एससीओ बैठक में आज आमने-सामने होंगे भारत और पाकिस्‍तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

एससीओ बैठक में आज आमने-सामने होंगे भारत और पाकिस्‍तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

लंबे समय के बाद भारत और पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहाकारों की बुधवार को ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे में शुरू होने वाले शंघाई कोआपरेशन आर्गेनाइजेशन (एससीओ) में होगी। इस बैठक में मुख्य रूप से अफगानिस्तान में शांति बहाली पर चर्चा होनी है।इसमें भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल के समकक्ष पाकिस्तान के मोईद यूसुफ शामिल हो रहे हैं। हालांकि भारत की तरफ से दो दिवसीय इस बैठक के दौरान में अजित डोवाल की पाकिस्‍तान के एनएसए से किसी तरह की द्विपक्षीय बैठक साफ इनकार किया गया है। वहीं पाकिस्‍तान के एनएसए ने भी दोनों के बीच बातचीत की संभावना से साफ इनकार किया है। हालांकि वो इस सम्‍मेलन के दौरान रूस, ताजिकिस्‍तान, उजबेकिस्‍तान, किर्गीस्‍तान, कजाखिस्‍तान और चीन के एनएसए से वार्ता करेंगे।

वहीं भारत के एनएसए की रूस के एनएसए से बातचीत होनी तय है। इसके लिए करीब ढाई घंटे का शड्यूल भी तय किया गया है। इसी वर्ष मार्च और अप्रैल में भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की दुशांबे में हार्ट ऑफ एशिया की बैठक में मुलाकात हुई थी। हालांकि उस वक्‍त भी दोनों के बीच किसी तरह की औपचारिक द्विपक्षीय बातचीत नहीं हुई थी। बता दें कि फरवरी से ही दोनों देशेां के बीच सीजफायर लागू है।

आपको बता दें कि एससीओ के आठ सदस्‍य देश हैं। इसमें भारत, पाकिस्‍तान रूस, किर्गीस्‍तान, कजाखिस्‍तान, ताजिकिस्‍तान, चीन और उजबेकिस्‍तान शामिल हैं। भारत और पाकिस्‍तान को वर्ष 2017 में इसका पूर्ण सदस्‍य बनाया गया था। नवंबर 2020 में इस संगठन की बैठक की मेजबानी भारत ने की थी। 2021 के लिए इसकी अध्‍यक्षता ताजिकिस्‍तान के पास है।

मौजूदा समय में होने वाली एससीओ की बैठक इसलिए भी बेहद खास है क्‍योंकि हाल के कुछ दिनों में अफगानिस्‍तान को लेकर पाकिस्‍तान और अफगानिस्‍तान के बीच काफी कड़वाहट देखने को मिली है। दोनों ही तरफ से एक दूसरे के ऊपर आरोप-प्रत्‍यारोपों का दौर जारी है। खास बात ये भी है कि इस दौर की शुरुआत कहीं न कहीं भारत के अफगानिस्तान को लेकिन हो रही शांति वार्ता का एक अहम सदस्‍य बनने के बाद ही हुई है।


देश में एक बार फिर कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी

देश में एक बार फिर कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी

देश में कोरोना (Coronavirus) के मामले एक बार फिर से बढ़ना शुरू हो रहे है. जिसके बाद चिकित्सा विभाग अलर्ट मोड पर आ गए है. बात करें मामलों की तो केरल में तेजी से कोरोना (Kerala Mein Corona Case) के मामले बढ़ रहे है. देशभर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 43,654 नए मामले सामने आए (Aaj India Mein Corona Ke Kitne Naye Mamle Aae) है. वहीं, 640 लोगों की मौत भी हुई है. वहीं, कोरोना के कुल नए मामलों में आधे से ज्यादा मरीज अकेले केरल से हैं. केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं, जो कि 29 मई के बाद एक दिन में मिले संक्रमितों की सबसे बड़ी संख्या है. बढ़ते मामलों के बीच केरल इस समय सबसे अधिक चिंता का विषय बना हुआ है. देश के कुल मामलों का लगभग 50 परसेंट केरल से ही है. राज्य में पिछले 24 घंटे में 22129 केस दर्ज किए गए हैं. केरल में डेली मामलों का औसत करीब 16700 केस बना हुआ है. केरल के अलावा पूर्वोत्तर के राज्यों में भी कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. इन जगहों पर आए हैं मामले सबसे ज्यादा 4,037 मामले मलाप्पुरम से सामने आए हैं. इसके बाद त्रिशूर में 2,623, कोझिकोड से 2,397 और एर्नाकुलम से 2,352 और पलक्कड़ से 2,115 मामले मिले. इसके अलावा कोल्लम से 1,914 और कोट्टायम से 1,136, तिरुवनंतपुरम से 1,100, कन्नूर से 1,072 और अलप्पुझा से 1,064 मामले सामने आए. अलर्ट मोड पर केरल प्रशासन केरल प्रशासन बढ़ते मामलों को देखते हुए अलर्ट मोड पर आ गई है. विभाग ने अस्पतालों में व्यवस्था पूरी कर ली है. जिससे कोरोना की दूसरी लहर की तरह मामला न बिगड़े और समय रहते लोगों को इलाज मिल जाए. इन पांच राज्यों से कोरोना से सबसे अधिक नए मामले देश में जिन पांच राज्यों से कोरोना के सबसे अधिक नए मामले सामने आए हैं, उसमें केरल सबसे ऊपर है. इसके बाद हमेशा की तरह महाराष्ट्र से 6258 नए केस पिछले 24 घंटे में सामने आए. वहीं, तमिलनाडु से 1767 केस और आंध्र प्रदेश से 1540 नए मामले सामने आए. कर्नाटक से भी 1501 नए केस सामने आए हैं. कोरोना वैक्सीन की 44.61 करोड़ डोज देश में अभी तक कोविड-19 रोधी टीके की 44 करोड़ 61 लाख 56 हजार 659 डोज दी जा चुकी है. पांच राज्यों - गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में 18-44 आयु वर्ग में एक करोड़ से अधिक लोगों को कोविड-19 रोधी टीके की खुराक दी गई है. वहीं, आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, हरियाणा, झारखंड, केरल, तेलंगाना, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा, पंजाब, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में 18-44 आयु वर्ग में 10 लाख से अधिक लोगों को टीके की पहली खुराक दी गई है.