भोपाल की चिंकी टोक्यो में होने वाले ओलिंपिक खेलों में साधेगीं निशाना

भोपाल की चिंकी टोक्यो में होने वाले ओलिंपिक खेलों में साधेगीं निशाना

राजधानी कीचिंकी यादव 2020 में टोक्यो में होने वाले ओलिंपिक खेलों में निशाना साधेगीं. वह 25 मीटर पिस्टल निशानेबाजी स्पर्धा में भाग लेंगी. चिंकी ने शुक्रवार को दोहा में 14वीं एशियाई चैंपियनशिप में स्त्रियों के 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में स्थान बनाकर टोक्यो ओलिंपिक में अपनी स्थान पक्की की. चिंकी के पिता मेहताब सिंह यादव खेल विभाग में पदस्थ हैं. चिंकी जसपाल राणा से कोचिंग लेती हैं.

Image result for भोपाल की चिंकी

चिंकी ने क्वॉलीफाइ करने के लिए में 588 अंक हासिल किए, जिसमें एक ‘परफेक्ट 100’ भी शामिल है. वह थाईलैंड की नेपहासवान यांग पाइबून (590) के बाद दूसरे जगह पर रहीं. 21 वर्षीय निशानेबाज चिंकी अब 8 स्त्रियों के फाइनल मुकाबले में प्रतिभाग करेंगी. ओलंपिक 2020 में हिंदुस्तान के लिए 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा चुनी गईं वह दूसरी खिलाड़ी हैं. इससे पहले राही सरनोबत ने इस वर्ष के प्रारम्भ में म्यूनिख में दुनिया कप में जीत दर्ज करके ओलंपिक की टिकट हासिल की थी.

मप्र निशानेबाजी अकादमी की खिलाड़ी चिंकी यादव अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में तीन गोल्ड, दो रजत व चार कांस्य पदक जीत चुकी हैं. चिंकी यादव के पिता मेहताब सिंह खेल विभाग में इलेक्ट्रिशियन के पद पर कार्यरत हैं. वह परिवार के साथ तात्या टोपे स्टेडियम के आवासीय परिसर में रहते हैं. चिंकी बचपन से ही स्टेडियम में खिलाड़ियों को शूटिंग की प्रैक्टिस करते देखा करती थी. यहीं से ही शूटिंग के प्रति उनका लगाव बढ़ता गया. चिंकी के छोटे भाई भी शूटर हैं.

चिंकी यादव ने वर्ष 2017 में 'जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप' के दौरान ब्रांन्ज़ मेडल अपने नाम किया था. तब चिंकी के पिता मेहताब सिंह यादव ने बोला था कि शूटिंग काफ़ी महंगा खेल है. मेरे पास इस खेल के इक्विपमेंट ख़रीदने के पैसे भी नहीं थे, लेकिन खेल विभाग ने मेरे परिवार की पूरी मदद की.