आइए जानते हैं कौन हैं आनंदी बेन पटेल व कैसा रहा है उनका अब तक का राजनीतिक सफर...

आइए जानते हैं कौन हैं आनंदी बेन पटेल व कैसा रहा है उनका अब तक का राजनीतिक सफर...

सालों पहले गुजरात के मोहिनाबा कन्या विद्यालय की दो छात्राओं को नर्मदा नदी में डूबने से बचाने के लिए एक वीर युवती ने बिना सोचे समझे उफनती नदी में छलांग लगा दी और डूबती हुई लड़कियों को सुरक्षित बाहर निकाल लाई थी. इस साहस के लिए उस युवती को जब गुजरात सरकार की ओर से 'वीरता पुरस्कार' से सम्मानित किया जा रहा था, तब तक किसी ने नहीं सोचा था कि भविष्य में उसका नाम देश की बड़ी राजनीतिक शख़्सियतों में शामिल होगा. यह युवती कोई व नहीं बल्कि आनंदी बेन पटेल थीं जिन्होंने भारतीय पॉलिटिक्स में अपनी मजबूती का लोहा मनवाया है. साल 2018 से मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ की राज्यपाल रहीं आनंदी बेन पटेल को शनिवार को यूपी की जिम्मेदारी सौंपी गई.

Image result for आइए जानते हैं कौन हैं आनंदी बेन पटेल व कैसा रहा है उनका अब तक का राजनीतिक सफर-  

आनंदी बेन पटेल का जन्म 21 नवंबर, 1941 को गुजरात के एक गांधीवादी परिवार में हुआ था. बचपन से ही वह खेल-कूद व एथलेटिक्स में सक्रिय थीं व कई प्रतिस्पर्धाओं में पुरस्कार जीतती रही थीं. उनकी विवाह मफतभाई पटेल के साथ हुई, जो उन दिनों गुजरात बीजेपी के फायर बिग्रेड नेताओ में से एक थे. बहादुरी पुरस्कार मिलने के बाद पति के मित्र नरेंद्र मोदी वशंकरसिंह वाघेला ने उन्हें बीजेपी से जुड़ने व स्त्रियों को पार्टी के साथ जोड़ने के लिए कहा. उसी वर्ष यानी 1987 में वो गुजरात प्रदेश महिला मोर्चा अध्यक्ष बनकर बीजेपी में शामिल हो गईं. पार्टी में उन दिनों कोई मजबूत महिला नेता नहीं थी इसलिए कुछ ही दिनों में बीजेपी में आनंदीबेन एक निडर नेता के तौर पर उभरीं.

राजनीति में आने के सात वर्षों बाद ही 1994 में वह गुजरात से राज्यसभा की सांसद बनीं. उसके बाद 1998 से 2012 तक लगातार गुजरात विधानसभा की मेम्बर चुनी गईं. केशुभाई पटेल की सरकार में उन्हें एजुकेशन मंत्री बनाया गया. इसके बाद 2007-2014 तक उन्होंने राजस्व मंत्री का कार्यभार संभाला.

22 मई, 2014 को उन्होंने गुजरात की पहली महिला सीएम होने का खिताब अपने नाम किया. अपने कार्यकाल में उन्होंने गुजरात को 100 फीसदी खुले में शौच-मुक्त करने का अभियान चलाया. सभी स्त्रियों के लिए कैंसर की जाँच व मुफ्त उपचार की शुरुआत की. उन्होंने नर्मदा के पानी को खेत तक पहुंचाने के लिए सर्वसम्मति से जमीन संपादन का अभियान चलाया. तमाम उपलब्धियों के साथ उन्होंने सफलतापूर्वक अपना सीएम कार्यकाल समाप्त किया.

आनंदी बेन पटेल ने कई मौकों पर दुनिया पटल पर हिंदुस्तान व गुजरात का अगुवाई किया. वह 1996 में भारतीय संसदीय दल के साथ बुल्गारिया की यात्रा व फ्रांस, जर्मनी, हॉलैंड, इंग्लैंड, नीदरलैंड, अमेरिका, कनाडा, मेक्सिको आदि की एजुकेशन अध्ययन यात्रा में शामिल रहीं. इसके बाद 2002 में कॉमनवेल्थ पार्लियामेन्टरी एसोसिएशन की गुजरात शाखा के दल के साथ नामीबिया-दक्षिण अफ्रीका में 48वीं कांफ्रेन्स में सम्मिलित हुईं. इसके बाद सितंबर 2009 में लंदन में 'विलेज इंडिया ' कार्यक्रम में गुजरात का अगुवाई किया.

मई, 2015 में उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी व गुजरात के व्यापारिक प्रतिनिधि मंडल के साथ बतौर सीएम चाइना का दौरा किया. इसके बाद 23 जनवरी, 2018 को उन्होंने मध्यप्रदेश की गवर्नर का कार्यभार संभाला. 15 अगस्त, 2018 को उन्हें मध्यप्रदेश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के गवर्नर का अलावा प्रभार सौंपा गया.

शनिवार को महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आनंदी बेन पटेल को यूपी का गवर्नर नियुक्त किया. इसकी सूचना राष्ट्रपति भवन की वेबसाइट पर दी गई है. उनके अलावा, बिहार के गवर्नर लालजी टंडन को मध्य प्रदेश का नया गवर्नर नियुक्त किया गया है. वहीं, जगदीप धनखड़ को पश्चिम बंगाल, रमेश वैश्य को त्रिपुरा, फगु चौहान को बिहार औरआरएन रवि को नागालैंड का गवर्नर बनाया गया है.