इन तीनों का प्रदर्शन इतना दमदार रहा कि बाकी खिलाड़ियों को नही मिला मौका

इन तीनों का प्रदर्शन इतना दमदार रहा कि बाकी खिलाड़ियों को नही मिला मौका

मेजबान हिंदुस्तान व दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच खेला गया पहला टेस्ट मैच, रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल व रविचंद्रन अश्विन के नाम रहा। इन तीनों का प्रदर्शन इतना दमदार रहा कि बाकी खिलाड़ियों को ज्यादा मौका ही नहीं मिला। ऐसे में वे खिलाड़ी, जिन्हें विशाखापत्तनम टेस्ट में ज्यादा मौका नहीं मिला, वे पुणे में इसकी कसर निकालने की प्रयास करेंगे। ऐसे खिलाड़ियों में भारतीय कैप्टन विराट कोहली (Virat Kohli) भी शामिल हैं। विराट अगर अपना औसत प्रदर्शन भी करते हैं, तो वे पुणे टेस्ट मैच के दौरान दिलीप वेंगसरकर को पीछे छोड़ सकते हैं।

विराट कोहली ने 80 टेस्ट मैचों में 6800 रन बनाए हैं। उनका औसत 53.12 है। विराट अपने टेस्ट करियर में 25 शतक व 22 अर्धशतक लगा चुके हैं। वे दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के विरूद्ध पहले टेस्ट मैच में 20 व 31 रन (नाबाद) की पारियां ही खेल सके थे। विराट इसकी कसर गुरुवार से प्रारम्भ हो रहे दूसरे टेस्ट में निकालने की प्रयास करेंगे।

विराट कोहली अगर पुणे टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो वे ‘कर्नल’ के नाम से लोकप्रिय पूर्व भारतीय कैप्टन दिलीप वेंगसरकर ( Dilip Vengsarkar) को सबसे अधिक रनों के मुद्दे में पीछे छोड़ सकते हैं। ‘कर्नल’ दिलीप के नाम 116 टेस्ट में 6868 रन दर्ज हैं। दिलीप वेंगसरकर ने वर्ष 1976 से 1992 के बीच खेले गए टेस्ट मैचों में 17 शतक लगाए थे। उनका औसत 42.13 रन है।

विराट कोहली अगर पुणे टेस्ट मैच में शतक लगाते हैं तो वे पाकिस्तानी महान इंजमाम उल हक ( Inzamam-ul-Haq) को पीछे छोड़ सकते हैं। विराट कोहली व इंजमाम उल हक दोनों के ही नाम अभी 25-25 टेस्ट शतक दर्ज हैं। कोहली अगर पुणे में शतक बनाते हैं तो वे ना सिर्फ इंजी को पीछे छोड़ेंगे, बल्कि स्टीवन स्मिथ (Steve Smith) व गैरी सोबर्स (Garry Sobers) की बराबरी भी कर लेंगे। ऑस्ट्रेलिया के स्मिथ व वेस्टइंडीज के सोबर्स ने टेस्ट मैचों में 26-26 शतक बनाए हैं।