मौलाना फजलुर रहमान ने इमरान सरकार को दी ये खुली चुनौती

मौलाना फजलुर रहमान ने इमरान सरकार को दी ये  खुली चुनौती

पाक में बदहाल आर्थिक व्यवस्था व कश्मीर मुद्दे पर नाकाम रहने को लेकर इमरान सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए विपक्ष की ओर से लगातार आन्दोलन किए जा रहे हैं.

Image result for इमरान खान की खुली पोल,

इसी कड़ी में इमरान सरकार को सत्ता से हटाने के लक्ष्य के साथ मार्च निकालने का ऐलान करने वाली पार्टी जमियते उलेमाए इस्लामी फजल (JUI-F) ने बोला है कि वह इस मार्च में स्त्रियों के शामिल होने की इजाजत नहीं दे सकता है.बता दें कि जेयूआई-एफ ने 27 अक्टूबर को इस्लामाबाद तक 'आजादी मार्च' निकालने का ऐलान किया है, लेकिन उसमें स्त्रियों के शामिल होने पर पाबंदी लगा दी है.

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों ने बताया कि जेयूआई-एफ के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने पाक मुस्लिम लीग-नवाज को एक लेटर लिखकर बोला है कि उनके इस मार्च व इस्लामाबाद में दिए जाने वाले धरने में स्त्रियों को शामिल नहीं होने दिया जाएगा.

पत्र में आगे बोला गया है कि यदि आप लोग (मुस्लिम लीग-नवाज) प्रदर्शन में शामिल होने जा रहे हों तो कृपया अपने साथ स्त्रियों को मत लाएं.

इमरान सरकार को खुली चुनौती

मौलाना फजलुर रहमान ने मुस्लिम लीग-नवाज को भेजे लेटर में यह भी बोला है कि आजादी मार्च के सिलसिले में अगर कोई प्रतिनिधिमंडल कहीं भेजें तो इसमें भी स्त्रियों को शामिल न करें.

मीडिया रिपोर्ट में बोला गया है कि मौलान के लेटर के बाद मुस्लिम लीग-नवाज ने पार्टी की महिला सदस्यों से मार्च से दूर रहने के लिए बोला है.

आपको बता दें कि एक दिन पहले मौलाना फजलुर रहमान ने बोला था कि अगर उनका मार्च रोका गया तो 'फिर पूरा देश उनके लिए जंग का अखाड़ा बन जाएगा. वे लोग किसी एक स्थान या रणनीति पर नहीं टिकेंगे बल्कि इसे बदलते रहेंगे.'