सीबीआई ने एक ऑफिसर को घूस लेते हुए रंगे हाथों लिया दबोच

सीबीआई ने एक ऑफिसर को घूस लेते हुए रंगे हाथों लिया दबोच

सीबीआई ने एक ऑफिसर को घूस लेते हुए रंगे हाथों दबोच लिया. यह ऑफिसर गृह मंत्रालय सेक्शन आफिसर के पद पर तैनात था. ऑफिसर धीरज कुमार सिंह ने एक सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी से जुड़े मुद्दे की जाँच को बंद करने के लिए सीबीआइ के एक डीआइजी को दो करोड़ रुपये की घूस की पेशकश की थी, मगर डीआइजी ने इसकी जानकारी अपने सीनियर अधिकारियों को दे दी. इसके बाद सीबीआइ ने जाल बिछाया व जैसे ही 16 लाख रूपये की पहली किश्त देने वे पहुंचे उन्हें अरैस्ट कर लिया गया.

धीरज कुमार सिंह के साथ ही उक्त कंपनी से जुड़े दिनेश चंद्र गुप्ता को भी हिरासत में लिया गया है.एक वरिष्ठ ऑफिसर ने बोला कि एक सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी की ओर से एक व्यक्तिगत कंपनी को गलत ढंग से लाभ पहुंचाने की शिकायत की प्रारंभिक जाँच की जा रही थी. प्रारंभिक जाँच में पुख्ता सबूत मिलने के बाद इस मुद्दे में एफआइआर दर्ज की जाती. इस बीच धीरज कुमार सिंह ने डीआइजी के साथ सम्पर्क कर प्रारंभिक जाँच में आरोपों को बेबुनियाद ठहराने को बोला व इसके बदले में दो करोड़ रुपये का प्रलोभन दिया.

डीआइजी से इसकी शिकायत मिलने के बाद सीबीआइ ने धीरज कुमार सिंह को रंगे हाथों अरैस्ट करने की योजना बनाई.डीआइजी ने घूस के एडवांस में कुछ देने को बोला गया व मुद्दा 16 लाख रुपये पर तय हुआ. पूरी वार्ता व सौदेबाजी पर सीबीआइ के ऑफिसर बारीकी से नजर रखे हुए थे.गिरफ्तारी के बाद सीबीआइ धीरज कुमार सिंह व दिनेश चंद्र गुप्ता के घर की तलाशी ली. CBI को तलाशी में कई अहम दस्तावेज मिले हैं.