हनी ट्रैप :  उच्च न्यायालय के आदेश के पश्चात् ही इनकम टैक्स विभाग ने जारी किया इतने लोगो के लिए नोटिस

हनी ट्रैप :  उच्च न्यायालय के आदेश के पश्चात् ही इनकम टैक्स विभाग ने जारी किया इतने लोगो के लिए नोटिस

हनी ट्रैप मुद्दे में उच्च न्यायालय के आदेश के पश्चात् ही एसआईटी से मिले 354 पेज के दस्तावेजों के आधार पर इनकम टैक्स विभाग ने पैसों के लेन-देन के विषय में जाँच शुरू कर दी है। जिसमें दस्तावेजों में मिले प्रमाणों के आधार पर इस केस से जुड़े 12 लोगों को विभाग ने इस सम्बन्ध में नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया है। जिसमें कई प्रभावशाली नौकरशाह, नेता व पत्रकार भी सम्मलित हैं।

आने वाले 15 दिन में इस मुद्दे पर पूछताछ प्रारम्भ होगी। सूत्रों के अनुसार इन 12 लोगों के नाम मुख्य अभियुक्त श्वेता विजय जैन, आरती दयाल व श्वेता स्वप्निल जैन से हुई पूछताछ में यह नाम सामने आये हैं। इस विभाग ने बैंक, लॉकर व हिसाब-किताब के प्रमाणों के आधार पर जानकारी निकली है। इस मुद्दे में शुरूआती तौर पर लगभग कितना लेन-देन हो चुका है। वही कुछ मामलों में तो हवाला गिरोह के जरिये भी आरोपी स्त्रियों को धन दिया गया है। इन लोगों में विदेश यात्राएं भी है तो यह सवाल बार-बार सामने आ रहा है कि इतना पैसा आखिर आया बोला से, वही इन 12 लोगों से यही सवाल का जवाब पूछा जाएगा। इन 12 में से अधिकतर नामों का जिक्र एसआईटी ने न्यायालय में पेश अपने चालान में भी कर चुके है।

विभाग को इस बात कि आसार है कि कुछ अंतर्राष्ट्रीय संगठित हवाला रैकेटियर इसमें सम्मलित थे। हनी ट्रैप मुद्दे में उच्च न्यायालय की इंदौर में अंतरिम आवेदन पर बीते सोमवार को सुनवाई हुई थी। वही आवेदन में जाँच की मॉनिटरिंग करने वाले व एसपी रहे अवधेश गोस्वामी व टीआई विनोद दीक्षित को हटाए जाने पर असहमति जताई थी उच्च न्यायालय ने भी दोनों को हटाए जाने पर नाराजगी जताई है वही काेर्ट ने बताया कि एसआईटी अंतरिम आवेदन पर 2 मार्च तक जवाब पेश किया जायेगा। न्यायालय ने मौखिक रूप से यह बताया है कि एसआईटी मूल याचिका का जवाब नहीं दे रही है वही न्यायालय से अनुमति के बिना ही अधिकारी को भी हटा रही है।