यूपी दिवस मनाने में राम नाईक की बड़ी भूमिका

यूपी दिवस मनाने में राम नाईक की बड़ी भूमिका

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की स्थापना को भले ही 70 साल हो गए हों पर इसकी स्थापना को लेकर उत्सव मनाने का काम पिछले चार वर्षो से शुरू हुआ जब यहां भाजपा सरकार का गठन हुआ। इसके पीछे महाराष्ट्र के रहने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल रामनाईक की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है। उन्ही के प्रयास के चलते उत्तर प्रदेश दिवस मनाने की परम्परा की शुरूआत हुई। इस साल मनाया जाने वाले उत्तर प्रदेश दिवस चौथा समारोह होगा। इस बार राजधानी लखनऊ के साथ नोएडा में भी उत्तर प्रदेश दिवस का आयोजन किया जा रहा है।

वैदिक काम में इसे मध्य देश कहा जाता था
उत्तर प्रदेश का ज्ञात इतिहास लगभग 4000 वर्ष पुराना है, जब आर्यों ने अपना पहला कदम इस जगह पर रखा। इस समय वैदिक सभ्यता का प्रारम्भ हुआ और उत्तर प्रदेश में इसका जन्म हुआ। समय के साथ आर्य भारत के दूरस्थ भागों में फैल गये। संसार के प्राचीनतम शहरों में एक माना जाने वाला वाराणसी शहर यहीं पर स्थित है। वाराणसी के पास स्थित सारनाथ का चैखन्डी स्तूप भगवान बुद्ध के प्रथम प्रवचन की याद दिलाता है। समय के साथ यह क्षेत्र छोटे-छोटे राज्यों में बँट गया या फिर बड़े साम्राज्यों गुर्जर प्रतिहार, गुप्त, मोर्य और कुषाण का हिस्सा बन गया। ७वीं शताब्दी में कन्नौज गुप्त साम्राज्य का प्रमुख केन्द्र था।

ब्रिटिश काल में इसे यूनाइटेड प्रॉविन्स के नाम कहा जाता था
राज्य को वैदिक काल में ब्रहमर्षि देश या मध्य देश कहा जाता था। उत्तर प्रदेश 24 जनवरी 1950 को अस्तित्व में आया जब भारत के गवर्नर जनरल ने यूनाइटेड प्राविंसेज (आल्टरेशन ऑफ नेम) ऑर्डर 1950 पारित किया। अस्तित्व में आने के पहले ब्रिटिश काल में उत्तर प्रदेश को यूनाइटेड प्रॉविन्स के नाम से जाना जाता था।

उत्तर प्रदेश की अबतक राजनीतिक बदलाव के चलते इसका एक हिस्से उत्तराखंड का गठन भी नौ नवंबर 2000 को उत्तर प्रदेश को काटकर किया गया। उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाईक की पहल पर वर्ष 2018 से उत्तर प्रदेश का स्थापना दिवस मनाया जाने लगा। उत्तर प्रदेश की स्थापना को वर्ष 2021 में 71 वर्ष हो जाएंगे।

महाराष्ट्र में उत्तर प्रदेश दिवस मनाने की शुरूआत हुई
उत्तर प्रदेश दिवस उत्तर प्रदेश से कई वर्ष पूर्व महाराष्ट्र में मनाया जाता आ रहा है। साल 1989 में 24 जनवरी को सबसे पहले महाराष्ट्र में उत्तर प्रदेश दिवस के रूप में मनाया गया था। परन्तु इसका कुछ खास असर नहीं पड़ सका। परंतु उनके यह प्रयत्न सफल नहीं हुए । जब केंद्रीय मंत्री राम नाईक उत्तर प्रदेश के राज्य पाल बने, तो अमरजीत मिश्र ने अपना प्रस्ताव उनके समक्ष रखा और वे भी उनसे सहमत हो गये। अब इस कार्यक्रम को हर साल मनाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में हर साल उस राज्य के राज्यपाल और मुख्यमंत्री मुख्य अतिथि होते है।

राम नाईक की बात अखिलेश यादव ने नहीं मानी
पूर्व राज्यपाल राम नाईक जिस समय प्रदेश के गर्वनर बने तो उस समय प्रदेश में अखिलेष यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी की सरकार थी। तत्कालीन राज्यपाल रामनाईक ने इसके लिए उन्हे कई बार पत्र लिखा लेकिन जब 2017 में उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी तो उन्होंने रामनाईक की बात को गंभीरता से लेते हुए इसकी पहल की और वर्ष 2018 से उत्तर प्रदेश का स्थापना दिवस मनाया जाता है। यह चौथा मौका है जब उत्तर प्रदेश का स्थापना दिवस मनाया जायेगा।

पूर्व राज्यपाल रामनाईक के प्रयास से शुरू हुआ उत्तर प्रदेश दिवस
रामनाईक महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। उन्होंने महाराष्ट्र दिवस की ही तरह उत्तर प्रदेश दिवस मनाने का प्रस्ताव किया ताकि राज्य की जनता को अपने प्रदेश के इतिहास और संस्कृति की जानकारी मिल सके। राम नाईक ने कुछ समय पहले कहा था, ”मुझे यकीन है कि विदेश में रह रहे सभी उत्तर भारतीय उत्तरप्रदेश दिवस मनाना शुरू करेंगे. ठीक उसी तरह जैसे वे राम नवमी और जन्माष्टमी मनाते हैं.” अब तक राज्य में बड़ी संख्या में लोगों को जानकारी नहीं थी कि उत्तर प्रदेश की स्थापना कब हुई थी?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल 24 जनवरी को 11 बजे इसका उद्घाटन करेंगे। इस कार्यक्रम का आयोजन शहीद पथ पर अवध शिल्प ग्राम में होगा। जिसका आयोजन पर्यटन विभाग कर रहा है। इन्हीं प्रदर्शनियों में से एक बहुत ही खास प्रदर्शनी अवध शिल्प ग्राम में लगने वाली है।


यूपी के मंत्री को सजा! देर से पहुंचे मीटिंग में, फिर सीट पर...

यूपी के मंत्री को सजा! देर से पहुंचे मीटिंग में, फिर सीट पर...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा में 18 फरवरी यानी आज से बजट सत्र शुरु होने वाला है। उससे पहले बुधवार को दोपहर में बजट सत्र के एजेंडे पर चर्चा करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष ने सर्वदलीय बैठक बुलाई। ये बैठक तकरीबन एक घंटे तक चली, लेकिन इस बैठक में कुछ ऐसा हुआ कि बजट पर चर्चा से ज्यादा इस बात की चर्चा रही है कि आखिर मीटिंग के भीतर क्या हुआ?

सीट पर खड़े होने की मिली सजा
खबर मिली है कि विधानमंडल दल की बैठक में कुछ बीजेपी के विधायक और मंत्री देर से पहुंचे। उसके बाद उन्हें अजीब सजा सुनाई गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बैठक में कई विधायक और मंत्री देर से पहुंचे। करीब दर्जन भर से ज्यादा विधायक, सीएम योगी आदित्यनाथ के आने के बाद आये। यह देख बैठक की अध्यक्षता कर रहे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने ऐसे नेताओं को अपनी सीट पर ही खड़े हो जाने को कह दिया।

स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा कि सीएम के आने के बाद जो भी माननीय सदस्य इस विधानमंडल दल की मीटिंग में आए हैं, वह अपनी-अपनी सीट पर खड़े हो जाएं और उसके बाद बैठे। भरी मीटिंग में इस तरह का फरमान सुनते ही सीएम योगी भी मंच पर बैठे हुए असहज दिखाई दिए। खबर है कि मुख्यमंत्री अपने हाथों से विधायकों और मंत्रियों को बैठने का इशारा करते रहे, लेकिन तब तक अध्यक्ष स्वतंत्रदेव कई बार मंत्री-विधायकों को खड़े होने के लिए कह चुके थे।

जानकारी के अनुसार, पूर्वांचल के एक वरिष्ठ मंत्री भी देर से पहुंचे थे और खड़े होने की बात पर वह भी बेहद ही असहज थे। हालांकि, यह सब कुछ एक मिनट के भीतर खत्म हो गया, लेकिन विधायकों और मंत्रियों के बीच यह चर्चा का विषय बना रहा कि स्कूल में देर से आने वाले बच्चों की तरह आज उनके साथ सलूक किया गया। अनौपचारिक बातचीत में कई मंत्री और विधायक इस बैठक में इस तरह की बात से काफी नाराज नजर आए, लेकिन किसी ने इस बारे में बात करना सही नहीं समझा।


इस फ़िल्म के पोस्टर से आखिर क्यों किया गया इस एक्ट्रेस का चेहरा ग़ायब       Kangana Ranaut ने किया दावा, कभी नहीं किया आइटम नंबर       सारा अली खान ने इस मैग्जीन के लिए कराया बोल्ड फोटोशूट       Rashford ने कहा कि इस पल को हमेशा भाई के लिए संजोया       Pochettino ने कहा कि कभी भी उनकी रक्षात्मक रेखा को तोड़ने का उपाय नहीं मिला       nd vs Eng: पिंक बॉल टेस्ट में पहली गेंद फेंकते ही कपिल देव क्लब में शामिल होंगे इशांत शर्मा       IPL 2021: कृष्णप्पा गौतम ने कहा कि माही भाई की कप्तानी में खेलना सपने के पूरे होने जैसा, बड़ी मूल्य का दबाव नहीं       IPL में ना चुने जाने पर Sreesanth का BCCI को करारा जवाब       लॉकडाउन की तैयारी, फिर कोरोना ने मचाया ऐसा हाहाकार       8 वर्ष के बच्चे के साथ सौतेली मां ने की बर्बरता, शरीर पर मिले गहरे घाव       राजस्थान: झुंझुनू में 5 वर्ष की मासूम का अगवा कर किया रेप       आंध प्रदेश की उपमुख्यमंत्री पामुला पुष्पा श्रीवाणी बनीं मां       आंदोलन के लिए समर्थन जुटाने गुजरात का रुख करेंगे Rakesh Tikait       कहीं आपके बाल कम तो नहीं हो रहे, अपनी डाइट से करें बाल झड़ने का इलाज       आपकी इम्यून पावर बढ़ाते हैं जिंक वाले फूड       गर्मी में गले के इंफेक्शन से परेशान हैं तो इन घरेलू उपायों से करें उपचार       गर्मी से बचना चाहते हैं तो अपनी डाइट में पुदीना शामिल करें       सुसाइड का ख्याल आएं तो क्या करें और कैसे रोकें नेगेटिव थॉट्स को, जानें       लड़कियाँ चेहरे को कील-मुहांसों से बचाने के लिए करें ये टिप्स       अपने बालो को चमकदार और खूबसूरत बनाने के लिए फॉलो करे ये टिप्स