इस बिल के पास होने के बाद इस सरकार ने कस ली है कमर

इस बिल के पास होने के बाद इस सरकार ने कस ली है कमर

 Citizenship (Amendment) Bill, 2019 को राज्यसभा में पास करवाने के लिए नरेन्द्र मोदी सरकार ने कमर कस ली है. हालांकि, इसके लिए महत्वपूर्ण संख्याबल जुटाना पार्टी के लिए एक चुनौती साबित होगी. दरअसल, पूर्व सहयोगी शिवसेना ने यूटर्न लेते हुए बिल पर अब शक जताया है. वहीं, एनडीए सहयोगी जेडीयू के अंदर से भी इस बिल को लेकर आवाजें उठने लगी हैं.

शिवसेना ने निचले सदन में विधेयक का समर्थन किया. अब महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को बोला कि शिवसेना राज्यसभा में तब तक नागरिकता (संशोधन) विधेयक का समर्थन नहीं करेगी, जब तक कि पार्टी द्वारा लोकसभा में उठाए गए सवालों का जवाब नहीं मिल जाता. बता दें कि लोकसभा ने सोमवार को इस विधेयक को पारित कर दिया है, जिसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश व पाक से धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक हिंदुस्तान आए गैर मुस्लिम शरणार्थी – हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी व ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन करने का पात्र बनाने का प्रावधान है.