अनुच्छेद 370 के हटने से जम्मू-कश्मीर में प्रॉपर्टी के भाव में आएगा यह बड़ा बदलाव, जरुर देखे

अनुच्छेद 370 के हटने से जम्मू-कश्मीर में प्रॉपर्टी के भाव में आएगा यह बड़ा बदलाव, जरुर देखे

जम्मू-कश्मीर के लिए विशेष दर्जे को रद्द करने के निर्णय से लोकल लोगों के लिए संपत्ति की कीमतें बढ़ने की आसार है. संपत्ति सलाहकार एनारॉक ने सोमवार को यह जानकारी दी है. श्रीनगर में कीमतें गिर कर प्रति वर्ग फुट 2,200-4,000 रुपये के दायरे में आ गयी थीं. हालांकि, एनरॉक ने एक रपट में यह भी बोला है कि सुरक्षा चिंता, संभावित संपत्ति खरीदारों को वैसे वहां जमीन जायदाद की खरीद से दूर रख सकती हैं.

एनारॉक के अध्यक्ष अनुज पुरी ने एक रिपोर्ट में कहा, ''सरकार के हाल के अनुच्छेद 370 व अनुच्छेद 35 (ए) को रद्द करने के निर्णय से जम्मू और कश्मीर के समग्र रियल एस्टेट मार्केट पर सकारात्मक असर पड़ने की उम्मीद है, जो अब तक बेहद निराशाजनक स्थिति में था." उन्होंने बोला कि उदाहरण के लिए, श्रीनगर में संपत्ति की कीमतें, अभी भी 2,200 - 4,000 रुपया प्रति वर्ग फुट के बीच हैं - जो देश के अन्य टियर 2 व टियर 3 शहरों के लिए बहुत ज्यादा कम है.

पुरी ने कहा, ''एक तरफ, लोकल लोग आखिरकार अपनी संपत्तियों के मूल्य में वृद्धि देखेंगे. दूसरी तरफ, वास्तव में रोमांचक आसार इस बात की है कि जम्मू और कश्मीर के बाहर के हिंदुस्तानियों के लिए अचल संपत्तियों में निवेश के मौका बढ़े." अनारोक के अध्यक्ष ने उल्लेख किया कि पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने हाल के संबोधन में बॉलीवुड के फिल्म निर्माता सहित विभिन्न उद्योगों को उस इस क्षेत्र में निवेश करने को आमंत्रित किया है.

पूरी ने कहा, ''इतना कहने के बाद भी इस पहल का, अभी भी कश्मीर के अचल संपत्ति मार्केट पर होने वाले असली असर का अनुमान लगाना जल्दबाजी होगी - फिलहाल, यह अब भी एक अत्यधिक संवेदनशील क्षेत्र बना हुआ है व सुरक्षा चिंताओं के कारण संपत्ति खरीदार मार्केट से दूर रह सकते हैं. एक बार स्थिरता कायम हो जाती है, तो इसे 'रेरा' स्तर के नियमन की जरुरत होगी.'' इस बीच, लद्दाख - पर्यटकों का एक प्रमुख व बेहद पसंदीदा क्षेत्र है जो सारे साल भारी संख्या में पर्यटकों के स्कोर को आकर्षित करता है. आने वाले महीनों में लद्दाख के आतिथ्य क्षेत्र में गतिविधियों में तेजी आ सकती हैं.