जिग्‍नेश मेवाणी ने इस विधेयक को विधानसभा के बाहर जलाकर जताया विरोध

जिग्‍नेश मेवाणी ने इस विधेयक को विधानसभा के बाहर जलाकर जताया विरोध

हाल ही में गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्‍नेश मेवाणी ने स्‍टेच्‍यू ऑफ यूनिटी के विषय में लाए गए विधेयक को मंगलवार को विधानसभा के बाहर जलाकर अपना विरोध जताया। जंहा आदिवासियों के समर्थन में मेवाणी ने विधेयक का विरोध किया है। मेवाणी को सत्र के पहले ही दिन सदन से निलंबित कर दिया गया था।

हम आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि गुजरात विधानसभा के तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन संविधान दिवस पर चर्चा के दौरान मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी सदन को बता रहे थे कि गत 26 नवंबर 2019 को राज्‍य सरकार ने हर्ष और उल्‍लास के साथ संविधान दिवस मनाया। इसी बीच, विधायक मेवाणी ने सरकार पर संविधान विरोधी कार्य करने का आरोप लगाते हुए बोला कि राज्‍य में दलितों के विरूद्ध अत्‍याचार की घटनाएं हो रही हैं, लेकिन सरकार गंभीर नहीं है। मेवाणी ने बोला कि पूर्व में राज्‍य सरकार की ओर से सुरेंद्रनगर में संविधान की पुस्‍तक को हाथी पर रखकर संविधान यात्रा निकाली गई थी, लेकिन उसकी सुरेंद्रनगर के थानगढ़ में दलित युवकों को गोली मार दी गई थी। सरकार अब भी उन पीड़ित परिवारों को न्‍याय दिलाने पर गंभीर नहीं है।

वहीं सूत्रों का बोलना है कि मंगलवार को उन्होंने स्‍टेच्‍यू ऑफ यूनिटी डेवलपमेंट बिल का विरोध कर रहे आ‍दिवासियों के समर्थन में इस विषय में विधानसभा में लाए गए बfल को जलाकर विरोध जताया। राज्‍य सरकार स्‍टेच्‍यू ऑफ यूनिटी का विकास करने तथा अधिक से अधिक पर्यटकों आकर्षित करके लिए लिए एक विधेयक लाकर वहां के प्रशासन के लिए विधेयक पेश किया, जिसे निर्दलीय विधायक मेवाणी ने आदिवासी विरोधी बताते हुए जला दिया।