अजिंक्य रहाणे की सफलता से विराट कोहली पर बढ़ा दबाव, दिग्गज बोले...

अजिंक्य रहाणे की सफलता से विराट कोहली पर बढ़ा दबाव, दिग्गज बोले...

अजिंक्य रहाणे के अंदर युवा खिलाड़ियों के साथ एक कमजोर भारतीय टीम का नेतृत्व करने की क्षमता है, जिसके दम पर उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीती है और अब उनके इस प्रदर्शन से नियमित कप्तान विराट कोहली पर फिर से खुद को कप्तान के रूप में सफल होने का दबाव बढ़ गया है। रहाणे अब तक अपनी कप्तानी में एक भी टेस्ट नहीं हारे हैं। रहाणे ने अब तक पांच टेस्ट में भारतीय टीम की कप्तानी की और चार टेस्ट में जीत दिलाई, जबकि एक टेस्ट ड्रॉ रहा।

भारतीय टीम के नियमित कप्तान विराट कोहली अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए पहला टेस्ट खेलने के बाद स्वदेश लौट आए थे। उनके बाद रहाणे ने टीम की कमान संभाली थी और दूसरे टेस्ट में भारत को आठ विकेट से जीत दिलाई थी। इसके बाद सिडनी में मैच ड्रॉ रहा था और ब्रिसबेन में भारत ने तीन विकेट से ऐतिहासिक जीत के साथ सीरीज 2-1 से जीत ली थी। यहां तक कि पहले टेस्ट मैच में विराट कोहली की कप्तानी में भारत को करारी हार का सामना करना पड़ा था, जिसमें भारतीय टीम 36 रन पर ढेर हुई थी।


दिग्गजों ने उठाई मांग

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन हों या फिर पूर्व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी, रहाणे की कप्तानी से काफी प्रभावित नजर आए हैं। वॉन ने ट्वीट कर कहा था कि भारत रहाणे की कप्तानी में बेहतर प्रदर्शन करेगा। वॉन को लगता है कि रहाणे चतुराई से एक अच्छे कप्तान हैं। वॉन ने ट्वीट कर कहा कि मुझे लगता है कि बीसीसीआइ निश्चित रूप से रहाणे को कप्तानी देने पर विचार करेगा। कोहली केवल एक बल्लेबाज के रूप में भारत को मजबूत बनाएंगे और रहाणे के पास अविश्वसनीय उपस्थिति और रणनीति है। वहीं, बिशन सिंह बेदी ने कहा था कि रहाणे की कप्तानी ने उन्हें पूर्व भारतीय कप्तान मंसूर अली खान पटौदी की याद दिला दी। बेदी ने कहा था कि रहाणे के अंदर गेंदबाजों को सही समय पर बदलने और शांतचित्त रहकर रणनीति बनाने की कारीगरी है।


मुश्किल सफर पर बड़ी सफलता

मुंबई में मुलुंड से आजाद मैदान तक धक्के खाकर ट्रेन से पहुंचने का रहाणे का सफर ही उनके संघर्ष से कठोर बनने की कहानी का गवाह है। चेहरे से शांतचित्त, लेकिन दिमाग से चालाक रहाणे अच्छे से जानते हैं कि उन्हें कौन सा दांव कब खेलना है। 2013 में दिल्ली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जब वह पहली बार टेस्ट खेलने उतरे थे तो वह सफल नहीं रहे थे, लेकिन उसी साल डरबन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 51 और 96 रनों की पारी खेलकर रहाणे ने अपने करियर को रफ्तार दी।


Pochettino ने कहा कि कभी भी उनकी रक्षात्मक रेखा को तोड़ने का उपाय नहीं मिला

Pochettino ने कहा कि कभी भी उनकी रक्षात्मक रेखा को तोड़ने का उपाय नहीं मिला

पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) को सोमवार को थकान 1 में मोनाको के विरूद्ध 2-0 से हार का सामना करना पड़ा. इस हार के बाद, पीएसजी के मुख्य कोच मौरिसियो पोचेटिनसिन ने निराश किया और बोला कि उनकी टीम को उनकी आक्रामक पंक्ति को तोड़ने का कोई उपाय नहीं मिला. मुख्य कोच ने बोला कि उनकी टीम ने यह स्वीकार करते हुए पर्याप्त मौके नहीं बनाए कि प्रदर्शन बहुत ज्यादा अच्छा नहीं था.

एक वेबसाइट ने उन्हें यह कहते हुए उद्धृत किया, "मुझे लगता है कि हम उनका पीछा कर रहे थे, हमने पाँच मिनट के बाद जीत हासिल की और हमने पर्याप्त मौके नहीं बनाए. हम बहुत अच्छे नहीं थे और इसीलिए हम खेल हार गए. हमने पहले भी तय कर लिया था लेकिन क्षण भर में ही. हमने मोनाको से दो दृष्टिकोणों के समान और दूसरे लक्ष्य को स्वीकार किया और हमने स्वीकार किया. "

उन्होंने आगे कहा, "फिर हमने गेंद पर कब्जे के साथ 75 मिनट से अधिक समय तक खेल पर हावी रहा, लेकिन हमें उनकी रक्षात्मक रेखा को तोड़ने का कोई उपाय नहीं मिला. बेशक, उन्होंने अच्छा बचाव किया और कहने के लिए और कुछ नहीं है. बधाई. मोनाको और हमें इस प्रकार की स्थिति को मोड़ने के लिए कड़ी मेहनत करने की जरूरत है. ” पीएसजी को लिग्ज़ 1 टेबल पर 54 अंकों के साथ तीसरे जगह पर रखा गया है, टेबल-टॉपर्स लिली से चार अंक पीछे है.


इस फ़िल्म के पोस्टर से आखिर क्यों किया गया इस एक्ट्रेस का चेहरा ग़ायब       Kangana Ranaut ने किया दावा, कभी नहीं किया आइटम नंबर       सारा अली खान ने इस मैग्जीन के लिए कराया बोल्ड फोटोशूट       Rashford ने कहा कि इस पल को हमेशा भाई के लिए संजोया       Pochettino ने कहा कि कभी भी उनकी रक्षात्मक रेखा को तोड़ने का उपाय नहीं मिला       nd vs Eng: पिंक बॉल टेस्ट में पहली गेंद फेंकते ही कपिल देव क्लब में शामिल होंगे इशांत शर्मा       IPL 2021: कृष्णप्पा गौतम ने कहा कि माही भाई की कप्तानी में खेलना सपने के पूरे होने जैसा, बड़ी मूल्य का दबाव नहीं       IPL में ना चुने जाने पर Sreesanth का BCCI को करारा जवाब       लॉकडाउन की तैयारी, फिर कोरोना ने मचाया ऐसा हाहाकार       8 वर्ष के बच्चे के साथ सौतेली मां ने की बर्बरता, शरीर पर मिले गहरे घाव       राजस्थान: झुंझुनू में 5 वर्ष की मासूम का अगवा कर किया रेप       आंध प्रदेश की उपमुख्यमंत्री पामुला पुष्पा श्रीवाणी बनीं मां       आंदोलन के लिए समर्थन जुटाने गुजरात का रुख करेंगे Rakesh Tikait       कहीं आपके बाल कम तो नहीं हो रहे, अपनी डाइट से करें बाल झड़ने का इलाज       आपकी इम्यून पावर बढ़ाते हैं जिंक वाले फूड       गर्मी में गले के इंफेक्शन से परेशान हैं तो इन घरेलू उपायों से करें उपचार       गर्मी से बचना चाहते हैं तो अपनी डाइट में पुदीना शामिल करें       सुसाइड का ख्याल आएं तो क्या करें और कैसे रोकें नेगेटिव थॉट्स को, जानें       लड़कियाँ चेहरे को कील-मुहांसों से बचाने के लिए करें ये टिप्स       अपने बालो को चमकदार और खूबसूरत बनाने के लिए फॉलो करे ये टिप्स