आईपीएल की तीन टीमों के रह चुके हैं सदस्य

आईपीएल की तीन टीमों के रह चुके हैं सदस्य

कर्नाटक प्रीमियर लीग (Karnataka Premier League) में स्पॉट फिक्सिंग में सी गौतम (Cm Gautam) व अबरार काजी का नाम सामने आने से भारतीय क्रिकेट हिल गया है। घरेलू क्रिकेट के स्टार सी गौतम आईपीएल की तीन बड़ी टीम रॉयल चैंलजर्स बेंगलुरु, मुंबई इंडियंस व दिल्ली डेयरडेविल्स का भाग रह चुके हैं। यहीं नहीं उनके नाम रणजी क्रिकेट के इतिहास का भी सबसे बड़ा रिकॉर्ड है। इतने अनुभवी खिलाड़ी का नाम फिक्सिंग में आने से हर कोई सकते में हैं।Image result for आईपीएल की तीन टीमों के रह चुके हैं सदस्य

33 वर्ष के दाएं हाथ के विकेटकीपर-बल्लेबाज गौतम ने 94 फर्स्ट क्लास मैच, 58 लिस्ट ए क्रिकेट व 48 टी20 मैच खेले हैं। आठ मार्च 1986 को कर्नाटक में जन्‍में गौतम के नाम रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के इतिहास में बतौर विकेटकीपर एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड है। इसके अतिरिक्त भी उनके नाम कई रिकॉर्ड्स है। इतने शानदार रिकॉर्ड होने के बादवजूद फिक्सिंग में उनका नाम आने उनके फैंस भी निराश हैं। गौतम पर कर्नाटक प्रीमियर लीग के इस सीजन में हुबली व बेल्लारी टीम के बीच खेले गए खिताबी मुकाबले में फिक्सिंग करने का आरोप है। उन पर आरोप लगा है कि धीमी बल्लेबाजी के लिए उन्हें 20 लाख रुपये दिए थे। जानिए कौन हैं सी गौतम

ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध उतर चुके हैं मैदान पर

विकेटकीपर बल्लेबाज चिदंबरम मुरलीधरन गौतम कर्नाटक के साथ एक लंबा समय बिताने के बाद गोवा की टीम में चले गए हैं। रणजी ट्रॉफी के करीब पांच सीजन में गौतम ने कर्नाटक टीम का अगुवाई किया। 2012-2013 रणजी ट्रॉफी में वह सर्वाधिक स्कोर करने वाले दूसरे खिलाड़ी थे। उस सीजन में उनकी लय को देखते हुए उन्हें नंबर 4 पर प्रमोट किया गया। उस सीजन में गौतम ने 943 रन बनाए थे, जो एक विकेटकीपर का रणजी ट्रॉफी के किसी एक सीजन में इतिहास का सर्वाधिक स्काेर था। उन्होंने वडोदरा व महाराष्ट्र दोनों के विरूद्ध 250 रन से अधिक का स्कोर किया था। 2012-2013 रणजी सीजन में स्कोर करने के अतिरिक्त उन्होंने विकेट के पीछे 34 शिकार भी लिए ‌थे। उस सीजन में उनके शानदार प्रदर्शन का इनाम उन्हें फरवरी 2013 में ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध वार्म अप मैच में इंडिया ए टीम के रूप में मिला। हालांकि आने वाले रणजी ट्रॉफी के सीजन से पहले वह उन्होंने कर्नाटक का साथ छोड़कर गोवा का हाथ थाम लिया।

अपनी शानदार बल्लेबाजी के दम पर 2011 में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलौर (Royal Challengers Bangalore) ने उन्हें अपने साथ शामिल किया। वह 2012 तक बेंगलौर का भाग रहे। हालांकि उन्हें आईपीएल के डेब्यू करने का मौका नहीं मिल पाया। उनकी बल्लेबाजी से प्रभावित होकर दिल्ली डेयरडेविल्स ने 2013 में उनके साथ एक वर्ष का अनुबंध किया। हालांकि डेयरडेविल्स ने नमन ओझा व पुनीत बिष्ट की सेवाएं ली। इसके बाद 2014 में मुंबई इंडियंस ने 20 लाख रुपये में गौतम को अपने साथ शामिल कर लिया था।