दिन में एक बार जरूर करें हनुमान जी के इस मन्त्र का जाप

दिन में एक बार जरूर करें हनुमान जी के इस मन्त्र का जाप

हनुमान जी कलियुग के देवता माने जाते है। उनमे अपार शक्ति होने के कारण ही उनका नाम बजरंगबली हनुमान पड़ा था। ऐसी मान्यता है कि जो भी मनुष्य सच्चे मन से हनुमान जी की उपासना करता है उसके सभी दुःख हनुमान जी के द्वारा नाश कर दिए जाते है। आज हम लाये है हनुमान जी का चमत्कारिक और सिद्ध मंत्र जिसके जाप से आप अपनी सभी परेशानियों से छुटकारा प्राप्त कर सकते है।

करें इस मन्त्र का जाप:

इस शाबर मंत्र को गुरु गोरखनाथ जी और नवनाथ द्वारा चौरासी सिद्धों ने मिलकर लिखा था जिसके प्रयोग से मनुष्य सिद्धि प्राप्त कर सकें। इस मंत्र का प्रयोग हिंदू धर्म के अलावा इस्लाम व बाकी दूसरे धर्मों में भी किया जाता हैं।

हनुमान वशीकरण मंत्र:

हनुमान जाग किलकारी, मार तू हुंकारे राम काज सँवारे
ओढ़ सिंदूर सीता मैया, का तू प्रहरी राम द्वारे मैं बुलाऊँ
तू अब आ राम गीत, तू गाता आ नहीं आये तो हनुमाना
श्री राम जी ओर सीता मैया कि दुहाई
शब्द साँचा पिंड कांचा फुरो मन्त्र ईश्वरोवाचा

# शुक्रवार को काले कपड़े पहनकर माला लेंकर हनुमान वशीकरण मंत्र को 5 माला जाप 5 दिनों तक करना चाहिए। 

# पाँचवें दिन हनुमान जी की पूजा करके इस माला को एक गढ्ढा खोद कर उस गड्ढे में डाल कर मिट्टी से ढक कर छोड़ देना चाहिए। इस मंत्र के द्वारा कुछ दिनों बाद आपकी सिद्धि पूर्ति अवश्य हो जाएगी।


इन तरीकों से करें मां लक्ष्मी की पूजा और पूरी होगी हर मनोकामना

इन तरीकों से करें मां लक्ष्मी की पूजा और पूरी होगी हर मनोकामना

हमें सालभर दीवाली का बेसब्री से इंतजार किया जाता है और दीवाली की तैयारियों की जिम्मेदारी आमतौर पर महिलाएं ही निभाती हैं। बात चाहे रिश्तेदारों और परिचितों को गिफ्ट देने की हो, या घर के लिए नई खरीदारी करने की और इससे भी अहम लक्ष्मी पूजन की, इन सभी चीजों में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

मां लक्ष्मी की पूजा को बनाएं सफल

# घर से अवांछित सामान जैसे कि पुराने कपडे़, जूते, डिब्बे आदि हटा दें। यह सामान नकारात्मक ऊर्जा का स्रोत होता है और आर्थिक अवसरों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। 

# लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए भली प्रकार से पूजन करना भी आवश्यक है। जिस कक्ष में पूजा स्थल बनाएं, वहां ताजा हवा व रोशनी का पर्याप्त प्रबंध होना चाहिए।

# अपने प्रेम व देखरेख से मकान को घर बनाने वाली होती हैं महिलाएं। शास्त्रों में भी वर्णित है कि जिस घर में स्त्री का आदर-मान नहीं होता, वहां दरिद्रता वास करती है।