एंटीलिया केस: सचिन वाजे का बड़ा बयान, कहा...

एंटीलिया केस: सचिन वाजे का बड़ा बयान, कहा...

मुंबई: एंटीलिया मामले में गिरफ्तार किए गए मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाजे को 3 अप्रैल तक एनआईए की हिरासत बढ़ा दी गई है। इस मामले में सचिन वाझे ने गुरुवार को एनआईए कोर्ट में बयान दिया कि उनका अपराध से कोई लेना देना नहीं है और उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है।

वाजे को 13 मार्च को एनआईए ने गिरफ्तार किया था

मुंबई पुलिस के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाजे को 13 मार्च को एनआईए ने गिरफ्तार किया था। रिमांड खत्म होने के बाद आज वाजे को कोर्ट में पेश किया गया था। एनआई ने वाजे के खिलाफ यूएपीए की धाराएं लगाई हैं और 15 दिनों की कस्टडी मांगी थी।

मुझे बलि का बकरा बनाया गया है-वाजे

कोर्ट में वाजे ने सुनवाई के दौरान जज पीपी सितरे से कहा कि ”मुझे बलि का बकरा बनाया गया है, मेरा केस से कोई लेना देना नहीं है। मैं केवल डेढ़ दिन के लिए केस का जांच अधिकारी था और जो अपनी क्षमता में कर सकता था वह किया।

लेकिन अचानक कहीं कुछ प्लान बदल दिया गया। मैं खुद ही एनआईए ऑफिस गया था और गिरफ्तार कर लिया गया। ‘वाजे ने यह भी कहा कि उन्होंने कोई जुर्म कबूल नहीं किया है।’

पुलिसकर्मी की संलिप्तता पाकर हर कोई हैरान-अनिल सिंह

सुनवाई के दौरान एनआईए के वकील अडिशनल सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने कोर्ट से कहा कि अपराध में किसी पुलिसकर्मी की संलिप्तता पाकर हर कोई हैरान था।

जांच के दौरान एनआई ने वाझे के घर से 62 बुलेट जब्त किए और इसकी जांच की आवश्यकता है कि इन्हें वाजे ने क्यों रखा था। पुलिस डिपार्टमेंट ने वाजे को 30 बुलेट जारी किए थे जिनमें से केवल 5 ही बरामद हुए हैं।

उधर, एनआईए सूत्रों ने बताया कि सजिन वाजे ने जांच एजेंसी के सामने स्वीकार कर लिया है कि विस्फोटक वाली कार के पीछे उन्हीं का हाथ है। वाजे ने बताया कि एंटीलिया (मुकेश अंबानी का घर) के बाहर विस्फोटक इसलिए रखा क्योंकि जांच अधिकारी के रूप में इस केस को सॉल्व करके सुपर कॉप बनना चाहता था।

एनआईए ने एंटीलिया के पास से विस्फोटक मिलने के मामले में आरोपी निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के खिलाफ बुधवार को गैरकानूनी गतिविधियां (निवारण) अधिनियम (यूएपीए) की धाराएं भी लगाई हैं। एनआईए ने विशेष एनआईए अदालत को इस मामले में यूएपीए की धाराएं जोड़ने की जानकारी देते हुए बुधवार को अर्जी दाखिल की।


84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 84वें दिन शुक्रवार को रात आठ बजे तक 32 लाख से ज्यादा लोगों को टीके लगाए गए। इनको मिलाकर लाभार्थियों को अब तक वैक्सीन की कुल 9.78 करोड़ से ज्यादा डोज दी जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान में दी जा चुकी है 9.78 करोड़ डोज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि रात आठ बजे तक मिली अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक कुल नौ करोड़ 78 लाख 71 हजार से ज्यादा टीके लगाए गए हैं।

लाभार्थियों में 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल

60 साल से अधिक उम्र के 3.85 करोड़ लोगों को पहली और 15.80 लाख को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। 45-59 साल वाले 2.81 करोड़ को पहली और 5.79 लाख को दूसरी डोज की गई है।


लाभार्थियों में 1 करोड़ 44 लाख स्वास्थ्यकर्मी शामिल

लाभार्थियों में 89.87 लाख स्वास्थ्यकर्मी (पहली डोज), 54.78 लाख स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी डोज), 98.65 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (पहली डोज) और 46.56 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (दूसरी डोज) भी शामिल हैं।

देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से शुरु हुई


मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को 32,16,949 डोज दी गईं। इनमें से 28,24,066 लोगों को पहली और 3,92,883 लोगों को दूसरी डोज दी गईं। बता दें कि देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी और एक अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को शामिल करने के बाद इसमें तेजी आई है।

वित्त मंत्री ने टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपने मंत्रालय के कर्मचारियों के टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की और सभी लोगों से अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ टीका लगवाने की अपील की। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट में यह जानकारी दी।


देश में 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव, मास्क पहनना, दो गज की दूरी बनाए रखना जरूरी

अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव की अपील का जिक्र किया और इसमें शामिल होने का आग्रह किया। साथ ही उन्होंने सभी कर्मचारियों से कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी उपायों का सख्ती के साथ पालन करने को भी कहा, जिसमें मास्क पहनना, एक दूसरे के बीच दो गज की दूरी बनाए रखना और कुछ-कुछ अंतराल पर अच्छी तरह से हाथ धोते रहना शामिल है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर