बीते 24 घंटे में कोरोना वैक्सीन की 61 लाख डोज लगाई गई, अबतक कुल 75.89 टीके लगाए गए

बीते 24 घंटे में कोरोना वैक्सीन की 61 लाख डोज लगाई गई, अबतक कुल 75.89 टीके लगाए गए

देश में कोरोना टीकाकरण अभियान तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रतिदिन औसतन 65 लाख टीके लगाए जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना टीके के 61 लाख 15 हजार 690 डोज लगाए गए हैं। कुल अबतक 75.89 टीके लगाए जा चुके हैं। मंत्रालय के अनुसार, 76 लाख 68 हजार 216 सत्रों में अब तक देशभर में कोरोना टीकों की 75 करोड़ 89 लाख 12 हजार 277 खुराक लगाई जा चुकी हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कुल एक करोड़ तीन लाख 65 हजार 064 स्वास्थ्यकर्मियों को पहली खुराक दे दी गई है और 86 लाख 27 हजार 893 को दोनों खुराक दे दी गई है। एक करोड़ 83 लाख 39 हजार 480 फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली खुराक दे दी गई है और वहीं एक करोड़, 41 लाख 57 हजार 234 को वैक्सीन की दोनों खुराक दे दी गई है। 18-44 वर्ष के आयु वर्ग 30 करोड़ 62 लाख 20 हजार 932 लोगों की पहली खुराक और 4 करोड़ 70 लाख 46 हजार 927 लोगों टीके की दोनों खुराक दे दी गई है।


एक्टिव केस तीन लाख 51 हजार

देश में कोरोना के मामले फिलहाल काबू में दिखाई दे रही है। पिछले 80 दिनों से दैनिक मामले 50 हजार से कम सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह आठ बजे जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में कोरोना के 27 हजार 176 मामले सामने आ गए हैं। वहीं इस दौरान 284 लोगों की मौत हो गई है। इस दौरान 38 हजार 012 मरीज ठीक हुए। एक्टिव केस तीन लाख 51 हजार 087 है। रिकवरी रेट 97.62 फीसद है। पाजिटिविटी रेट 1.69 फीसद है। इस दौरान कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए बीते 24 घंटे में 16 लाख 10 हजार 829 सैंपल टेस्ट हुए। कुल अबतक 54 करोड़ 60 लाख 55 हजार 796 सैंपल टेस्ट हो गए हैं। 


ओडिशा और आंध्र प्रदेश की तरफ बढ़ रहा चक्रवात 'गुलाब', एनडीआरएफ की टीमें रवाना

ओडिशा और आंध्र प्रदेश की तरफ बढ़ रहा चक्रवात 'गुलाब', एनडीआरएफ की टीमें रवाना

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने ओडिशा और आंध्र प्रदेश के कुछ इलाकों में चक्रवात तूफान का अलर्ट जारी किया है। रविवार शाम को इसका सबसे अधिक प्रभाव ओडिशा के गोपालपुर से आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम के बीच होने की आशंका जताई जा रही है। बंगाल में भी भारी बारिश के आसार हैं। आने वाले इस तूफान का नाम 'गुलाब' है, जो पाकिस्तान ने रखा है। इसी बीच देश की राजधानी दिल्ली समेत कई अन्य राज्यों में पिछले कई दिनों से बारिश हो रही है। शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई स्थानों पर बारिश दर्ज की गई। दिल्ली में सितंबर की बारिश पहले ही 400 मिमी के निशान को पार कर चुकी है। मौसम विभाग ने कहा कि शुक्रवार शाम तक 413.3 मिमी बारिश हुई, जो सितंबर 1944 में 417.3 मिमी के बाद से महीने में दर्ज की गई अधिकतम बारिश है। शनिवार को भी दिल्ली, एनसीआर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई अलग-अलग स्थानों पर हल्की बारिश हुई है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में अभी और बारिश होने का अनुमान है। 


चक्रवात 'गुलाब' के कारण बदलेगा मौसम का मिजाज

वहीं, शुक्रवार को बंगाल की पूर्व-मध्य खाड़ी के ऊपर एक नया दबाव बना है, जो आज एक गहरे दबाव में बदल गया है और इसके तेज होकर चक्रवात में बदलने की संभावना है। इस चक्रवात को 'गुलाब' नाम दिया गया है। चक्रवात 'गुलाब' रविवार शाम को 70 से 80 किमी प्रति घंटे और 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ भारत के पूर्वी तट के दो राज्यों (ओडिशा और आंध्र प्रदेश) के तट से टकराने की संभावना है। इसके अलावा आइएमडी ने दोनों स्थानों पर चक्रवात के लिए एक यलो अलर्ट जारी किया है। चक्रवात तूफान का असर देश के कई राज्यों में देखा जाएगा। इसके चलते कई राज्यों में गरज के साथ भारी बारिश का अनुमान जताया गया है।


एनडीआरएफ की टीमें हुईं रवाना

चक्रवात तूफान को लेकर एनडीआरएफ की 18 टीमें ओडिशा और आंध्र प्रदेश जाएंगी राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) तूफान के मद्देनजर अपनी 18 टीमें ओडिशा और आंध्र प्रदेश भेज रही है। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि 13 टीमें ओडिशा और पांच आंध्र प्रदेश भेजी जा रही हैं।

आइएमडी ने एक ट्वीट में कहा कि उत्तर आंध्र प्रदेश और उससे सटे दक्षिण ओडिशा के तटों के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है।

आइएमडी ने इन स्थानों के लिए जारी किया अलर्ट

आइएमडी ने कहा कि आज हल्की और मध्यम बारिश होने की संभावना है। रविवार को कंधमाल, कोरापुट, मलकानगिरी और दक्षिण ओडिशा के अन्य जिलों में अत्यधिक भारी बारिश होगी। आइएमडी ने गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ जिलों में बारिश के लिएआरेंज और यलो अलर्ट जारी किया है।


मौसम विभाग के अनुसार अगले 12 घंटों के दौरान इसके तेज होकर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। इसके लगभग पश्चिम की ओर बढ़ने और 26 सितंबर की शाम तक कलिंगपम के आसपास विशाखापत्तनम और गोपालपुर के बीच उत्तर आंध्र प्रदेश-दक्षिण ओडिशा तटों को पार करने की संभावना है।