तीन दिन बाद भी दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण में नहीं हो रहा सुधार

तीन दिन बाद भी दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण में नहीं हो रहा सुधार

दिल्ली एनसीआर के लोगों ने रविवार को तीसरे दिन भी जहरीली हवा में ही सांस ली। फरीदाबाद और ग्रेटर नोएडा को छोड़कर सभी जगहों का एयर इंडेक्स 400 के पार ही दर्ज हुआ। हालांकि, तेज हवा के असर से इसमें कुछ अंकों की कमी दर्ज की गई। इस बीच दिल्ली के पीएम 2.5 प्रदूषण में पराली के धुएं की हिस्सेदारी रविवार को सीजन की सर्वाधिक 48 फीसद तक जा पहुंची।

तत्काल बैठक बुलाने के लिए केंद्र को पत्र लिखा


दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि पटाखे और पराली दोनों ने मिलकर हवा की स्थिति को खतरनाक बनाया। पटाखे का प्रदूषण कम हो जाएगा लेकिन पराली जलने की घटनाएं जब तक नहीं रूकती हैं, तब तक प्रदूषण का ख़तरा बना रहेगा। हम केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को चिट्ठी लिखकर तत्काल एक बैठक बुलाने को कहेंगे।

दीवाली के तीन दिन बाद भी ज्यादातर जगहों पर एयर इंडेक्स 400 के पार


केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी बुलेटिन के अनुसार रविवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 428 रहा। शनिवार के 437 के मुकाबले यह पांच अंक कम था। फरीदाबाद का एयर इंडेक्स 372, गाजियाबाद का 455, ग्रेटर नोएडा का 365, गुरुग्राम का 419 और नोएडा का 446 दर्ज किया गया। शनिवार के मुकाबले एनसीआर के इन सभी शहरों के एयर इंडेक्स में भी कुछ अंकों की गिरावट देखने को मिली। फरीदाबाद और ग्रेटर नोएडा का एयर इंडेक्स बहुत खराब, जबकि अन्य जगहों का गंभीर श्रेणी में रिकार्ड हुआ। हरियाणा का जींद देश में सबसे ज्यादा प्रदूषित रहा। वहां का एक्यूआइ 463 दर्ज किया गया।


पंजाब और हरियाणा में 4,189 जगहों पर जली पराली

पंजाब और हरियाणा में पिछले 24 घंटों के दौरान पराली जलाने के 4,189 मामले दर्ज किए गए। पीएम 2.5 के स्तर में पराली के धुएं का असर 48 फीसद रहा, जो इस सीजन में अभी तक का सर्वाधिक है। रविवार को दिल्ली में पीएम 2.5 का स्तर 282, जबकि पीएम 10 का स्तर 225 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा।

आठ से 10 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा


मौसम विभाग के मुताबिक रविवार को सफदरजंग और पालम दोनों एयरपोर्ट पर हवा की गति आठ से 10 किमी प्रति घंटे तक रही। बाद में हवा की गति धीमी हो गई। दृश्यता 1,200 से 2,200 मीटर तक दर्ज की गई।

दिल्ली का न्यूनतम तापमान रहा 14.2 डिग्री सेल्सियस

रविवार को भी तेज हवा के बीच दिनभर हल्की धूप खिली रही। हालांकि, धूप के बावजूद हवा में ठंड का एहसास रहा। अधिकतम तापमान सामान्य स्तर पर 29.1 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य स्तर पर 14.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर 36 से 91 फीसद रहा।


राहत के आसार नहीं

सफर इंडिया का पूर्वानुमान है कि अभी अगले दो दिन तक दमघोंटू प्रदूषण से राहत मिलने के आसार नहीं हैं। हालांकि, एयर इंडेक्स में कुछ अंकों की आंशिक गिरावट तो होगी, लेकिन इसकी श्रेणी बहुत खराब या गंभीर ही बनी रहेगी। सोमवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। सुबह में कोहरा होगा। अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 29 और 14 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। तापमान में अब लगातार गिरावट होगी और अगले कुछ ही दिनों में अधिकतम तापमान 27 डिग्री, जबकि न्यूनतम 13 डिग्री पर आ जाएगा।


शहर और उनका एयर इंडेक्स

जींद - 463

गाजियाबाद- 455

नोएडा- 446

हापुड़- 444

फिरोजाबाद- 443

बागपत- 440

वृंदावन- 435

दिल्ली- 428

हिसार- 428


क्या बिना मर्जी लगाया जा सकता है कोरोना का टीका? सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दिया जवाब

क्या बिना मर्जी लगाया जा सकता है कोरोना का टीका? सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दिया जवाब

नई दिल्ली: केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी कोविड-19 टीकाकरण दिशानिर्देशों में किसी व्यक्ति की सहमति के बिना उसका जबरन टीकाकरण कराने की बात नहीं की गई है। दिव्यांगजनों को टीकाकरण प्रमाणपत्र दिखाने से छूट देने के मामले पर केंद्र ने न्यायालय से कहा कि उसने ऐसी कोई मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी नहीं की है, जो किसी मकसद के लिए टीकाकरण प्रमाणपत्र साथ रखने को अनिवार्य बनाती हो।

केंद्र ने गैर सरकारी संगठन एवारा फाउंडेशन की एक याचिका के जवाब में दायर अपने हलफनामे में यह बात कही। याचिका में घर-घर जाकर प्राथमिकता के आधार पर दिव्यांगजनों का टीकाकरण किए जाने का अनुरोध किया गया है। हलफनामे में कहा गया है कि भारत सरकार और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी दिशानिर्देश संबंधित व्यक्ति की सहमति प्राप्त किए बिना जबरन टीकाकरण की बात नहीं कहते। केंद्र ने कहा कि किसी भी व्यक्ति की मर्जी के बिना उसका टीकाकरण नहीं किया जा सकता।