बैठते हैं तो उनकी स्पोर्ट्स कार हवा से बातें करती है. लिहाजा लोग उन्हें रफ्तार का बादशाह कहते हैं. वह पिता को अपने जीवन की रेस का एक्सीलेटर मानते हैं. उनका बोलना है कि पिता ने उसके शौक को जुनून में बदल दिया और वह पिता की झोली में छह खिताब डाल चुके हैं. शहान बुधवार (छह जुलाई) को अब नेशनल कार्टिंग चैंपियनशिप के लिए बेंगलुरु रवाना हो रहे हैं.



कार रेसर शहान के पिता शाहरू मोहसिन शू एक्सपोर्टर हैं. उन्होंने बताया कि बेटा पांच वर्ष की उम्र से ही टीवी पर कार रेस ही देखता था. घर में उपस्थित कार की बजाय रेसिंग कार की मांग करने लगा. उसके इस शौक को सात वर्ष की उम्र में जुनून बनाने का निर्णय ले लिया. 

दस वर्ष पहले कार्टिंग से प्रारम्भ यात्रा में शहान अब तक अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर के छह खिताब जीत चुका है. बेंगलुरु में 15 जुलाई से प्रारम्भ होने वाली नेशनल कार्टिंग चैंपियनशिप से पहले कैंप के लिए शहान अली बुधवार को बेंगलुरु रवाना होंगे. इसके बाद अगस्त के तीसरे सप्ताह में चेन्नई में एमआरएफ फार्मूला 2000 नेशनल कार रेसिंग चैंपियनशिप में प्रतिभाग करेंगे. 

पैसा नहीं, खिताब बेशकीमती: शाहरू मोहसिन 

शाहरू मोहसिन कहते हैं कि बेटे के करियर पर ध्यान देने से व्यवसाय 50 फीसदी रह गया. चिंता उस समय दूर हो जाती है, जब बेटा हाथों में खिताब लाकर देता है. खिताब मेरे लिए बेशकीमती हो जाता है. 

पापा को ढूंढती है नजर: शहान

रेसिंग के समय पापा का ध्यान कर कार दौड़ाता हूं. रेस खत्म होने पर नजर सबसे पहले पापा को ढूंढती है. आज जिस शिखर पर हूं, केवल उनकी वजह से हूं. 

चेक करती हूं किट: मां सबीना

मां सबीना बताती हैं घर से निकलने से पहले बेटे की किट हमेशा चेक करती हूं. साथ ही पति और बेटे की व्यस्तता के चलने मित्रों और संबंधियों से मिलना भी काफी कम हो गया है.