हो सकता है आपको इन गर्भनिरोधक गोलियों से नुक्सान , बचने के लिए करे ये उपाए

हो सकता है आपको इन गर्भनिरोधक गोलियों से नुक्सान , बचने के लिए करे ये उपाए

गर्भनिरोधक गोलियों का प्रयोग हमेशा से ही एक प्रश्न का विषय बना हुआ हैकुछ स्त्रियों का मानना होता है कि यह स्वास्थ्य पर उल्टा असर डालती हैं तो कुछ मुद्दे ऐसे भी आए हैं, जब गर्भनिरोधक गोलियां लेने के बाद भी महिला गर्भवती हो जाती है.

Image result for हो सकता है आपको इन गर्भनिरोधक गोलियों के नुकसान , बचने के लिए करे ये उपाए

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपको इसे ठीक तरह से लेने के ढंग के बारे में पता नहीं होता. जिसके कारण महिला को न सिर्फ अनचाहे गर्भ से बल्कि कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से भी जूझना पड़ता है. आमतौर पर महिलाएं मानती हैं कि इसका शरीर पर उल्टा असर पड़ता है, जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है. यह गर्भनिरोध का सबसे सुरक्षित और प्रभावी उपाय है, लेकिन इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा तो आइये जानते है इसके बार में

सही तरह से सेवन :गर्भनिरोधक गोलियों को प्रभावी बनाने के लिए महत्वपूर्ण है कि आपको इसके ठीक सेवन की जानकारी हो. इसका सेवन मासिक धर्म समाप्त होने के पहले दिन से प्रारम्भ कर देना चाहिए व तीन हफ्ते रोज एक गोली का सेवन करें. इसके बाद सात दिन के लिए इसे रोक दें, जिस दौरान मासिक धर्म का स्त्राव होता है. उसके बाद दोबारा तीन हफ्ते तक इन गोलियों का सेवन प्रारंभ करें. गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन इसी तरह किया जाता है. साथ ही गोली के सेवन के बीच 24 घंटे का गैप होना चाहिए, इसलिए आप एक निश्चित समय पर ही दवाई लें. अगर किसी कारणवश दवाई लेने के बाद आपकोउल्टी हो जाती है, तो दूसरी गोली तभी लें. वरना गर्भधारण होने के चांसेज बढ़ जाते हैं.

अगर हो कठिनाई : कई स्त्रियों को गर्भनिरोधक दवाईयों का सेवन करने से कई तरह की कठिनाई जैसेसिर में दर्द, चक्कर आना, मितली का अहसास और मूड स्विंग्स आदि कठिनाई होती है. अगर आपको लंबे समय तक ऐसी कोई कठिनाई हो तो स्त्री रोग विशेषज्ञ को इस बारे में जरूर बताएं. दवाई के साथ-साथ नियमित चेकअप करवाना बेहद महत्वपूर्ण है.