भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

पीलीभीत: जल और जीवन एक-दूसरे के पूरक हैं। जहां जल है वहां जीवन है। यदि जल नहीं तो जीवन नहीं। जल से ही जीव-जन्तु, पेड़-पौधों आदि की उत्पत्ति एवं विकास होता है। आज बढ़ती हुई जनसंख्या एवं औद्योगीकरण के कारण भूजल का दोहन अधिक हो रहा है। भूगर्भ जल के स्तर में धीरे-धीरे कमी आ रही है।

जागरूकता के लिए 5 योजनाएं
प्रदेश में गिरते भूगर्भ जल स्तर में सुधार तथा भूगर्भ जल के नियोजित विकास एवं प्रबंधन के साथ भूजल से सम्बंधित समस्याओं के अध्ययन एवं भूजल संरक्षण हेतु जन जागरूकता के लिए 05 योजनाएं यथा-भूगर्भ जल सर्वेक्षण का विकास, आंकलन एवं सुदृढ़ीकरण, शासकीय भवनों पर रूफटाप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना, भूजल संसाधनों की गुणवत्ता का अनुश्रवण एवं मैपिंग, भूजल जन-जागरूकता एवं प्रचार-प्रसार तथा राज्य भूजल भवन की स्थापना तथा नये पीजोमीटर की स्थापना की नवीन योजनायें प्रस्तावित हैं। प्रदेश में भूजल संसाधनों की सुरक्षा, संरक्षण, प्रबन्धन एवं विनियमन के दृष्टिगत उ0प्र0 भूगर्भ जल (प्रबन्धन एवं विनियमन) अधिनियम-2019 लागू किया गया है।

जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित
प्रदेश सरकार भूजल के गिरते स्तर को सामान्य लाने के लिए सम्बंधित क्षेत्रों में वर्षा जल को रोकने के लिए बन्धियां/चेकडैम, बांध, तालाब, पोखरों आदि का निर्माण कराकर जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित की हैं। घरों तथा शासकीय भवनों में रूफटाप रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की योजना संचालित है। जिसके अन्तर्गत शासकीय भवनों एवं निजी घरों के छतों से आने वाले वर्षा के पानी को खोदे गये गड्ढों/हार्वेस्टिंग प्रणाली में एकत्रित कर भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि की जा रही है।

प्रदेश के डार्क घोषित विकास खण्डों में सरकार द्वारा बंधियां, चेकडैम, तालाबों का निर्माण कराया जा रहा है। भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि हेतु स्थानीय नदी, नालों, एवं वर्षा के जलबहाव वाले स्थलों पर चेकडैम बनाकर वर्षा जल को रोकते हुए भूगर्भ जल स्तर को बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रदेश में अब तक विभिन्न नदियों , नालों आदि पर 351 से अधिक चेकडैम बनाये गये हैं। जिनपर प्रदेश सरकार द्वारा 131.40 करोड़ रूपये व्यय किया गया है।

तालाबों पर विशेष ध्यान
प्रदेश सरकार द्वारा वर्षा जल संचयन एवं भूजल संवर्द्धन के अन्तर्गत क्रिटिकल तथा अतिदोहित चयनित विकास खण्डों में भूजल संवर्द्धन, सिंचाई, मछली पालन, पशुओं के लिए पीने का पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने आदि कार्यों हेतु तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया जा रहा है। तालाबों के पुनर्विकास एवं प्रबंधन हेतु 01 हे0 से 05 हेक्टेयर क्षेत्रफल तक के तालाबों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।   प्रदेश सरकार ने वर्ष 2019-20 में 47.60 करोड़ रू0 व्यय करते हुए 118 तालाबों का निर्माण कराया है तथा वित्तीय वर्ष 2020-21 में 48 करोड़ रू0 व्यय करते हुए अब तक 117 तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया गया है। प्रदेश सरकार भूगर्भ जल के स्तर में वृद्धि करते हुए कृषि उत्पादन में वृद्धि हेतु कृत संकल्पित है। इस दिशा में प्रदेश सरकार द्वारा कराये जा रहे कार्य सराहनीय हैं।


यूपी के मंत्री को सजा! देर से पहुंचे मीटिंग में, फिर सीट पर...

यूपी के मंत्री को सजा! देर से पहुंचे मीटिंग में, फिर सीट पर...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा में 18 फरवरी यानी आज से बजट सत्र शुरु होने वाला है। उससे पहले बुधवार को दोपहर में बजट सत्र के एजेंडे पर चर्चा करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष ने सर्वदलीय बैठक बुलाई। ये बैठक तकरीबन एक घंटे तक चली, लेकिन इस बैठक में कुछ ऐसा हुआ कि बजट पर चर्चा से ज्यादा इस बात की चर्चा रही है कि आखिर मीटिंग के भीतर क्या हुआ?

सीट पर खड़े होने की मिली सजा
खबर मिली है कि विधानमंडल दल की बैठक में कुछ बीजेपी के विधायक और मंत्री देर से पहुंचे। उसके बाद उन्हें अजीब सजा सुनाई गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बैठक में कई विधायक और मंत्री देर से पहुंचे। करीब दर्जन भर से ज्यादा विधायक, सीएम योगी आदित्यनाथ के आने के बाद आये। यह देख बैठक की अध्यक्षता कर रहे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने ऐसे नेताओं को अपनी सीट पर ही खड़े हो जाने को कह दिया।

स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा कि सीएम के आने के बाद जो भी माननीय सदस्य इस विधानमंडल दल की मीटिंग में आए हैं, वह अपनी-अपनी सीट पर खड़े हो जाएं और उसके बाद बैठे। भरी मीटिंग में इस तरह का फरमान सुनते ही सीएम योगी भी मंच पर बैठे हुए असहज दिखाई दिए। खबर है कि मुख्यमंत्री अपने हाथों से विधायकों और मंत्रियों को बैठने का इशारा करते रहे, लेकिन तब तक अध्यक्ष स्वतंत्रदेव कई बार मंत्री-विधायकों को खड़े होने के लिए कह चुके थे।

जानकारी के अनुसार, पूर्वांचल के एक वरिष्ठ मंत्री भी देर से पहुंचे थे और खड़े होने की बात पर वह भी बेहद ही असहज थे। हालांकि, यह सब कुछ एक मिनट के भीतर खत्म हो गया, लेकिन विधायकों और मंत्रियों के बीच यह चर्चा का विषय बना रहा कि स्कूल में देर से आने वाले बच्चों की तरह आज उनके साथ सलूक किया गया। अनौपचारिक बातचीत में कई मंत्री और विधायक इस बैठक में इस तरह की बात से काफी नाराज नजर आए, लेकिन किसी ने इस बारे में बात करना सही नहीं समझा।


आज संकष्टी चतुर्थी के दिन करें ये उपाय, जीवन की बाधाएं होती हैं दूर       आज है अंगारकी संकष्टी चतुर्थी, जानें तिथि, मुहूर्त और चंद्रोदय का समय       पढ़ें दलदल में फंसे हाथी की कथा, जो देती है मनोबल मजबूत करने की प्रेरणा       कब है जानकी जयंती? जानें तारीख, तिथि, पूजा मुहूर्त एवं धार्मिक महत्व       कब है फुलेरा दूज, जानें शुभ मुहूर्त और धार्मिक महत्व       मेटाबॉलिज्म ठीक रखना है तो डाइट में करें इन चीज़ों को शामिल       दिनभर की भागदौड़ के बाद जब कुछ हलका-फुलका और हेल्दी खाने का मन हो तो...       मोटापा कम करना चाहते हैं तो रोज़ाना करें शहद का इस्तेमाल       हफ्ते में तीन दिन नॉनवेज खाते हैं तो सावधान हो जाइए       WHO के मुताबिक, साल 2050 तक बहरे हो जाएंगे इतने करोड़ लोग!       मोदी की फोटो पर बवाल, EC के आदेश पर लोगों का ऐसा रिएक्शन       मुसलमानों को खुशखबरी, हज यात्रा की इजाजत       दिल्ली हिंसा, हिंदू आरोपियों को मारने की थी साजिश       इन राज्यों में कोरोना से मचा हाहाकार, सरकार ने जारी की एडवाइजरी       बीजेपी नेताओं की उड़ गई नींद, किसान नेता राकेश टिकैत ने इस बार किया ऐसा दावा       कॉफी ना मिलने की वजह से नाराज हुईं फातिमा सना शेख       Kajol ने छोटी बहन तनीषा को दी जन्मदिन की बधाई, कहा...       इस हॉलीवुड स्टार ने प्रियंका से कहा, मैंने आपसे पहली नजर में किया है प्यार !!       बॉलीवुड फिल्म 'शेरशाह' 2 जुलाई को सिनेमाघरों में होगी रिलीज       बॉलीवुड अभिनेता ने अपनी गर्लफ्रेंड को लिखा लव नोट!!