रिचर्ड्स, जयसूर्या व डिविलियर्स ने अपने खेल से बदला क्रिकेट का इतिहास - इंजमाम उल हक

रिचर्ड्स, जयसूर्या व डिविलियर्स ने अपने खेल से बदला क्रिकेट का इतिहास - इंजमाम उल हक

 पूर्व पाकिस्तानी कैप्टन इंजमाम उल हक ने वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर सर विवियन रिचर्ड्स, श्रीलंका के सनथ जयसूर्या व दक्षिण अफ्रीका के एबी डिविलियर्स की जमकर तारीफ की. इंजमाम ने एक यूट्यूब चैनल से बोला कि रिचर्ड्स, जयसूर्या व डिविलियर्स ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने क्रिकेट को बदल दिया है. 

इंजमाम ने दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध दूसरे टेस्ट मैच के बाद 2007 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था.

इंज़माम ने कहा, ‘‘काफी वर्ष पहले रिचर्डस ने क्रिकेट के खेल को बदलने का कार्य किया. उस समय बल्लेबाज तेज गेंदबाजों को बैकफुट पर खेलते थे, लेकिन उन्होंने सबको दिखाया कि कैसे तेज गेंदबाजों को फ्रंटफुट पर भी खेला जा सकता है. उन्होंने लोगों को बताया कि तेज गेंदबाजों पर भी आक्रमण किया जा सकता है.’’

जयसूर्या ने शुरुआती 15 ओवर में तेज खेलना सिखाया

इंजमाम ने जयसूर्या को लेकर कहा, ‘‘दूसरा परिवर्तन जयसूर्या लेकर आए. उन्होंने इनिंग के पहले 15 ओवर में तेज गेंदबाजों पर धावा बोलने का फैसला लिया. उनके आने के पहले हवा में शॉट खेलने वालों को आम तौर पर बल्लेबाज नहीं माना जाता था, लेकिन उन्होंने पहले 15 ओवरों में इनफील्ड के ऊपर से शॉट खेलकर इस परिभाषा को बदल दिया.’’

डिविलियर्स ने पैडल स्वीप व रिवर्स स्वीप लगाने प्रारम्भ किए

पूर्व पाकिस्तानी कैप्टन ने डिविलियर्स को लेकर कहा, ‘‘तीसरे खिलाड़ी, जिन्होंने क्रिकेट के खेल को बदलने का कार्य किया, वह डिविलियर्स है. आज के समय में वनडे व टी-20 में खेले जा रहे तेज क्रिकेट के लिए मैं डिविलियर्स को जिम्मेदार ठहराता हूं. पहले के बल्लेबाज सीधे बैट से शॉट खेलते थे, लेकिन डिविलियर्स ने पैडल स्वीप व रिवर्स स्वीप लगाने प्रारम्भ कर दिए.’’