विभिन्न देशों में बच्चों के टीकाकरण की स्थिति पर एक नजर...

विभिन्न देशों में बच्चों के टीकाकरण की स्थिति पर एक नजर...

बच्चों में कोरोना संक्रमण के गंभीर मामले अपेक्षाकृत कम होने के बावजूद उन्हें पूर्ण सुरक्षा देने के लिए टीके की जरूरत जताई जाती रही है। टीका लगाकर बच्चों को वायरस से पूरी तरह सुरक्षित रखना इसलिए भी जरूरी है, ताकि संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सके। इससे नए वैरिएंट का खतरा कम होता है। अब तक कई देश बच्चों के लिए टीके को मंजूरी दे चुके हैं। इनमें ज्यादातर देशों ने 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों के लिए टीके को मंजूरी दी है। 12 से कम उम्र के लिए टीके को मंजूरी देने वाले चुनिंदा देश ही हैं। विभिन्न देशों में बच्चों के टीकाकरण पर एक नजर :

क्यूबा सबसे आगे : बच्चों की उम्र के हिसाब से देखा जाए तो टीके को मंजूरी देने के मामले में क्यूबा सबसे आगे है। वहां सरकार ने पिछले महीने दो साल से बड़े सभी बच्चों को टीका लगाने की स्वीकृति दी थी। अब भारत में भी दो से 18 साल के बच्चों के टीकाकरण की राह खुली है।


चीन, चिली और अल सल्वाडोर में भी मंजूरी : चीन ने तीन साल से बड़े बच्चों को टीका लगाने की मंजूरी दी है। वहां सिनोवैक और कोरोनावैक टीके लगाए जा रहे हैं। चिली में भी चीन की सिनोवैक वैक्सीन ही लगाई जा रही है, लेकिन वहां छह साल से बड़े बच्चों को ही टीका लगाने की स्वीकृति दी गई है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में सिनोफार्म टीके को तीन साल से बड़े बच्चों के लिए मंजूर किया गया है। हालांकि यूएई सरकार ने स्पष्ट किया है कि टीकाकरण पूरी तरह स्वैच्छिक होगा। 


कुछ देशों की डगर मुश्किल : इन बढ़ते कदमों के बीच कुछ ऐसे देश भी हैं जिनके लिए बच्चों के टीकाकरण की राह बहुत मुश्किल है। इसकी बड़ी वजह है वहां टीकों की कम उपलब्धता। आंकड़े बताते हैं कि जहां दुनियाभर में 47 फीसद से ज्यादा आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, वहीं गरीब देशों में अब तक मात्र 2.5 फीसद आबादी को ही टीका लग पाया है। इन देशों के लिए अभी बच्चों के टीकाकरण के बारे में सोच पाना भी संभव नहीं है। इनके अलावा, कांगो जैसे देश भी हैं, जहां टीके को लेकर ङिाझक बहुत ज्यादा है। यह झिझक आम जनता में ही नहीं, बल्कि नेताओं और अधिकारियों में भी है। कांगो के राष्ट्रपति फेलिक्स शिसेकेदी ने टीकाकरण अभियान शुरू होने के छह महीने से भी ज्यादा समय बाद पहली डोज लगवाई है।

यूरोप में टीकाकरण : यूरोपीय देशों में अभी 12 साल से बड़े बच्चों को ही टीका लगाने की स्वीकृति दी गई है। यूरोपियन मेडिसिंस एजेंसी (ईएमए) ने मई में ही 12 साल से बड़े बच्चों के लिए फाइजर और बायोएनटेक के टीके को स्वीकृति दे दी थी। फ्रांस, डेनमार्क, जर्मनी, इटली, आयरलैंड, स्पेन और पोलैंड भी 12 साल से बड़े बच्चों को टीका लगा रहे हैं। कई यूरोपीय देश इस उम्र के आधे से ज्यादा बच्चों को कम से कम पहली डोज लगा भी चुके हैं। स्विट्जरलैंड भी जून से ही 12 साल से बड़े बच्चों को टीका लगा रहा है। स्वीडन ने भी इस दिशा में कदम बढ़ाया है। अमेरिका और कनाडा में भी 12 साल से बड़े बच्चों को फाइजर और माडर्ना के टीके लगाए जा रहे हैं।


भारत रक्षा निर्यात में वैश्विक लीडर बने इसके लिए रक्षा मंत्रालय प्रयासरत: राजनाथ सिंह

भारत रक्षा निर्यात में वैश्विक लीडर बने इसके लिए रक्षा मंत्रालय प्रयासरत: राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि रक्षा उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा दिया जा रहा है। रक्षा मंत्री ने बेंगलुरु में कहा कहा कि रक्षा उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने और भारत को वैश्विक रक्षा आपूर्ति चेन का हिस्सा बनाने के उद्देश्य से हमने 2024-25 तक एयरोस्पेस, रक्षा सामान और सेवाओं में 35,000 करोड़ रुपये के निर्यात का लक्ष्य निर्धारित किया है।

उन्होंने आगे एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि भारत पहली बार दुनिया के शीर्ष 25 रक्षा निर्यातक देश की सूची में शामिल हुआ है। रक्षा मंत्री ने कहा, 'स्टाकहोम अंतर्राष्ट्रीय शांति अनुसंधान संस्थान की 2020 की रिपोर्ट के अनुसार, भारत पहली बार दुनिया के शीर्ष 25 रक्षा निर्यातक देश की सूची में शामिल हुआ है। भारत रक्षा निर्यात में वैश्विक लीडर बने इसके लिए रक्षा मंत्रालय लगातार प्रयास कर रहा है।'


हाल ही में राजनाथ सिंह ने नौसेना कमांडर सम्मेलन के तीन दिवसीय दूसरे संस्करण को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत हिंद महासागर क्षेत्र को नौवहन की नियम आधारित स्वतंत्रता और मुक्त व्यापार जैसे सार्वभौमिक मूल्यों के साथ देखता है जिसमें सभी प्रतिभागी देशों के हितों की रक्षा हो। राजनाथ सिंह ने कहा कि व्यापार और अन्य आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिए भारतीय समुद्र क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता कायम रखने की बेहद जरूरत है।