भारत की बैडमिंटन टीम ने पाकिस्तान को बुरी तरह पीटा

भारत की बैडमिंटन टीम ने पाकिस्तान को बुरी तरह पीटा

भारत के अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ियों ने शुक्रवार को यहां 22वें राष्ट्रमंडल खेलों के अपने पहले टीम मुकाबले में पाक पर सरलता से 5-0 से हरा दिया. हिंदुस्तान को इस दौरान मिक्स्ड डबल्स, स्त्री डबल्स, पुरुष डबल्स, स्त्री और पुरुष सिंगल्स मुकाबलों में जीत मिली. पीवी सिंधु, किदांबी श्रीकांत, अश्विन पोनप्पा जैसे अनुभवी शटलर्स वाली इस टीम ने सरलता से पड़ोसी राष्ट्र का सूपड़ा साफ किया और पहले दिन जीत के साथ आगाज किया.

दिन की आरंभ मिक्स्ड डबल्स में बी सुमित रेड्डी और अश्विनि पोनप्पा की जोड़ी ने मुहम्मद इरफान सईद भट्टी और गजाला सिद्दीकी पर 21-9, 21-12 की एकतरफा जीत के साथ की. फिर मिश्रित जोड़ी की कामयाबी को किदांबी श्रीकांत ने पुरुष एकल मुकाबले में आगे बढ़ाते हुए मुराद अली को सरलता से 21-7,  21-12 से हरा दिया. भारतीय खिलाड़ियों का दबदबा स्त्री एकल के मैच में भी जारी रहा जहां दो बार ओलंपिक पदक जीतने वाली पीवी सिंधू को इसके बाद स्त्री एकल मैच में महूर शहजाद को हराने में कोई कठिनाई नहीं हुई. सिंधू ने 21-7, 21-6 से बहुत बढ़िया जीत दर्ज की. 

भारत ने 5-0 से पाक का किया क्लीन स्वीप

तीन मैचों में बहुत बढ़िया जीत के बाद बारी थी पुरुष डबल्स की. यहां हिंदुस्तान की स्टार जोड़ी चिराग शेट्टी और सात्विक साईंराज रैंकी रेड्डी के सामने थे पाक के मुराद अली और मुहम्मद इरफान सईद भाटी. इस मैच को भारतीय जोड़ी ने 21-12 और 21-9 से सीधे गेम में जीत लिया और बढ़त को 4-0 कर लिया. फिर बारी थी अंतिम मैच की जहां वुमेन्स डबल्स में हिंदुस्तान की त्रिशा जॉली और गायत्री गोपीचंद की जोड़ी ने पाक की महूर शहजाद और गजाला सिद्दीकी की जोड़ी को सीधे गेम में 21-4 और 21-5 से हरा दिया. इसी के साथ हिंदुस्तान ने 5-0 से पाक का क्लीन स्वीप किया.अन्य खेलों की बात करें तो हिंदुस्तान के लिए पहला दिन मिलाजुला रहा. हॉकी में स्त्री टीम ने घाना को 5-0 से हराया और टेबल टेनिस में पुरुष और स्त्री टीमों ने जीत के साथ आगाज किया. क्रिकेट की फील्ड ने निराशा भरी समाचार आई जहां ऑस्ट्रेलिया ने हिंदुस्तान को 3 विकेट से हराया. तैराकी से हिंदुस्तान के लिए पदक की आशा बढ़ी जहां 100 मीटर बैकस्ट्रोक में श्रीहरि नटराजन सेमीफाइनल में पहुंचे. मुक्केबाज शिव थापा ने प्री क्वार्टर में स्थान बनाई. साइकिलिंग में स्त्री और पुरुष टीमें फाइनल में स्थान बनाने में असफल रहीं.