ICC ने किया खिलाड़ियों, अंपायर व टीमों के लिए दिशा-निर्देश जारी

ICC ने किया खिलाड़ियों, अंपायर व टीमों के लिए दिशा-निर्देश जारी

अब यह करीब-करीब पूरी संसार की सरकारें व लोग यह मानने लगे हैं कि कोरोना वायरस (Coronavirus) इतनी जल्दी जाने वाला नहीं. इसलिए इसके साथ जीने का उपाय ढूंढ़ना होगा.

 इसी सिलसिले में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने स्थिति बेहतर होने के बाद क्रिकेट प्रारम्भ करने से पहले खिलाड़ियों, अंपायर व टीमों के लिए दिशा-निर्देश (ICC Guidelines) जारी किया है. इन दिशा-निर्देशों से यह करीब-करीब तय है कि खिलाड़ियों की मुश्किलें थोड़ी- बहुत बढ़ेंगी व उन्हें परेशानियां भी उठानी पड़ सकती है, लेकिन खेल व खिलाड़ी के लिहाज से यह बेहद महत्वपूर्ण कदम हैं.

आईसीसी के यह हैं नए दिशा-निर्देश

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के दिशा-निर्देशों के अनुसार, खिलाड़ी (ICC Rules for Players) अब अपनी व्यक्तिगत चीजें अंपायर (ICC Rules for Umpire) या किसी अन्य साथियों को नहीं सौंप सकते हैं. जैसे टोपी, तौलिया, सनग्लास, जंपर्स आदि. खिलाड़ियों को शारीरिक दूरी बनाए रखनी होगी. इस दिशा-निर्देश में यह बड़ा पेंच है कि फिर खेल के वक्त खिलाड़ियों का सामान कौन रखेगा. बता दें कि यह दिशा-निर्देश सिर्फ खिलाड़ियों के लिए ही नहीं, बल्कि अंपायरों के लिए भी हैं. अब अंपायरों को गेंद पकड़ते समय दस्ताने का उपयोग करना होगा. इतना तो तय है कि खिलाड़ी अपनी टोपी व सनग्लासेज मैदान पर नहीं रखना चाहेंगे, क्योंकि अगर उससे गेंद टकराई तो पांच पेनाल्टी रन का खतरा है. बता दें कि आईसीसी नियम के अनुसार, गेंद खिलाड़ियों के जमीन पर रखे किसी सामान से टकराती है तो इससे बल्लेबाजी करने वाली टीम के खाते में पांच पेनल्टी रन जुड़ जाते हैं. ऐसा नजदीकी क्षेत्ररक्षकों के हेलमेट के मुद्दे में हम अभी तक देखते रहे हैं. इसके अतिरिक्त आईसीसी यह भी चाहती है कि खिलाड़ी मैच से पहले व मैच के बाद ड्रेसिंग रूम में कम समय बिताएं.

आईसीसी क्रिकेट समिति यह कर चुकी है सिफारिश

बता दें कि आईसीसी क्रिकेट समिति (ICC Cricket Committee) पहले ही गेंद पर लार लगाकर चमकाने पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश कर चुकी है. इस पर आईसीसी जून में निर्णय लेगी. अब ताजा दिशा-निर्देशों में यह सलाह दी गई है कि खिलाड़ी गेंद छूने के बाद आंख- नाक व मुंह को न छुएं. गेंद के सम्पर्क में आने के बाद अपने हाथ साफ करने को बोला गया है. इसके अतिरिक्त एक्सरसाइज के दौरान खिलाड़ियों को शौचालय का उपयोग करने की अनुमति नहीं होगी.

ये सावधानियां भी बरतनी होगी

आईसीसी ने साथ में यह भी बोला है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की बहाली के लिये मुख्य चिकित्सा ऑफिसर (CMO) की नियुक्ति भी की जाए. इसके अतिरिक्त टीमों को 14 दिन तक अलग-थलग एक्सरसाइज शिविर के आयोजित की सिफारिश करते हुए बोला है कि यात्रा से 14 दिन पहले यह भी सुनिश्चित होना चाहिए कि पूरी टीम कोरोना वायरस से मुक्त हो. इसके लिए आईसीसी ने एक्सरसाइज व प्रतियोगिता के दौरान बेहतर जाँच योजना तैयार करने की भी सिफारिश की है.