नीरव मोदी ने इतने बार जमानत के लिए किया आवेदन

नीरव मोदी ने इतने बार जमानत के लिए किया आवेदन

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined index: Content-Length

Filename: helpers/custom_helper.php

Line Number: 1224

Backtrace:

File: /home/hindustansamay/web/hindustansamay.com/public_html/application/helpers/custom_helper.php
Line: 1224
Function: _error_handler

File: /home/hindustansamay/web/hindustansamay.com/public_html/application/views/post.php
Line: 145
Function: check_image_size

File: /home/hindustansamay/web/hindustansamay.com/public_html/application/controllers/Home.php
Line: 169
Function: view

File: /home/hindustansamay/web/hindustansamay.com/public_html/index.php
Line: 315
Function: require_once

जुड़े 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मुद्दे में हिंदुस्तान में वांछित भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका एक बार फिर यूके (यूनाइटेड किंगडम) की न्यायालय ने खारिज कर दी है। जमानत न मिलने पर नीरव ने न्यायालय में आपा खो दिया व धमकी दी कि अगर उसे हिंदुस्तान को प्रत्यर्पित किया गया, तो वह आत्महत्या कर लेगा। इस दौरान उसने बताया कि उसे कारागार में दो बार पीटा भी गया।

48 वर्षीय कारोबारी नीरव को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट न्यायालय में चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनॉट के सामने पेश किया गया। उसके एडवोकेट हुगो कीथ ने बोला कि नीरव को वेंड्सवर्थ कारागार में दो बार पीटा गया। उन्होंने बोला कि नीरव की एक बार अप्रैल में व दूसरी बार बीते मंगलवार को पिटाई हुई। दावा किया गया कि कारागार के जिम्मेदार अधिकारियों ने इस मुद्दे में कोई कदम नहीं उठाया।

नहीं मिली जमानत
नीरव मोदी ने पांचवीं बार जमानत के लिए आवेदन किया था व सुनवाई के दौरान उसने न्यायालय को भ्रमित करने की भी प्रयास की। हालांकि, इन सबके बावजूद न्यायालय ने उसे जमानत देने से मना कर दिया।

नीरव का दावा है कि वह बेचैनी व अवसाद से पीड़ित है। नीरव मोदी ने अपनी निरंतर हिरासत के विरूद्ध लंदन की एक न्यायालय में जमानत याचिका दायर करते हुए घर में ही हिरासत में रखने की अपील की। बता दें कि नीरव को 19 मार्च को होलबोर्न से हिरासत में लिया गया था।

13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी
पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी व उसके चाचा मेहुल चोकसी ने कुछ बैंक कर्मचारियों की संलिप्तता के साथ 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ED) व केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) द्वारा इस मुद्दे की जाँच की जा रही है।

नीरव मोदी पर भगोड़े आर्थिक क्रिमिनल अधिनियम (एफईओ) के तहत भी आरोप लगे हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने चोकसी के विरूद्ध मुंबई में धन शोधन समाधान अधिनियम न्यायालय में आरोपपत्र दायर किया है।