राजस्थान: झुंझुनू में 5 वर्ष की मासूम का अगवा कर किया रेप

राजस्थान: झुंझुनू में 5 वर्ष की मासूम का अगवा कर किया रेप

झुंझुनू जिले के पिलानी देवरोड़ मार्ग पर श्योराणों की ढाणी से ऐसी सनसनीखेज वारदात सामने आई है जिसे जानकार आपकी रूह कांप जाएगी. एक दरिन्दे ने पांच वर्ष की मासूम के ऐसा सलूक किया है कि आपकी शरीर का खून खौल उठेगा. केस कुछ ऐसा है कि यहां श्योराणों की ढाणी में एक पांच वर्ष की बच्ची अपने भाई के साथ खेल रही थी, तभी एक दरिन्दे ने उसका किडनैपिंग कर लिया और उसके साथ क्रूर ियत को अंजाम दिया. इसके बाद जब हडकंप मचा तो करीब तीन घंटे के बाद उसे पास के ही दूसरे गांव गाड़ाखेड़ा में एक कुएं के पास खून से लथपथ हालत में पाया गया. इसके बाद आनन-फानन में उसे पास के ही हॉस्पिटल भेजा गया, फिर बाद में जयपुर रेफर कर दिया गया. बताया जा रहा है कि बच्ची अभी भी बेहोश है वहीं दूसरी तरफ घटना के करीब छह घंटे बाद रात 11 बजे 21 वर्षीय आरोपी को अरैस्ट कर लिया गया है.

जानकारी के अनुसार, पांच वर्ष की मासूम शाम के साढ़े 5 बजे अपने 10 वर्ष के भाई के साथ खेल रही थी तभी एक व्यक्ति वहां स्कूटी से आया और बच्ची को उठकार तेजे से निकल गया. इसके बाद बच्ची का भाई आरोपी के गाड़ी के पीछे भागा भी और उसने आरोपी के भागने के दौरान गाड़ी के ऊपर पत्थर भी फेंके पर तब तक वह निकल गया. घटना की सूचना पर पुलिस ने नाकाबंदी की और इसी बीच करीब ढाई-तीन घंटे बाद गाड़ाखेड़ा पुलिस चौकी को सूचना मिली कि  शाहपुर रोड पर एक कुएं के पास रोते हुए एक मासूम मिली है. जो कि खून से सराबोर है. सूचना के बाद चौकी प्रभारी शेरसिंह फोगाट मौके पर पहुंचे.

उन्होंने बच्ची को पास के ही हॉस्पिटल पहुंचाया. लेकिन जब यहां बच्ची की हालत गंभीर हो गई तो उसे जयपुर रेफर कर दिया गया. मासूम के मिल जाने के बाद उसके परिजन हॉस्पिटल पहुंचे. जहां उसकी हालत देख वह भाई बिलख पड़ा जो कुछ देर पहले ही उसके साथ खेल रहा था. इसके बाद हॉस्पिटल में मेडिकल बोर्ड के द्वारा बच्ची का मेडिकल किया गया. इसके बाद मासूम को डाक्टर ढाका और प्रशिक्षु आरपीएस गरिमा जिंदल की नज़र में जयपुर रैफर कर दिया गया. इधर, घटना के करीब छह घंटे बाद रात 11 बजे 21 वर्षीय आरोपी को अरैस्ट कर लिया गया. उसने पूछताछ में सामने आया कि वह मासूम को चॉकलेट के बहाने साथ लेकर गया. 

प्रकरण के बारे में जानकारी देते हुए एसपी, झुंझुनूं मनीष त्रिपाठी ने बताया कि, मासूम के गुनाहगार को किसी मूल्य पर नहीं छोड़ा जाएगा. हम हर सबूत जुटायेंगे और यह तय करेंगे कि जल्द से जल्द जाँच होकर उसे सजा मिले. मुद्दे की पूरी पड़ताल की जा रही है. साथ ही चिड़ावा के प्रभारी डॉक्टर डाक्टर नितेश जांगिड़ ने बताया कि, मैंने अपने अब तक के सेवाकाल में हवस का ऐसा केस मैंने पहले कभी नही देखा- रेयरेस्ट टू रेयर. मासूम के शरीर को बहुत नुकसान हुआ है. मैं बता नहीं सकता. बच्ची बहुत डरी हुई है और कुछ नहीं बता पा रही है.


84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 84वें दिन शुक्रवार को रात आठ बजे तक 32 लाख से ज्यादा लोगों को टीके लगाए गए। इनको मिलाकर लाभार्थियों को अब तक वैक्सीन की कुल 9.78 करोड़ से ज्यादा डोज दी जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान में दी जा चुकी है 9.78 करोड़ डोज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि रात आठ बजे तक मिली अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक कुल नौ करोड़ 78 लाख 71 हजार से ज्यादा टीके लगाए गए हैं।

लाभार्थियों में 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल

60 साल से अधिक उम्र के 3.85 करोड़ लोगों को पहली और 15.80 लाख को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। 45-59 साल वाले 2.81 करोड़ को पहली और 5.79 लाख को दूसरी डोज की गई है।


लाभार्थियों में 1 करोड़ 44 लाख स्वास्थ्यकर्मी शामिल

लाभार्थियों में 89.87 लाख स्वास्थ्यकर्मी (पहली डोज), 54.78 लाख स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी डोज), 98.65 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (पहली डोज) और 46.56 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (दूसरी डोज) भी शामिल हैं।

देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से शुरु हुई


मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को 32,16,949 डोज दी गईं। इनमें से 28,24,066 लोगों को पहली और 3,92,883 लोगों को दूसरी डोज दी गईं। बता दें कि देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी और एक अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को शामिल करने के बाद इसमें तेजी आई है।

वित्त मंत्री ने टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपने मंत्रालय के कर्मचारियों के टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की और सभी लोगों से अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ टीका लगवाने की अपील की। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट में यह जानकारी दी।


देश में 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव, मास्क पहनना, दो गज की दूरी बनाए रखना जरूरी

अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव की अपील का जिक्र किया और इसमें शामिल होने का आग्रह किया। साथ ही उन्होंने सभी कर्मचारियों से कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी उपायों का सख्ती के साथ पालन करने को भी कहा, जिसमें मास्क पहनना, एक दूसरे के बीच दो गज की दूरी बनाए रखना और कुछ-कुछ अंतराल पर अच्छी तरह से हाथ धोते रहना शामिल है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर