सिंगर और रैपर हार्ड कौर का एक और वीडियो आया सामने, हुआ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज

सिंगर और रैपर हार्ड कौर का एक और वीडियो आया सामने, हुआ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज

सिंगर और रैपर हार्ड कौर का एक और वीडियो सामने आया है जिसमें वह खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए भारत व केंद्र सरकार को अपशब्द कह रही है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाली हार्ड कौर ने पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को अपशब्द कहे। प्रो खालिस्तान समर्थकों के साथ वीडियो में दिखाई दे रही हार्ड कौर ने आजाद खालिस्तान जैसी असंवैधानिक मांग भी की।

रैपर सिंगर रैफरेंडम 2020 का समर्थन करते हुए दिख रही है। इस वीडियो में ये लोग प्रधानमंत्री को अपशब्द कहते देखे जा सकते हैं। वीडियो में उन्होंने कहा,'ये हमारा हक है जिसे लेकर रहेंगे। ये 15 अगस्त सिखों के लिए स्वतंत्रता दिवस नहीं है और इसलिए 15 अगस्त को हम सभी खालिस्तानी झंडे फहराएंगे।' इस वीडियो में हार्ड कौर प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन के सदस्यों के साथ दिखाई दे रही है। इस संगठन को पाक और वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा समर्थन किया जा रहा है।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के खिलाफ सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में हार्ड कौर के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। 'सिख्स फॉर जस्टिस' को देशविरोधी गतिविधियों के चलते बैन कर दिया गया था। सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए कई वीडियो में हार्ड कौर जनमत संग्रह का समर्थन करते हुए और लोगों से खालिस्तान के लिए वोट करने की अपील करते हुए दिखाई दी थीं।

वहीं, एक और वीडियो सामने आने के बाद हार्ड कौर को सोशल मीडिया में जमकर ट्रोल किया जा रहा है। हार्ड कौर का पहले भी विवादों से नाता रहा है। एक कॉन्सर्ट के दौरान सिख समुदाय के गुरू गोविंद सिंह के लिए उन्होंने अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। हार्ड कौर का असली नाम तरन कौर ढिल्लन है।