हरभजन सिंह ने बताया कि वो क्यों रिकी पोंटिंग पर रहते थे हावी और लेते थे उनका विकेट

हरभजन सिंह ने बताया कि वो क्यों रिकी पोंटिंग पर रहते थे हावी और लेते थे उनका विकेट

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग का हाथ स्पिनर के खिलाफ थोड़ा तंग था और इस बात का मनोवैज्ञानिक लाभ उठाकर टीम इंडिया के सीनियर स्पिरन हरभजन सिंह ने 2001 में खेले गए टेस्ट सीरीज में उन्हें जल्दी आउट करने में सफलता हासिल की थी। भारत के लिए 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट ले चुके हरभजन सिंह ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज पोंटिंग को टेस्ट क्रिकेट में दस बार आउट कर चुके हैं। 2001 में घरेलू टेस्ट सीरीज के दौरान भज्जी ने उन्हें 5 बार आउट किया था। 

हरभजन सिंह रिकी पोंटिंग का एक बल्लेबाज के तौर पर ही नहीं बल्कि एक कोच और गाइड के तौर पर भी काफी सम्मान करते हैं। ये दोनों खिलाड़ी आइपीएल में मुंबई के लिए खेलते हुए ड्रेसिंग रूम भी शेयर कर चुके हैं। भज्जी ने कहा कि इसमें कई शक नहीं है कि वो दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक थे जिनके साथ मैं खेला हूं। उन्हें एक ग्रेट बल्लेबाज के तौर पर याद किया जाएगा। एक वक्त ऐसा था जब मैं अपने करियर में पीक पर था और मुझे लगता था कि मैं उनकी बराबरी पर हूं और ऐसा मुझे तब लगने लगा जब मैंने उन्हें एक-दो बार आउट किया। भज्जी ने कहा कि तेज गेंदबाज के खिलाफ बेहतरीन बल्लेबाजी करने वाले पोंटिंग में मुझे कुछ तकनीकी खामी नजर आई थी। मैं देख सकता था कि, जब वो डिफेंस के लिए आगे आते हैं तो वो गेंद की तरफ लपकते हैं और शॉफ्ट हैंड से नहीं खेलते हैं। मुझे लगा कि अपने डिफेंस में वो हार्ड हैंड के साथ आगे आते हैं। 

हरभजन सिंह ने कहा कि गेंद जो उछलती है या उठती है वो उनके बल्ले के टॉप को हिट करेगी और इसकी वजह से मुझे उन्हें बैट-पैट या फिर शॉर्ट लेग व बैकवर्ड शॉर्ट-लेग में कैच करवाने का मौका मिलता था। यही नहीं एक बार मैंने महसूस किया कि वो सच में गेंद को डिफेंड करने में सहज नहीं थे और मैं उनकी इसी कमजोरी पर खेल सकता था। उन्होंने कहा कि, एक कंप्लीट और प्रोपर बैट्समैन बनने के लिए सॉलिड डिफेंस की जरूरत होती है। भज्जी ने रिकी को कई बार अलग-अलग तरीकों से आउट किया था। 

हरभजन सिंह ने पोंटिंग को नजदीकी फील्डर्स के हाथों आउट करवाने के अलावा LBW और स्लिप में भी कैच आउट करवाया। पोंटिंग हरभजन सिंह के खिलाफ टेस्ट में सिर्फ 200 से कुछ ही ज्यादा रन ही बना सके। उन्होंने कहा कि, आपके पास हर तरह से शॉट हो सकते हैं, लेकिन अगर आपका डिफेंस सॉलिड है तभी आप एक परिपक्व बल्लेबाज बन पाते हैं। जब वो तेज गेंदबाजों को खेलते थे तब ऐसा कभी नहीं लगता था कि वो कड़े हाथों से खेल रहे हैं, लेकिन जब आप स्पिनर को खेलते हैं तो आपको सॉफ्ट हैंड से खेलना होता है। मैंने 2001 टेस्ट सीरीज के दौरान उन्हें चार-पांच (पांच बार) आउट किया। 

भज्जी ने कहा कि इसके बाद मैं जब भी उनके खिलाफ खेलता था तो वो माइंड गेम होता था। जब आप किसी गेंदबाज की गेंद पर काफी बार आउट हो चुके हैं तो वो बातें आपके दिमाग में होती हैं। वहीं मुझे ऐसा लगता था कि कंडीशन जो भी हो, सरफेस चाहे कैसा भी हो मैं उन्हें आउट कर सकता हूं और ये काम करता था। हालांकि उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि पोंटिंग एक महान बल्लेबाज थे। 


शादी के बंधन में बंधे संगीता फौगाट और पहलवान बजरंग

शादी के बंधन में बंधे संगीता फौगाट और पहलवान बजरंग

भिवानी(हरियाणा)। दंगल गर्ल गीता और बबीता फौगाट की छोटी बहन पहलवान संगीता फौगाट और पद्मश्री बजरंग पूनिया परिणय सूत्र में बंध गए। बुधवार देर रात चरखी दादरी जिले के गांव बलाली में शादी सादगीपूर्ण माहौल में संपन्न हुई। इसमें कोरोना वायरस संक्रमण रोकथाम संबंधी दिशा-निर्देशों के कारण मेहमानों की संख्या सीमित रखी गई। शादी के बाद कुश्ती क्षेत्र के दोनों दिग्गज जीवन की अपनी नई पारी को लेकर काफी खुश दिखे। गांव खुड्डन के मूल निवासी एवं वर्तमान में सोनीपत में रहने वाले पहलवान बजरंग पूनिया केवल 31 बारातियों को साथ लेकर बुधवार रात संगीता की डोली अपने घर ले जाने के लिए पहुंचे। गांव बलाली में दोनों तरफ से कुल 50 लेकर 60 तक ही मेहमान बुलाए गए थे।


तमाम पारिवारिक, सामाजिक, लोक परंपराओं से जुड़ी रस्मों जैसे लग्न, गोरवा, घुड़चढ़ी, वरमाला इत्यादि के बाद संगीता और बजरंग ने सात की बजाय आठ फेरे लिए। बड़ी बहन गीता व बबीता फौगाट की तरह संगीता ने भी आठवां फेरा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के संकल्प के रूप में लिया। संगीता के पिता पहलवान महावीर फौगाट ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी को घर से विदा करते समय काफी पीड़ा हो रही है, लेकिन संसार के नियमों को निभाना जरूरी है। इसके साथ-साथ उन्हें खुशी है कि उनकी बेटी संगीता पहलवान बजरंग पूनिया जैसे अच्छे युवक और उसके संस्कारी परिवार में जा रही है।


तमिलनाडु तट पर कमजोर पड़ा चक्रवाती तूफान निवार       2020 का आखिरी चंद्रग्रहण 30 नवंबर को, जाने कहा दिखेगा और कहा नहीं       केंद्र ने दिए निर्देश, दिव्यांग कल्याण के लिए राज्यों में गठित होंगे एडवाइजरी बोर्ड       राज्यसभा उपचुनाव की एक सीट के लिए अधिसूचना जारी       अब इन राज्यों से आने यात्रियों के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य       जेल में बंद लालू यादव की मुश्किलें बढ़ीं       इंदौर में अवैध निर्माणों पर चला जिला प्रशासन का बुलडोजर       इंदौर में दर्दनाक सड़क हादसे में ऑटो चालक की मौत       मध्य प्रदेश के 4 लाख से अधिक अधिकारी कर्मचारियों ने नारेबाजी कर प्रदर्शन किया       दिल्ली में कोरोना से एक दिन में 91 और लोगों की मौत, नये मामले 5,475       दिल्ली चलो मार्च: किसानों पर पुलिस ने की पानी की बौछार       टीम इंडिया ने पूरा किया 14 दिन का पृथकवास       शादी के बंधन में बंधे संगीता फौगाट और पहलवान बजरंग       Chahal ने फोटो शेयर कर Dhanashree के लिए लिखा मैसेज       मोहम्मद शमी के भाई ने ठोका तूफानी अर्धशतक       कपिश शर्मा के शो में सूर्यकुमार यादव बने थे बाजीगर       विंडीज टीम का तीसरा कोविड-19 टेस्ट नेगेटिव       क्रिकेटर युजवेंद्र चहल की मंगेतर धनाश्री वर्मा के डांस वीडियो ने मचाया तहलका       India vs Australia 1st ODI Preview: 8 महीने बाद टीम इंडिया करेगी मैदान पर वापसी       रोहित शर्मा की गैरमौजूदगी में कौन होगा शिखर धवन का पार्टनर