किसानों से शाह की अपील, सड़कों पर ना करें आंदोलन

किसानों से शाह की अपील, सड़कों पर ना करें आंदोलन

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को गृह मंत्री अमित शाह ने संदेश दिया है और बातचीत की अपील की है। गृह मंत्री ने कहा कि किसानों की हर समस्या और मांग पर विचार करने के लिए केंद्र सरकार तैयार है। बता दें कि कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने 3 दिसंबर को किसानों को बातचीत के लिए बुलाया गया है।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि पंजाब की सीमा से लेकर दिल्ली-हरियाणा सीमा पर रोड पर अलग-अलग किसान यूनियन की अपील पर आज जो किसान भाई अपना आंदोलन कर रहे हैं, उन सभी से मैं अपील करना चाहता हूं कि भारत सरकार आपसे चर्चा के लिए तैयार है। गृह मंत्री ने ये भी कहा कि अगर किसान 3 दिसंबर से पहले बात करना चाहते हैं तो सरकार इसके लिए भी तैयार है।

किसान सरकार से कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। वह सड़क पर उतरे हैं। पंजाब की सीमा से लेकर दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसान आंदोलन कर रहे हैं। किसानों की मांग है कि उन्हें जंतर मंतर पर प्रदर्शन करने की इजाजत दी जाए, लेकिन सरकार ने उन्हें दिल्ली के बुराड़ी स्थित निरंकारी ग्राउंड पर प्रदर्शन करने की अनुमति दी है। किसान इसपर राजी नहीं हैं। वे सिंधु बॉर्डर पर जम हुए हैं।

अमित शाह ने कहा कि अगर किसान चाहते हैं कि भारत सरकार जल्द बात करे, 3 दिसंबर से पहले बात करें, तो मेरा आपको आश्वासन है कि जैसी ही आप निर्धारित स्थान पर स्थानांतरित हो जाते हैं, उसके दूसरे ही दिन भारत सरकार आपकी समस्याओं और मांगों पर बातचीत के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि अलग-अलग जगह नेशनल और स्टेट हाइवे पर किसान भाई अपने ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ इतनी ठंड में खुले में बैठे हैं, इन सभी से मैं अपील करता हूं कि दिल्ली पुलिस आपको एक बड़े मैदान में स्थानांतरित करने के लिए तैयार है, जहां आपको सुरक्षा व्यवस्था और सुविधाएं मिलेंगी।

गृह मंत्री ने कहा कि अगर आप रोड की जगह निश्चित किए गए स्थान पर अपना धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण ढ़ंग से, लोकतांत्रिक तरीके से करते हैं तो इससे किसानों की भी परेशानी कम होगी और आवाजाही कर रही आम जनता की भी परेशानी कम होगी।


Co-Win ऐप में खामियां, लोगों को नहीं मिला टीकाकरण का मैसेज

Co-Win ऐप में खामियां, लोगों को नहीं मिला टीकाकरण का मैसेज

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन का बड़ा अभियान शुरू होने के साथ ही सरकार और प्रशासन को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। देशभर में एक साथ शुरू हुए इतने बड़े वैक्सीनेशन ड्राइव को लेकर समस्या तब आई, जब सरकार के Co-Win एप में खामियां नजर आने लगी। जिसके बाद एक ओर तो महाराष्ट्र में दो दिन के लिए वैक्सीनेशन को रोक दिया गया तो वहीं दिल्ली में करीब 35 फीसदी लोगों को वैक्सीनेशन का मैसेज ही नहीं पहुंचा।

Co-Win ऐप काफी खामियां
दरअसल, भारत में कोरोना वैक्सीनेशन शुरू हुए तीन दिन हो गए हैं। अब तक लाखों लोगों को टीका लग चुका है। लेकिन इस अभियान में कई समस्याएं भी दिखना शुरू हुई हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सरकार द्वारा बनाई गई Co-Win ऐप को लेकर काफी खामियां मिली हैं।

35% लोगों को वैक्सीनेशन का नहीं मिला मैसेज
जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में कई लोगों को टीकाकरण के वक्त का मैसेज ही नहीं मिला। जानकारी न मिलने से वह वैक्सीनेशन में चूक गए। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली में वैक्सीनेशन के पहले दिन ही लोगों को Co-Win ऐप में खामियां मिलीं। जिनका टीकाकरण होना था, उन्हें वैक्सीनेशन के समय का मैसेज नहीं पहुंचा। इस खामी का पता चलने के बाद अब अस्पतालों की ओर से लोगों को खुद फोन करके टीकाकरण के समय की जानकारी दी जा रही है।

टीकाकरण के टारगेट से चूक गया स्वास्थ्य विभाग
बताया जा रहा है कि वैक्सीनेशन के पहले दिन करीब 35 फीसदी लोग टीकाकरण के लिए नहीं आए, जिसकी वजह उन्हें कोई मैसेज ही नहीं मिलना था। ऐेसे में सरकार वैक्सीनेशन के अपने तय टारगेट से चूक गई। बता दें कि पूरे देश में 3 लाख लोगों का टीकाकरण होना था, लेकिन 1 लाख 65 हजार 714 लोगों के ही वैक्सीनेशन हुए। जिसमें दिल्ली में 81 वैक्सीनेशन सेंटर मे 3403 लोगों को टीका लगा।

अधिकारी फोन करके दे रहे टीकाकरण के समय की जानकारी
बाद में अधिकारियों ने दूसरे दिन रिस्क ना लेते हुए खुद ही लोगों को फोन कर टीकाकरण का समय बताया और पहले दिन की तुलना में अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो सका।

इसके पहले वैक्सीनेशन शुरु होने के अगले दिन महाराष्ट्र में Co-Win ऐप में दिक्कत के मद्देनजर दो दिन के लिए टीकाकरण प्रोग्राम को रोका दिया था।


ठंड और प्रदूषण का डबल अटैक बच्चों के लिए बन सकता है खतरा       जानिए, दूध के साथ किन चीजों को खाने से करना चाहिए परहेज, नहीं तो गड़बड़ी की रहती है आशंका       रोजाना सिर्फ 5 मिनट करें ये 3 काम, पेट की चर्बी हो जाएगी गायब!       नींबू को लंबे समय तक स्टोर करके फ्रेश रखना चाहते है तो इन आसान उपायों को अपनाएं       कब्ज से हैं परेशान, तो रोजाना करें ये योगासन       कोरोना काल में फ्लू हो जाने पर इन बातों का रखें ख्याल       पाना चाहते हैं तेज दिमाग, तो सप्ताह में इतने अंडे खाएं       सेहत और फिटनेस के लिहाज से मक्खन या चीज़ में से क्या खाना है ज्यादा बेहतर?       दिमाग में कैसे जमा होती है याददाश्त? वैज्ञानिकों ने खोला राज़       वजन को कंट्रोल करने के साथ ही मुंह को फ्रेश भी रखती है सौंफ, जानिए फायदे       अर्थराइटिस से पीड़ित है तो सबसे पहले अपनी डाइट को दुरुस्त करें       लंबी उम्र के लिए वैज्ञानिकों ने खोजा खास प्रोटीन, जानिए इस प्रोटीन के स्रोत       जोड़ों में होने वाले हल्के दर्द को भी न करें इग्नोर, हो सकता है आर्थराइटिस का संकेत       जानें, सप्ताह में कितनी बार और कैसे ब्लड शुगर जांच करें       क्या काढ़ा और खुद से इलाज करना, कोविड-19 से लड़ने में कर सकते हैं आपकी मदद       इस योग को करने से महज 30 दिनों में मोटापे से मिल सकता है छुटकारा       तनाव और चिंता दूर करने के साथ सुकून भरी नींद के लिए घर में जरूर लगाएं ये पौधे       आंत के कैंसर की संभावनाओं को काफी हद तक कम करते हैं ये फूड आइटम्स       क्या इंट्रानैसल वैक्सीन COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में कर सकती है मदद       कॉमन कोल्ड, फ्लू और कोरोना वायरस के अंतर को 3 तरह से समझें!