दूसरी बार बैन हो सकती है साउथ अफ्रीका की टीम, क्रिकेट की दुनिया की बड़ी खबर

दूसरी बार बैन हो सकती है साउथ अफ्रीका की टीम, क्रिकेट की दुनिया की बड़ी खबर

नई दिल्ली। साउथ अफ्रीका (South Africa) की क्रिकेट टीम पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। गुरुवार को देश की सरकार ने साउथ अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड 'क्रिकेट साउथ अफ्रीका' को सस्पेंड कर दिया है। सरकार यह कदम आईसीसी (ICC) के नियमों के विरूद्ध है जिसके मुताबिक किसी भी देश के क्रिकेट बोर्ड में वहां की सरकार का दखल नहीं होने कि सम्भावना है। ऐसे में आईसीसी साउथ अफ्रीका को बैन कर सकती है।

साउथ अफ्रीका बोर्ड की लंबे समय से जाँच चल रही है
पिछले बहुत ज्यादा समय से बोर्ड नस्लवाद, करप्शन व खिलाड़ियो के वेतन जैसे मुद्दों को लेकर विवादों का सामना कर रहा था। साउथ अफ्रीकन स्पोर्ट्स एंड ओलिंपिक कमेटी ने खत लिखकर बोर्ड के सभी अधिकारियों को पद से हटने के लिए बोला है। एसएएससीओसी साउथ अफ्रीका की खास बॉडी है जो देश की सरकार व स्पोर्ट्स फेडरेशन के बीच ब्रिज का कार्य करती है। साउथ अफ्रीकन स्पोर्ट्स एंड ओलिंपिक कमेटी ने पिछले वर्ष क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका में फैली गड़बड़ियों में जाँच प्रारम्भ की थी। जाँच के परिणाम सामने आने के बाद ही क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध यह कदम उठाया गया है।

क्या कहते हैं आईसीसी के नियम
इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल के नियमों के मुताबिक किसी भी क्रिकेट खेलने वाले देश में टीम को मैनेज करने वाली संस्था स्वतंत्र होनी चाहिए। उस सस्ंथा पर सरकार का किसी भी तरह क्रिकेट बोर्ड पर नियंत्रण नहीं होना चाहिए। बोर्ड को सस्पेंड करने वाली साउथ अफ्रीकी संस्था वहां की सरकार का भाग है ऐसे में उनका यह कदम आईसीसी के नियमों के विरोध है। आईसीसी सरकार के इस कदम के विरूद्ध मुद्दा सुलझने तक दक्षिण अफ्रीकी टीम को इंटरनेशनल क्रिकेट से बैन कर सकती है।

दूसरी बार बैन हो सकती है साउथ अफ्रीका
साउथ अफ्रीका से पहले जिम्बाब्वे पर भी आईसीसी इस कारण बैन लगाया था। अगर आईसीसी बैन लगाने का निर्णय करती है तो साउथ अफ्रीका दूसरी बार बैन होने वाला पहला देश बन जाएगा। इस टीम पर वर्ष 1970 से 1990 के बीच नस्लवाद के कारण बैन लगा दिया गया था। इसके बाद नयी रणनीति लाई गई थी जिससे सभी को बराबरी से टीम में मौका मिलना सुनिश्चित किया गया औऱ बैन हटाया गया।