जब पाली उमरीगर ने तूफानी गेंदबाजी के सामने 248 मिनट में बनाए थे 172 नाटआउट

जब पाली उमरीगर ने तूफानी गेंदबाजी के सामने 248 मिनट में बनाए थे 172 नाटआउट

आज के हरफनमौला खिलाड़ी भले ही अपनी काबिलियत पर शेखी बघार लें, लेकिन जरा पिछली सदी के पांचवें और छठे दशक को याद करें तो उन्हें अपना कारनामा फीका लगेगा। सोचिए, हेलमेट, आर्म गार्ड और थाई पैड के बिना रात भर खुली रखी गई नमी से भरी पिच पर वेस्ट इंडीज के तूफानी तेज गेंदबाजों का सामना करना कैसा लगता होगा।

क्रिकेट के इन आधुनिक साजो-सामान के साथ आज तो पुछल्ला बल्लेबाज भी पूरे आत्मविश्वास के साथ खेलने उतरता है और आसानी से रन भी बना लेता है। उस जमाने में जब बाउंसर फेंकने पर कोई पाबंदी नहीं थी, तब फ्रैंक वारेल और वेसली हाल जैसे रफ्तार के सुल्तानों की सनसनाती गेंदों के सामने खड़े होकर रन बनाना बड़ी टेड़ी खीर हुआ करता था। उसी जमाने में पाली उमरीगर (Polly Umrigar) ने बल्ले और गेंद से ऐसा कमाल दिखाया था, जिसकी कहानी आज भी सुनाई जाती है।

वेस्ट इंडीज का दौरा

उन्होंने पोर्ट आफ स्पेन में 1962 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरिज के चौथे टेस्ट (4-9 अप्रैल) में 248 मिनट में 172 रन कूटे थे और नाटआउट रहे थे। उस दिन तारीख 7 अप्रैल थी और ये रन ऐसे हालात में बनाए गए थे, जब सही मायने में खिलाड़ी के चरित्र की परीक्षा होती है। वेस्ट इंडीज ने टास जीता और बल्लेबाजी का फैसला करते हुए पहली पारी नौ विकेट पर 444 रन पर घोषित कर दी। रोहन कन्हाई ने शतक (139) लगाया और चार अन्य खिलाड़ियों ने अर्ध शतक। पाली उमरीगर ने 56 ओवर में 24 मेडन के साथ 107 रन देकर पांच विकेट झटके। उनका औसत 1.91 रन था। टीम के मुख्य गेंदबाज रूसी सुरती को कोई विकेट नहीं मिला। चंदू बोर्डे भी विकेटविहीन रहे।

 
भारत की पहली पारी


मंसूर अली खान पटौदी (Mansoor Ali Khan Pataudi) की कप्तानी में इस बड़े स्कोर का जवाब देने उतरी भारतीय टीम की शरुआत ही खराब रही। दिलीप सरदेसाई को वेसली हाल ने शून्य पर चलता कर दिया। सुरती भी स्कोरर को कष्ट दिए बिना पवेलियन लौट गए। महज 30 रन पर पांच विकेट गिर चुके थे। इसके बाद आए उमरीगर और अपनी स्टाइल में खेलते हुए 56 रन बनाए और पारी के शीर्ष स्कोरर रहे। उनके बाद पटौदी ने 47 रन और बोर्डे ने 42 रन का योगदान किया। भारतीय टीम 80.3 ओवर में 197 रन बनाकर आउट हो गई। हाल ने 9 ओवर में 20 रन देकर पांच विकेट चटकाए। मेजबान टीम के महान आलराउंडर गैरी सोबर्स (Garry Sobers)ने 25 ओवर में 48 रन देकर दो विकेट झटके।

फालोआन के बाद


वेस्टइंडीज के कप्तान फ्रैंक वारेल ने भारत को फालोआन के लिए उतारा। सरदेसाई की जगह विजय मेहरा के साथ एमएल जयसिम्हा सलामी बल्लेबाजी करने आए। हालांकि नए ओपनिंग बल्लेबाज के रूप में पहला विकेट 19 रन पर ही गिर गया, लेकिन उसके बाद मेहरा ने सलीम दुर्रानी के साथ 144 रन की बड़ी साझेदारी निभाई। दुर्रानी ने 104 रन बनाकर आउट हुए। इसके बावजूद मध्यक्रम के लड़खड़ाने के कारण खतरा टला नहीं था। पहली पारी में चार रन बनाने वाले विजय मांजरेकर दूसरी पारी में भी सस्ते में (13 रन) आउट हो गए। पहली पारी में 47 रन ठोकने वाले कप्तान पटौदी एक रन पर ही पवेलियन चले गए।

 
उमरीगर का उम्दा खेल


दुर्रानी के रूप में पांचवां विकेट गिरने के बाद आए उमरीगर और अपने खेल से मैदान मार लिया। निस्संदेह इस टेस्ट मैच में उनका प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ कहा जाएगा। उन्होंने 156 मिनट में शतक बना डाला और 150 रन तक पहुंचने के लिए उन्हें 203 गेंदें खेलीं। विपक्षी कप्तान हाल ने जब दूसरी नई गेंद ली तो उन्होंने पहले ओवर में चार चौके लगाए। पूरी टीम 422 रन पर आउट हो गई। भारत की पारी के आखिरी 230 रन में 172 रन उनके थे। वह नाटआउट रहे यानी उन्हें कोई जोड़ीदार मिला होता तो उनके नाम दो दोहरे शतक हो सकते थे। उमरीगर के इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद भारत यह मैच हार गया। वेस्ट इंडीज ने तीन विकेट खोकर जीत के लिए जरूरी 176 रन बना लिए।

 
करिश्माई खिलाड़ी


इसी मैच में उन्होंने शतक और पांच विकेट लेने के वीनू मांकड के रिकार्ड की बराबरी की। इस सीरिज में उनके खाते में 445 रन और नौ विकेट आए थे। न्यूजीलैंड के खिलाफ 1955 में 223 रन के साथ देश की तरफ से पहला दोहरा शतक लगाने वाले इस करिश्माई खिलाड़ी ने 59 टेस्ट मैचों में 42 के औसत से 3631 रन बनाए। अपने 15 साल लंबे करियर में उन्होंने 12 शतक ठोके। उनके शतकों का रिकार्ड बाद में सुनील मनोहर गावस्कर ने तोड़ा। कमर के दर्द से परेशान उमरीगर ने 1962 में ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उसी साल उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया। वर्ष 2006 में दुनिया को अलविदा कहने तक वे अलग-अलग भूमिकाओं में वे अपने पहले प्यार क्रिकेट की सेवा करते रहे।

दो पीढ़ियों के बीच की कड़ी


महाराष्ट्र के सोलापुर में पारसी परिवार में 28 मार्च, 1926 को जन्मे उमरीगर ने 18 साल की उम्र में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया। तब बांबे में धर्म के आधार पर टीमें बनती थी। उमरीगर पारसी टीम से खेलते थे। 1948 के अक्टूबर में भारत के दौरे पर आई वेस्ट इंडीज टीम के खिलाफ कंबाइंड यूनिवर्सिटीज की टीम की ओर से 115 बनाकर वे चर्चिच हुए। लगभग छह फीट लंबे उमरीकर काफी मजबूत कदकाठी के थे। उनके खेलने की शैली अपने समकालीनों से अलग थी। विजय मर्चेंट और विजय हजारे के प्रभाव में तब भारतीय टीम विकेट बचाने की रणनीति पर चलती थी ताकि मैच ड्रा कराया जाए लेकिन उमरीगर जोखिम लेने के आदी थे। तेज गेंदबाजों को चौके-छक्के लगाना उन्हें अच्छा लगता था। इस तरह उन्हें भारतीय क्रिकेट के पुराने और नए स्कूल की कड़ी के रूप में याद किया जाता है। 


IPL 2021 में पहला शतक बनाने वाले बल्लेबाज बने संजू सैमसन, तोड़े कई रिकॉर्ड

IPL 2021 में पहला शतक बनाने वाले बल्लेबाज बने संजू सैमसन, तोड़े कई रिकॉर्ड

इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन में सोमवार को राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला खेला गया। पहले बल्लेबाजी करते हुए पंजाब ने 6 विकेट पर 221 रन का स्कोर खड़ा किया। जवाब में राजस्थान की टीम 20 ओवर में 7 विकेट पर 217 रन ही बना पाई। सैमसन ने धमाकेदार पारी खेलते हुए शतक बनाया और राजस्थान के लिए कई रिकॉर्ड बना डाले।

इस मैच में 222 रन के बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान के लिए बाकी बल्लेबाज नाकाम रहे। एक मात्र संजू ही रहे जिन्होंने अकेले संघर्ष किया और शतक जमाया। कप्तान ने 63 गेंद पर 119 रन की पारी खेली जिसमें 12 चौके और 7 छक्के लगाए। इसके अलावा कोई भी बल्लेबाज 30 के स्कोर तक भी नहीं पहुंच पाया।

संजू ने बनाए कई रिकॉर्ड

इस पारी के दौरान वह 14वें सीजन में पहला शतक बनाने वाले खिलाड़ी बने। इसके अलावा उन्होंने कप्तानी करते हुए पहले ही मैच में शतक बनाने का कमाल कर दिखाया। इससे पहले आइपीएल के इतिहास में किसी भी खिलाड़ी ने बतौर कप्तान पहले मैच में ऐसा नहीं किया था। पंजाब किंग्स के खिलाफ संजू सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं। इससे पहले क्रिस गेल के नाम 117 रन बनाने का रिकॉर्ड था।


राजस्थान की तरफ से संजू सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। 119 रन बनाने के साथ ही उन्होंने बेन स्टोक्स के नाबाद 107 रन की पारी को पीछे छोड़ दिया। इस मामले में पूर्व कप्तान अजिंक्य रहाणे नाबाद 105 और शेन वॉटसन नाबाद 104 रन के साथ चौथे स्थान पर हैं।

वही लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे बड़ा स्कोर बनाने वाले वह दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। पहले स्थान पर पॉल वल्थाटी हैं जिन्होंने 120 रन की पारी खेली थी। संजू अब वीरेंद्र सहवाग के साथ संयुक्त रूप से दूसरे नंबर पर हैं। शेन वॉटसन के नाम 117 रन की पारी रही है और वह तीसरे स्थान पर हैं। 


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर