WTC Final: साउथैंप्टन में टीम इंडिया के उतरते ही टूटेगी परंपरा

WTC Final: साउथैंप्टन में टीम इंडिया के उतरते ही टूटेगी परंपरा

टेस्ट खेलने वाली 12 टीमों में से सिर्फ भारत और बांग्लादेश ने अभी तक तटस्थ स्थल (Neutral Venue) पर कोई टेस्ट मैच नहीं खेला है, लेकिन भारत अगले महीने जब न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) का फाइनल खेलने के लिए रोज बाउल में उतरेगा तो यह लगभग 89 वर्ष के उसके टेस्ट इतिहास का तटस्थ स्थल पर पहला टेस्ट मैच होगा। भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से इंग्लैंड के साउथैंप्टन में डब्ल्यूटीसी का फाइनल खेला जाएगा, जो दोनों देशों के लिए तटस्थ स्थल है।

पाकिस्तान में सुरक्षा खतरे को देखते हुए एक दशक से भी अधिक समय तक विदेशी टीमों ने वहां का दौरा नहीं किया। पाकिस्तान ने इस बीच अपने घरेलू मैचों का आयोजन यूएई और श्रीलंका में किया। इस तरह पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट खेलने वाली अधिकतर टीमों को तटस्थ स्थल पर खेलने का मौका मिला। इनमें न्यूजीलैंड भी शामिल है, जिसने 2014 से लेकर 2018 तक तटस्थ स्थलों पर छह मैच खेले हैं, जिनमें से उसे तीन में जीत और दो में हार मिली। वहीं, भारत और पाकिस्तान के बीच 2007 के बाद कोई टेस्ट मैच नहीं खेला गया है।


जब टीम इंडिया चूक गई

भारत के पास 1999 में तटस्थ स्थल पर टेस्ट मैच खेलने का मौका था, लेकिन तब भारतीय टीम एशियाई टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में नहीं पहुंच पाई थी, जो कि ढाका में खेला गया था। पाकिस्तान और श्रीलंका उस चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचे थे और तब उन्होंने पहली बार तटस्थ स्थल पर टेस्ट मैच खेला था।

तटस्थ स्थल पर पहला टेस्ट मैच 

वैसे तटस्थ स्थल पर पहला टेस्ट मैच करीब 109 साल पहले ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच 27-28 मई 1912 को मैनचेस्टर में खेला गया था। यह मैच त्रिकोणीय टेस्ट सीरीज का हिस्सा था, जिसमें तीसरी टीम मेजबान इंग्लैंड की थी। ऑस्ट्रेलिया ने यह मैच दो दिन में पारी और 88 रन से जीता था। इसके बाद 1999 में ही कोई मैच तटस्थ स्थल पर खेला गया।

तटस्थ स्थल पर सर्वाधिक टेस्ट खेलने का रिकॉर्ड पाकिस्तान के नाम


पाकिस्तान ने पिछले 20 वर्षो में अपने अधिकतर घरेलू मैच यूएई में खेले हैं। यही कारण है कि तटस्थ स्थल पर सर्वाधिक टेस्ट खेलने का रिकॉर्ड उसी के नाम पर दर्ज है। पाकिस्तान ने अब तक 39 टेस्ट तटस्थ स्थल पर खेले हैं। इनमें उसे 19 में जीत और 12 में हार मिली है। बाकी आठ मैच ड्रॉ रहे।

ऑस्ट्रेलिया ने भी 12 मैच तटस्थ स्थलों पर खेले हैं

ऑस्ट्रेलिया ने भी 12 मैच तटस्थ स्थलों पर खेले हैं। उसके बाद श्रीलंका (9), दक्षिण अफ्रीका (7) और न्यूजीलैंड (6), वेस्टइंडीज (6) व इंग्लैंड (6) का नंबर आता है। अफगानिस्तान ने भी अपने चार टेस्ट तटस्थ स्थलों (भारत और यूएई) में खेले हैं। जिंबाब्वे ने अफगानिस्तान के खिलाफ अपने दोनों टेस्ट अबूधाबी में खेले थे। आयरलैंड ने अफगानिस्तान के खिलाफ अपना एक टेस्ट देहरादून में खेला है।


चौथे दिन का खेल बरिश की भेंट चढ़ा, नहीं डाली जा सकी एक भी गेंद

चौथे दिन का खेल बरिश की भेंट चढ़ा, नहीं डाली जा सकी एक भी गेंद

विश्व को पहली बार टेस्ट चैंपियन मिलेगा या फिर आइसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की ट्रॉफी भारत और न्यूजीलैंड के बीच शेयर की जाएगी? इसका जवाब साउथैंप्टन में जारी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल के नतीजे से तय होना है। सोमवार यानी 21 जून को मुकाबले के चौथे दिन एक भी गेंद नहीं डाली जा सकी। बारिश की वजह से पूरे दिन का खेल बर्बाद हो गई मैच चौथे दिन के खेल के रद होने की जानकारी बीबीसीआइ ने ट्विटर के जरिए दी।

भारत को 217 रन पर समेटने के बाद न्यूजीलैंड की टीम ने तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक 45 ओवर में 2 विकेट खोकर 101 रन बनाए हैं। कप्तान केन विलियमसन और रोस टेलर नाबाद पवेलियन लौटे हैं।


आपकी जानकारी के लिए बता दें, 18 जून से ये महामुकाबला शुरू होना था, लेकिन बारिश के कारण मैच के पहले दिन टॉस तक नहीं फेंका जा सका। बारिश और खराब रोशनी की वजह से पहले दिन मैच नहीं हुआ और ऐसा दूसरे दिन भी चला, लेकिन दूसरे दिन करीब 60 ओवर का खेल हुआ और तीसरे दिन भी बारिश ने आंख-मिचौली की।

तीसरे दिन मुकाबला अपने समय से शुरू नहीं हो सका, जबकि बारिश और खराब रोशनी की वजह से मैच जल्दी समाप्त करना पड़ गया। अब चौथे दिन भी साउथैंप्टन में बारिश हुई है और लगातार रुक-रुककर हो रही है। ऐसे में चौथे दिन कितने ओवर इस मुकाबले में फेंके जाएंगे, ये देखने वाली बात होगी।

साउथैंप्टन के मौसम से जुड़ी रिपोर्ट की मानें तो आज पूरे दिन बारिश की संभावना है। खासकर पहले और तीसरे सत्र में बारिश की पूरी-पूरी संभावना है। ऐसे में अगर खेल प्रेमियों को कुछ ओवर देखने को मिलें तो अच्छी बात होगी, लेकिन मौजूदा समय और वेदर रिपोर्ट को देखें तो संभव नहीं लग रहा कि आज मैच की शुरुआत भी हो पाएगी।