किसानों के हिंदुस्तान बंद में कहीं टायर जले तो कहीं रोकी जा रही ट्रेन

किसानों के हिंदुस्तान बंद में कहीं टायर जले तो कहीं रोकी जा रही ट्रेन

कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमा पर में हजारों किसान आंदोलन कर रहे हैं. आज इस आंदोलन का 13वां दिन है. किसानों ने कानून के विरूद्ध आज यानी मंगलवार (8 दिसंबर) को एक दिन के लिए 'भारत बंद' का ऐलान किया है. पूरे देश में आज प्रातः काल 11 बजे से लेकर शाम 3 बजे तक 'भारत बंद' बुलाया गया है. हालांकि, इसका प्रभाव अभी से ही देश के भिन्न-भिन्न हिस्सों में दिखने लगा है. ऐसे में दिल्ली के रास्तों और ट्रैफिक पर भी प्रभाव पड़ रहा है. जानें भिन्न-भिन्न राज्यों का हाल  

दिल्ली

किसानों के आंदोलन का सबसे अधिक असर दिल्ली पर देखा जा रहा है. यहां सीमाओं पर किसान बैठे हैं. साथ ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और उनकी आम आदमी पार्टी ने किसानों के आंदोलन को पूरा समर्थन कर रही है. इस हिंदुस्तान बंद के चलते दिल्ली में परिवहन सेवाओं पर प्रभाव पड़ने लगा है. ऐसे इसलिए क्योंकि कुछ टैक्सी यूनियन ने भी हिंदुस्तान बंद का समर्थन किया है. साथ ही मंडियों के भी कुछ कारोबारी भी इस आंदोलन में भाग लेंगे. वहीं दिल्ली सीमा पर प्रतिबंध जारी है कई रास्ते भी बंद किए गए हैं.

पंजाब

पंजाब पर हिंदुस्तान बंद का खास प्रभाव इसलिए भी माना जा रहा है क्योंकि किसान आंदोलन का केन्द्र पंजाब ही है. चूंकी सत्तारूढ़ कांग्रेस, विपक्षी शिरोमणि अकाली दल और आम आदमी पार्टी बंद का समर्थन कर रही है. प्रदेश पूरी तरह बंद रह सकता है.

हरियाणा

पंजाब के अतिरिक्त किसान आंदोलन का प्रमुख केन्द्र हरियाणा भी है जहां प्रदेश सरकार की सहयोगी जननायक जनता पार्टी के 5 विधायकों ने किसानों के हिंदुस्तान बंद का समर्थन किया है. इसके चलते नैशनल हाइवे समेत दिल्ली की तरफ आने वाले कई रास्तों पर बंद का प्रभाव पड़ सकता है.

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस पार्टी के साथ-साथ लेफ्ट पार्टियों ने भी हिंदुस्तान बंद का समर्थन किया है. यहां प्रदेश की सभी ट्रेड यूनियन ने भी बंद के समर्थन में है. एक ओर किसान कृषि कानून के विरूद्ध बंद रखे हैं और दूसरी ओर बीजेपी ने अपने कार्यकर्ता की मर्डर के लिए बंद का आह्वान किया है. ऐसे में पश्चिम बंगाल पर दोहरा असर देखने को मिल रहा है.

ओडिशा

ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल ने बंद का समर्थन नहीं किया है. लेकिन अन्य दलों का समर्थन है. इन पार्टियों के प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार प्रातः काल ट्रेन, ट्रेक और अन्य वाहनों को रोक दिया. भुवनेश्वर में बंद के आयोजकों ने मास्टर कैंटीन स्क्वायर और जयदेव विहार स्क्वायर में टायर जलाए, जबकि अन्य भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन की पटरियों पर बैठ गए.

उत्तर प्रदेश

पश्चिम उत्तर प्रदेश में बंद का अधिक प्रभाव दिख रहा है. यहां भारतीय किसान यूनियन का अधिक असर है. यूनियन सरकार के कानून का विरोध कर रहा है. बस और रेल यात्रियों को हिंदुस्तान बंद के चलते कठिनाई हो सकती है. उत्तर प्रदेश में शाम तीन बजे तक चक्का जाम रहेगा. यातायात सेवाएं प्रभावित हैं.

राजस्थान

राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी ने किसानों के बंद का समर्थन किया है. प्रदेश के बड़े हाइवे पर बंद का सबसे अधिक प्रभाव पड़ सकता है. हाइवे पर अलावा पुलिस बल की तैनाती की जा रही है.

बिहार

बिहार में मुख्य विपक्षी दल आरजेडी, कांग्रेस पार्टी और लेफ्ट दलों ने किसानों के हिंदुस्तान बंद का समर्थन किया है. आरजेडी ने प्रदेश के सभी हिस्सों में प्रदर्शन का ऐलान किया है. माना जा रहा है कि प्रदेश के कई हिस्सों में इसका बड़ा प्रभाव पड़ सकता है.


84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 84वें दिन शुक्रवार को रात आठ बजे तक 32 लाख से ज्यादा लोगों को टीके लगाए गए। इनको मिलाकर लाभार्थियों को अब तक वैक्सीन की कुल 9.78 करोड़ से ज्यादा डोज दी जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान में दी जा चुकी है 9.78 करोड़ डोज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि रात आठ बजे तक मिली अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक कुल नौ करोड़ 78 लाख 71 हजार से ज्यादा टीके लगाए गए हैं।

लाभार्थियों में 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल

60 साल से अधिक उम्र के 3.85 करोड़ लोगों को पहली और 15.80 लाख को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। 45-59 साल वाले 2.81 करोड़ को पहली और 5.79 लाख को दूसरी डोज की गई है।


लाभार्थियों में 1 करोड़ 44 लाख स्वास्थ्यकर्मी शामिल

लाभार्थियों में 89.87 लाख स्वास्थ्यकर्मी (पहली डोज), 54.78 लाख स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी डोज), 98.65 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (पहली डोज) और 46.56 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (दूसरी डोज) भी शामिल हैं।

देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से शुरु हुई


मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को 32,16,949 डोज दी गईं। इनमें से 28,24,066 लोगों को पहली और 3,92,883 लोगों को दूसरी डोज दी गईं। बता दें कि देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी और एक अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को शामिल करने के बाद इसमें तेजी आई है।

वित्त मंत्री ने टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपने मंत्रालय के कर्मचारियों के टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की और सभी लोगों से अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ टीका लगवाने की अपील की। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट में यह जानकारी दी।


देश में 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव, मास्क पहनना, दो गज की दूरी बनाए रखना जरूरी

अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव की अपील का जिक्र किया और इसमें शामिल होने का आग्रह किया। साथ ही उन्होंने सभी कर्मचारियों से कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी उपायों का सख्ती के साथ पालन करने को भी कहा, जिसमें मास्क पहनना, एक दूसरे के बीच दो गज की दूरी बनाए रखना और कुछ-कुछ अंतराल पर अच्छी तरह से हाथ धोते रहना शामिल है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर