बीजेपी नेताओं की उड़ गई नींद, किसान नेता राकेश टिकैत ने इस बार किया ऐसा दावा

बीजेपी नेताओं की उड़ गई नींद, किसान नेता राकेश टिकैत ने इस बार किया ऐसा दावा

गाजियाबाद: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज के दिन भी जारी है। किसान 3 महीने से ज्यादा दिनों से सिंघु बॉर्डर पर डटे हुए हैं। इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने एक दावा करके भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की टेंशन बढ़ा दी है।

टिकैत ने कहा कि इसी महीने आंदोलन के समर्थन में एक बीजेपी सांसद का इस्तीफा होगा, जितने बीजेपी के सांसद हैं, उतने दिन यह आंदोलन चलेगा।

इससे पहले मुजफ्फरनगर की मीरापुर विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक अवतार सिंह भडाना ने तीन कृषि कानूनों पर केंद्र के रुख का विरोध करते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।


बीजेपी के इस बड़े नेता ने किसानों के समर्थन में पहले ही दे दिया था इस्तीफा
भडाना का कहना था कि वो हमेशा किसानों के साथ खड़े रहे हैं और आगे भी रहेंगे। ऐसे में राकेश टिकैत के इस दावे से बीजेपी के कई बड़े नेताओं की नींद उड़ गई है।

सूत्रों की मानें तो इसको लेकर पार्टी के अंदर बातचीत शुरू हो गई है। किसान आंदोलन को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए नई रणनीति पर विचार विमर्श किया जा रहा है।


कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन को और धार देने की तैयारी चल रही है। इसी क्रम में समर्थन जुटाने के लिए किसान नेता राकेश टिकैत इसी महीने पांच राज्यों का दौरा करेंगे।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के एक पदाधिकारी ने इस बाबत  कहा कि बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता और किसान आंदोलन का एक प्रमुख चेहरा टिकैत इसी महीने से राज्यों के दौरे की शुरुआत करेंगे।

बीकेयू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने कहा कि मार्च में उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में किसानों की बैठक की तैयारी चल रही है।

यूपी में भी दो बैठकें होंगी। उन्होंने ने कहा कि राजस्थान में दो बैठकें और मध्य प्रदेश में तीन बैठकें होंगी। 20, 21 और 22 मार्च को अंतिम तीन बैठकें कर्नाटक में होंगी।


84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

84वें दिन 32 लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका, टीकाकरण अभियान में अब तक दी गई 9.78 करोड़ डोज

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 84वें दिन शुक्रवार को रात आठ बजे तक 32 लाख से ज्यादा लोगों को टीके लगाए गए। इनको मिलाकर लाभार्थियों को अब तक वैक्सीन की कुल 9.78 करोड़ से ज्यादा डोज दी जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान में दी जा चुकी है 9.78 करोड़ डोज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि रात आठ बजे तक मिली अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक कुल नौ करोड़ 78 लाख 71 हजार से ज्यादा टीके लगाए गए हैं।

लाभार्थियों में 60 साल से अधिक उम्र के करीब चार करोड़ लोग शामिल

60 साल से अधिक उम्र के 3.85 करोड़ लोगों को पहली और 15.80 लाख को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। 45-59 साल वाले 2.81 करोड़ को पहली और 5.79 लाख को दूसरी डोज की गई है।


लाभार्थियों में 1 करोड़ 44 लाख स्वास्थ्यकर्मी शामिल

लाभार्थियों में 89.87 लाख स्वास्थ्यकर्मी (पहली डोज), 54.78 लाख स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी डोज), 98.65 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (पहली डोज) और 46.56 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (दूसरी डोज) भी शामिल हैं।

देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से शुरु हुई


मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को 32,16,949 डोज दी गईं। इनमें से 28,24,066 लोगों को पहली और 3,92,883 लोगों को दूसरी डोज दी गईं। बता दें कि देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी और एक अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को शामिल करने के बाद इसमें तेजी आई है।

वित्त मंत्री ने टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपने मंत्रालय के कर्मचारियों के टीकाकरण में प्रगति की समीक्षा की और सभी लोगों से अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ टीका लगवाने की अपील की। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट में यह जानकारी दी।


देश में 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव, मास्क पहनना, दो गज की दूरी बनाए रखना जरूरी

अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 11-15 अप्रैल के बीच टीका उत्सव की अपील का जिक्र किया और इसमें शामिल होने का आग्रह किया। साथ ही उन्होंने सभी कर्मचारियों से कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी उपायों का सख्ती के साथ पालन करने को भी कहा, जिसमें मास्क पहनना, एक दूसरे के बीच दो गज की दूरी बनाए रखना और कुछ-कुछ अंतराल पर अच्छी तरह से हाथ धोते रहना शामिल है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर