गांव में अपने पड़ोस की राशन वाली दुकान से निकाल सकेंगे कैश

गांव में अपने पड़ोस की राशन वाली दुकान से निकाल सकेंगे कैश

नई दिल्ली: देश में कोरोना काल (Corona Epidemic) में बैंकिंग सुविधा (Banking Facilities) को व सुगम (Smooth) बनाने की कवायद प्रारम्भ हो गई है। देश की सरकारी बैंकों के साथ अब प्राइवेट सेक्टर्स के भी कई बैंक (Banks)  गांव में ही लोगों को बैंकिंग सुविधा देने पर कार्य प्रारम्भ कर दिया है। कई सरकारी बैंकों के साथ कुछ प्राइवेट बैंक जैसे आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) व एचडीएफसी (HDFC) ने अब अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग व फोन बैंकिग सुविधा गांव के सरकारी राशन केंद्रों (Ration Centers) पर प्रारम्भ करने पर विचार कर रहे हैं। कोरोनाकाल में खाताधारक बैंक की इस सुविधा से कई तरह के फायदा उठा सकते हैं। इससे लोगों को शहर या मार्केट जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी व वह 10 हजार रुपये तक निकासी गांव के ही एटीएम से कर सकेंगे।

गांव में ही अब ATM सुविधा मिलेगी
बता दें कि कोरोना काल में नरेन्द्र मोदी सरकार अब अब ग्रामीण इलाकों में ही एटीएम सुविधा मजबूत कर रही है। ग्रामीण इलाकों के सरकारी राशन दुकानों को इसके लिए चुना गया है। इन दुकानों पर लगी ई-पास मशीनों में अब मनी ट्रांजिस्टिंग एप्प के जरिए लेनदेन प्रारम्भ की जाएगी। इस एप्प के जरिए राशन की दुकानों पर गांव के लोग किसी भी बैंक से संबंधित जमा-निकासी कर सकेंगे। यूपी व बिहार जैसे राज्यों में जल्द ही यह व्यवस्था प्रारम्भ की जा सकती है। अब गांव के लोग सरकारी राशन के दुकानों से राशन लेने के साथ ही रुपये की भी जमा व निकासी कर सकेंगे।

कई राज्यों में हुई शुरू
कई राज्यों के संबंधित विभगों ने अब इसको लेकर पहल प्रारम्भ कर दी है। प्रदेश सरकारें बैंकों में भारी भीड़ को देखते हुए व कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए इस योजना पर कार्य कर रही है। इस सेवा प्रारम्भ हो जाने के बाद अब गांव के लोगों को शहर का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा, जिससे समय की बर्बादी भी बचेगी। भागदौड़ से भी छुटकारा मिलेगा। लूट-खसौट में भी कमी आएगी। कई प्रदेश सरकारें जल्द ही ई-पास मशीन के माध्यम से यह सुविधा प्रारम्भ करने जा रही है। यह लेन-देन जन सुविधा केंद्रों की तर्ज पर होगा।