आज ही के दिन टाई हुआ थाहिंदुस्तान व ऑस्ट्रेलिया का पांच दिवसीय मुकाबला

 आज ही के दिन टाई हुआ थाहिंदुस्तान व ऑस्ट्रेलिया का पांच दिवसीय मुकाबला

शायद ही क्रिकेट प्रेमियों को आज का दिन यानी 22 सितंबर कुछ खास न लगे, लेकिन क्रिकेट जगत में आज से करीब 33 वर्ष पहले एक ऐसा टेस्ट मैच खेला गया था, जो आज भी इतिहास के पन्नों में दर्ज है।

मद्रास ( अब चेन्नई) में हिंदुस्तान व ऑस्ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच खेला पांच दिवसीय मुकाबला आज ही के दिन टाई हुआ था व इतिहास में ऐसा दूसरा मौका था, जब कोई टेस्ट मैच टाई हुआ। 1877 से अभी तक करीब दो हजार से भी अधिक टेस्ट मैच खेले जा चुके हैं व इतने मैचों में सिर्फ दो ही मैच टाई हुए। हिंदुस्तान व ऑस्ट्रेलिया से पहले 1960 में ऑस्ट्रेलिया व वेस्टइंडीज के बीच खेला गया टेस्ट मैच इतिहास का पहला टाई टेस्ट मैच था। दरअसल मैच टाई तब होता है, जब दूसरी बल्लेबाजी करने वाले टीम अपनी दूसरी पारी में ऑल आउट हो जाए व स्कोर उस समय बराबरी पर हो। चेन्नई टेस्ट में कपिल देव (Kapil Dev) की अगुआई वाली टीम के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने एक रन व बनाकर मैच जिताने की प्रयास की थी, लेकिन असफल रहे। हालांकि वह मैच टाई करवाने में पास रहे थे। इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट के नुकसान पर 574 रन बनाए थे। जवाब में हिंदुस्तान ने अपनी पहली पारी में 397 रन बनाए। अतिथि टीम ने अपनी दूसरी पारी पांच विकेट पर 170 रन पर घोषित की व हिंदुस्तान को जीत के लिए 347 रनों का लक्ष्य दिया।

रवि शास्त्री कर रहे थे जीत की कोशिश

दूसरी पारी में सुनील गावस्कर ने 90 व मोहिंदर अमरनाथ ने 51 रन बनाकर टीम इंडिया (Team India) की जीत की उम्मीद जगाई। रवि शास्त्री (Ravi Shastri) 45 रन पर खेल रहे थे, लेकिन 344 रन पर हिंदुस्तान के नौ विकेट गिर चुके थे। शास्त्री के साथ दूसरे छोर पर आखिरी विकेट मनिन्दर सिंह थे। हिंदुस्तान को जीत के लिए चार रन की आवश्यकता थी। हड़ताल पर रवि शास्त्री (Ravi Shastri) थे। पहली गेंद पर शास्त्री रन नहीं ले पाए। दूसरी गेंद पर उन्होंने दो रन लेकर हड़ताल अपने पास ही रखी। तीसरी गेंद पर शास्त्री ने सिंगल लेकर स्कोर तो बराबर कर दिया था, लेकिन हड़ताल पर मनिन्दर आ गए थे। चौथी गेंद पर मनिन्दर रन नहीं ले पाए व पांचवीं गेंद पर वह एलबीडब्ल्यू हो गए। इसी के साथ हिंदुस्तान की पूरी टीम दूसरी पारी में 347 रन पर ही ऑल आउट हो गई व मुकाबला टाई रहा। दूसरी पारी में ग्रेग मैथ्यूज व रे ब्राइट ने पांच- पांच विकेट लिए।

कपिल देव व डीन जॉन्स बने मैन ऑफ द मैच
इस मैच में कपिल देव (Kapil Dev) व डीन जॉन्स संयुक्त रूप में मैन ऑफ द मैच बने। पहली पारी में डीन ने 210 रन की बड़ी पारी खेली थी। जबकि कपिल देव (Kapil Dev) ने अपनी पहली पारी में 119 रन बनाए थे। वहीं ऑस्ट्रेलिया के बॉब सिम्पसन दोनों टाई मैच के गवाह बने। इतिहास के पहले टाई टेस्ट मैच में वह बताैर खिलाड़ी मैदान पर उपस्थित थे व दूसरे में वह ऑस्ट्रेलिया टीम के कोच थे।