WTC के फाइनल में अब इन दो गेंदबाजों से है भारत को उम्मीद, पूर्व स्पिनर ने बताया कारण

WTC के फाइनल में अब इन दो गेंदबाजों से है भारत को उम्मीद, पूर्व स्पिनर ने बताया कारण

भारत के पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर दिलीप दोशी ने एक बड़ा दावा आइसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल को लेकर किया है। दिलीप दोशी का मानना है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले जा रहे डब्ल्यूटीसी के फाइनल में रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन की भूमिका बड़ी होगी। दोशी भारत के उन खिलाड़ियों में शामिल हैं, जिन्होंने इंग्लैंड की सरजमीं पर काफी क्रिकेट खेला है।

भारतीय टीम विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले के तीसरे दिन पहली पारी में 217 रन बनाकर ढेर हो गई और कीवी टीम की भी सिर्फ दो ही विकेट टीम इंडिया को मिलीं। ऐसे में दिलीप दोशी ने कहा, "भारत को हर एक रन के लिए लड़ना होगा। मुझे लगता है कि जडेजा और अश्विन की भूमिका इस मैच में बड़ी होगी।" दिलीप दोशी ने ये भी स्वीकार किया है कि जिस गेंद पर विराट कोहली आउट हुए, वो विकेट टेकिंग डिलेवरी थी।

इंग्लैंड की तुलना में ऑस्ट्रेलिया में गेंद ज्यादा बाउंस होती है, लेकिन यहां स्विंग और तेजी कम है। इसको लेकर दोशी ने कहा है कि इस चुनौतीपूर्ण वातावरण में रिष पंत जैसे बल्लेबाज को प्रदर्शन करने की जरूरत थी। हालांकि, वह ऐसा करने में नाकाम रहे। रहाणे भी अर्धशतक जमाने से पहले पवेलियन लौट गए। 2014 में इंग्लैंड में अपने पहले दौरे पर लॉर्ड्स में शतक लगाने वाले रहाणे भारत की तरफ से सबसे बड़े रन स्कोरर थे।

रहाणे अर्धशतक की ओर बढ़ ही रहे थे कि स्कावयर लेग पर कैच आउट हो गए। कोहली के पवेलियन लौटने के बाद रहाणे पर ज्यादा दारोमदार था। वहीं, दिलीप दोशी ने आगे कहा, "अश्विन भी बल्लेबाजी कर लेते हैं, लेकिन इस मैच में वह भी कुछ खास नहीं कर सके और न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों ने भी भारतीय बल्लेबाजों को खासा परेशान किया।" काइल जैमीसन ने 22 ओवर में 12 मेडन फेंके और 31 रन देकर पांच विकेट लिए।

दिलीप दोशी ने कहा, "न्यूजीलैंड के लिए यहां घर जैसा वातावरण है। कीवी गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी की और भारतीय बल्लेबाजों पर दबाव डाला। इस कठिन वातावरण में भी रोहित शर्मा, कोहली और रहाणे ने बेहतर किया, जबकि शुभमन गिल ने भी छाप छोड़ी।" हालांकि, बारिश के कारण मैच के किसी नतीजे पर पहुंचने की संभावना बहुत कम हैं.


इंग्लैंड में अगर भारतीय खिलाड़ी इंजर्ड होते हैं फिर भी...

इंग्लैंड में अगर भारतीय खिलाड़ी इंजर्ड होते हैं फिर भी...

भारत व इंग्लैंड के बीच चार अगस्त से पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का आयोजन होने जा रहा है, लेकिन उससे पहले तीन भारतीय खिलाड़ी चोटिल होकर इस दौरे से बाहर हो चुके हैं। वहीं टीम के कप्तान विराट कोहली व उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे भी दर्द की समस्या की वजह से पहले प्रैक्टिस मैच में नहीं खेल पाए थे। हालांकि अब दोनों ठीक हैं और प्रैक्टिस सेशन में हिस्सा भी ले रहे हैं। अब टीम इंडिया को लेकर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इंजमान उल हक ने कहा है कि, अगर भारतीय खिलाड़ी इंग्लैंड दौरे पर चोटिल हो भी रहे हैं तो टीम को परेशान होने की जरूरत नहीं है। 

इंजमाम उल हक का मानना है कि, टीम इंडिया की बेंच सट्रेंथ काफी मजबूत है और अगर कुछ खिलाड़ी चोटिल हो भी जाते हैं तो इसका असर टीम के प्रदर्शन पर शायद ही पड़ेगा। अपने यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि, इंग्लैंड में शुभमन गिल, आवेश खान व वाशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों के चोटिल होने की वजह से टीम इंडिया के लिए समस्या तो सामने आई थी, लेकिन अच्छी बात ये है कि इस टीम की बेंच स्ट्रेंथ काफी मजबूत है। इस टीम के कुछ अहम खिलाड़ी अगर अनफिट हो भी जाते हैं तो चिंता करने वाली कोई बात नहीं है। उन्होंने भारतीय टीम की मजबूत बेंच स्ट्रेंथ का पूरा श्रेय राहुल द्रविड़ को दिया और कहा कि, उन्होंने युवा खिलाड़ियों पर काफी काम किया है।


इंजमाम ने कहा कि सूर्यकुमार यादव और पृथ्वी शॉ जो श्रीलंका में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, दोनों इंग्लैंड के लिए रवाना होंगे। मुझे नहीं लगता कि टीम इंडिया खिलाड़ियों की चोट को लेकर ज्यादा चिंता में होगी। ऑस्ट्रेलिया में भी भारतीय टीम को ऐसी ही स्थितियों का सामना करना पड़ा था, लेकिन टीम इंडिया ने अपना धैर्य नहीं खोया। युवा क्रिकेटरों ने बेहतरीन खेल दिखाते हुए टीम को एतिहासिक जीत दिलाई। युवा क्रिकेटर ऐसे खेले, जैसे वे सालों से खेल रहे हों, तो बेंच स्ट्रेंथ का बहुत ही महत्व है और मैं इसका पूरा श्रेय राहुल द्रविड़ को दूंगा।